23 OCTFRIDAY2020 5:37:50 AM
Nari

आर्थिक तंगी से जूझ रहे आदित्य नारायण, बोले- पूरी बचत खत्म हो गई, अकाउंट में बचे बस इतने पैसे

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 15 Oct, 2020 10:21 AM
आर्थिक तंगी से जूझ रहे आदित्य नारायण, बोले- पूरी बचत खत्म हो गई, अकाउंट में बचे बस इतने पैसे

बॉलीवुड इंडस्ट्री के जाने माने सिंगर आदित्य नारायण इन दिनों अपनी शादी को लेकर काफी चर्चा में हैं लेकिन हाल ही में आदित्य एक बार फिर मीडिया सुर्खियों में छा गए हैं। दरअसल इस बार वो अपनी शादी को लेकर नहीं बल्कि अपनी तंग जेब की वजह से चर्चा में आए हैं। जी हां...दरअसल खबरें आ रही हैं कि आदित्य नारायण की इन दिनों आर्थिक हालत ठीक नहीं हैं। 

PunjabKesari

यह तो सब जानते हैं कि कोरोना के कारण लोगों की जेब पर काफी असर पड़ा है। लोगों की आर्थिक हालत इतनी कमजोर हो गई है उनकी सारी बचत भी खत्म होती जा रही है और इसी कोरोना का असर आदित्य की जेब पर भी पड़ा है। कोरोना के चलते फिल्म इंडस्ट्री भी काफी देर बंद ही रही जिससे आदित्य नारायण के पास पैसे कमाने का भी कोई सोर्स नहीं बचा था। इतना ही नहीं मीडिया रिपोर्टस की मानें तो दिनों दिन उनकी बचत भी खत्म होती जा रही है।

मेरी पूरी बचत खत्म हो गई : आदित्य 

अपनी आर्थिक हालत पर बात करते हुए आदित्य ने कहा, 'अगर सरकार लॉकडाउन आगे बढ़ाती तो लोग भूख से मरने लग जाते। मेरी पूरी बचत खत्म हो गई है। जितने भी पैसे मैंने म्युचुअल फंड्स में लगाए थे वह मुझे सब वापस लेने पड़े।'

PunjabKesari

मेरे खाते में 18,000 रुपये बाकी हैं : आदित्य 

आदित्य नारायण ने आगे कहा,' किसी ने भी कोई योजना नहीं बनाई थी कि अगर वह एक साल तक काम नहीं करेंगे तो क्या करेंगे। कोई भी ऐसे प्लानिंग नहीं बनाता है। जब तक आप कुछ अरबपतियों की तरह नहीं हैं। तो कोई चारा नहीं है। जैसे मेरे खाते में 18,000 रुपये बाकी हैं। इसलिए अगर मैं अक्टूबर तक काम करना शुरू नहीं करता हूं, तो मेरे पास पैसे नहीं होंगे। मुझे अपनी बाइक या कुछ और बेचना होगा। यह वास्तव में मुश्किल है। आखिरकार, आपको कुछ कड़े कदम उठाने पड़ते हैं और कई लोग इसे गलत भी बता सकते हैं।' 

PunjabKesari

पैसे के बिना सर्वाइव करना मुश्किल

आदित्य ने आगे कहा,'अगर आप के पास पैसे नहीं होगें तो आफ कैसे सर्वाइव कर पाएंगे। हो सकता है मुझे बाइक भी बेचनी पड़ेगी। आपको दिन के अंत में कुछ सख्त निर्णय लेने पड़ते हैं लेकिन शायद कईं बार आप अपने उन निर्णयों से सहमत नहीं होते हैं।'

Related News