20 SEPSUNDAY2020 9:23:27 AM
Nari

इंसानियत की मिसाल! खुद भूखी रही, ताकि कुत्तों को मिल सके खाना

  • Edited By neetu,
  • Updated: 16 Sep, 2020 04:04 PM
इंसानियत की मिसाल! खुद भूखी रही, ताकि कुत्तों को मिल सके खाना

दुनियाभर में कोरोना का कहर तेजी से फैल रहा है। इसने आज करोड़ों की गिनती में लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। बात इससे मरने वाले लोगों की गिनती कि करें तो लाखों की संख्या में लोग इस वायरस की चपेट में आकर अपनी जान गवां बैठे। इससे बचने के लिए देशभर में लॉकडाउन किया गया। ऐसे में लॉकडाउन के कारण लोगों की जिंदगियों पर गहरा असर पड़ा। काम न होने के कारण भारी संख्या में मजदूर अपने घर लौट गए। मगर बात अगर अवारा कुत्तों की करें तो वे सड़कों पर भूखे प्यासे घूम रहें है। मगर इनमें से ही एक महिला सामने आई है जो खुद भूखे रह कर कुत्तों का पेट भरने का काम कर रही है। 

चेन्नई की रहने वाली है यह महिला

बात अगर उस महिला की करें तो यह चेन्नई की रहने वाली है। इनका नाम मीना है। इस महिला ने कुल 13 कुत्तों को पाल रखा है। वह खुद दिन में सिर्फ 1 बार खाना खाती है। ताकि अपने कुत्तों को भरपेट खाना मिल सके।

लोगों के घर जाकर करती है काम 

चेन्नई की रहने वाली 39 वर्ष की मीना का घर लाला थोटम कोलोनी में है। कुत्ते से अधिक प्यार व सहानुभूति होने के चलते मीना ने 13 कुत्तों को पाल रखा है। वह इन्हें पालने व भर पेट खाना खिलाने के लिए लोगों को घर खाना बनाने व साफ-सफाई का काम करती है। इसके साथ ही अपने इन कुत्तों की देखभाल अच्छे से करने के लिए मीना ने आज तक शादी भी नहीं की है। उसका मानना है कि उसके बाद उसे ये कुत्ते कही बेसहारा न हो जाए। 

nari,PunjabKesari

खुद भूखी रह कुत्तों का भरती है पेट 

लॉकडाउन में खाने की कमी न हो इसके लिए मीना ने पहले ही अपने मालिक मकानों से अडवांस में ही सैलरी मांगी। मगर उसे सिर्फ दो लोगों ने ही पैसे दिए। ऐसे में उन पैसों से मीना ने चावल और अपने कुत्तों के लिए पेडिग्री खरीद कर स्टोर कर लिया था। उसके कुत्तों को पेटभर खाना खिलाने का ध्यान रखते हुए उसने खुद का खाना कम कर दिया। 

मीना के अनुसार कुत्तों की सेवा करने का मतलब भगवान से जुड़ना है

इस बारें में जब मीना से बात की गई तो उसपर उसने कहा कि, उसके कुत्तों से बहुत ही लगाव है। साथ ही वे मानती है कि इनकी सेवा करना व ध्यान रखना भगवान से जुड़ने के बराबर है। वह सुबह ही लोगों के घरों में काम करने के लिए चली जाती है। साथ ही उसने अपने बारे में बताते हुए कहा कि, उसे खाने का ज्यादा शौक नहीं है। ऐसे में अगर उसे कही से कुछ खाने की चीज मिलती भी है तो वह उसे अपने कुत्तों को दे देती है। मीना अपने पालतू 13 कुत्तों के साथ सड़क पर घूम रहें अवारा कुत्तों को भी खाना खिलाने में खुशी पाती है। 

nari,PunjabKesari

एनजीओ कर रहा मीना की मदद 

मीना ने बताया कि उसका राशन खत्म होने के बाद बहुत से एनजीओ ने उसकी मदद की। उसे राशन दान किया। साथ ही वह कहती है कि, उसे जो राशन मिलाकर वह ज्यादा नहीं है पर फिर भी वह खुद भूखी रहकर अपने कुत्तों को भर पेट खाना जरूर खिलाएगी। 

Related News