15 AUGMONDAY2022 10:26:47 PM
Nari

Commonwealth Games: पिता की मौत भी नहीं तोड़ पाई तूलिका मान की हिम्मत, भारत को दिलाया Silver

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 04 Aug, 2022 12:29 PM
Commonwealth Games: पिता की मौत भी नहीं तोड़ पाई तूलिका मान की हिम्मत, भारत को दिलाया Silver

भारत की एक और बेटी ने  राष्ट्रमंडल खेलों में शानदार प्रदर्शन कर रजत पदक अपने नाम कर लिया है।  भारतीय जूडो खिलाड़ी तूलिका मान को कॉमनवेल्थ गेम्स के महिलाओं के 78 किग्रा वर्ग के फाइनल में स्कॉटलैंड की सारा एडलिंगटन के खिलाफ शिकस्त के साथ रजत पदक से संतोष करना पड़ा। पहली बार गोरखपुर विश्वविद्यालय के दो विद्यार्थियों ने कॉमनवेल्थ गेम्स में दो पदक हासिल कर कीर्तिमान बनाया है।

PunjabKesari
बुधवार को ही दो मुकाबले जीतकर फाइनल में जगह बनाने वाली तूलीका फाइनल में अधिकांश समय आगे चल रही थी लेकिन एडलिंगटन ने इसके बाद ‘इपोन’ (प्रतिद्वंद्वी को पीठ के बल जोर से पटकना) की बदौलत स्वर्ण पदक जीत लिया। एडलिंगटन ने तूलिका को काफी ताकत के साथ पटक दिया जिससे भारतीय खिलाड़ी पीठ के बल गिर गई और मुकाबला निर्धारित समय से 30 सेकेंड पहले ही खत्म हो गया। दिल्ली की 23 साल की तूलिका ने रजत पदक जीतकर शानदार प्रदर्शन किया और भारत को जूडो का बर्मिंघम खेलों में तीसरा पदक दिलाया।

PunjabKesari
इससे पहले चार बार की राष्ट्रीय चैम्पियन तूलिका दिन के अपने पहले मुकाबले में पिछड़ रही थीं लेकिन इपोन की बदौलत न्यूजीलैंड की सिडनी एंड्रयूज को सेमीफाइनल में तीन मिनट के भीतर हराकर फाइनल में पहुंच गयीं। भारत ने अभी तक जूडो स्पर्धा में तीन पदक जीत लिये हैं। एल सुशीला देवी और विजय कुमार ने सोमवार को क्रमश: महिला 48 किग्रा वर्ग और पुरूष 60 किग्रा वर्ग में रजत और कांस्य पदक जीते थे।

PunjabKesari

कहा जाता है कि तूलिका मान जब 14 साल की थी तब उनके पिता सतबीर मान की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना के बाद उन्हें गहरा सदमा लगा था। ऐेसे समय में मां ने बेटी को टूटने से बचाया और हौसला दिया। वह 2019 में  साउथ एशियन गेम्स (South Asian Games) में गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुकी है। 

Related News