30 JULFRIDAY2021 1:39:18 AM
Nari

चिड़चिड़ापन रहेगा और दर्द भी, ये 6 गलतियां आपको बार-बार देगी Vaginal Infection

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 24 Jun, 2021 01:01 PM
चिड़चिड़ापन रहेगा और दर्द भी, ये 6 गलतियां आपको बार-बार देगी Vaginal Infection

अक्सर महिलाएं प्राइवेट पार्ट की समस्याओं को लेकर किसी से भी बात करने में झिझक या शर्म महसूस करती है लेकिन आपकी यह एक गलती आगे चलकर बड़ी परेशानियों का कारण बन सकती है। महिलाओं को प्राइवेट पार्ट में इंफेक्शन किसी भी कारण हो सकता है लेकिन शादीशुदा लड़कियों को इंटरकोर्स के बाद इंफेक्शन का ज्यादा खतरा रहता है। बेशक यह जानलेवा नहीं होती लेकिन समय रहते ध्यान ना दिया जाए तो यह कई दिक्कतें खड़ी कर सकता है। ऐसे में आपको यह पता होना चाहिए कि वैजाइना इंफेक्शन कब नॉर्मल है और कब इसे लेकर चिंता करनी चाहिए।

किन चीजों से पड़ता है वैजाइनल हेल्थ पर उसर?

. असंतुलिस हॉर्मोन्स
. एंटिबायोटिक्स मेडिसन का अधिक सेवन
. असुरक्षित यौन संबंध
. प्रेगनेंसी या स्तनपान

PunjabKesari

दिखें ये लक्षण तो तुरंत करें डॉक्टर से संपर्क?

-संबंध बनाते या पेशाब करते समय तेज दर्द होना
-वैजाइना में लगातार खुजली, लालपन व रैशेज
-बदबूदार या गहरे रंग का डिस्चार्ज होना
-लोअर एब्डोमेन व वैजाइना के अंदरूनी हिस्से में दर्द, सूजन या जलन।
-वैजाइना की आसपास की स्किन में जलन या रैशेज होना।

कितने तरह के होते हैं वैजाइनल इनफेक्शन?

. यीस्ट इंफेक्शन

फंगस कैंडिडा के कारण होने वाला यह सबसे आम वैजाइनल इंफेक्शन है जो असंतुलिस हॉर्मोन्स, प्रेगनेंसी, बर्थ कंट्रोल पिल्स, पीरियड्स, डायबिटीज या HIV संक्रमण से जूझ रहे लोगों को हो सकता है। इसके अलावा कारण लगातार खुजली या रेडनेस की समस्या हो सकती है।

बैक्टीरियल वैजिनॉसिस

जब वैजाइना में गुड बैक्टीरिया लैक्टोबैसिलाई बैक्टीरिया की संख्या कम हो जाती है तो बैक्टीरियल वैजिनॉसिस की कंडीशन पैदा होती है। इसके कारण सफेद, मछली जैसी बदबू का डिस्चार्ज होता है।

PunjabKesari

ट्रायकोमोनियासिस

असुक्षित इंटरकोर्स के कारण ट्रायकोमोनास वैजिनैलिस महिलाओं के शरीर में ट्रांसफर हो जाता है। इसके कारण वैजाइना में जलन, सूजन, पेशाब करते समय दर्द और वल्वा में लालपन हो सकता है।

क्लैमिडिया

क्लैमिडिया भी सेक्शुएली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन है जो सर्विक्स तक फैल जाता है। इसके कारण कुछ महिलाओं को पीरियड के अलावा भी ब्लीडिंग हो सकती है।

गोनोरिया

गोनोरिया इंफेक्शन भी असुरक्षित यौन संबंध बनाने से हो सकती है। इसके कारण पेशाब करते वक्त दर्द, वैजाइनल डिस्चार्ज हो सकता है। आमतौर पर इस इंफेक्शन के लक्षण 10 दिनों के अंदर नजर आते हैं।

नॉन-इनफेक्शियस वैजिनाइटिस

यह एक तरह की एलर्जी है जिससे वैजाइनल में जलन, खुजली, लालपन, दर्द हो सकता है। ज्यादा यह समस्या खुशबूदार साबुन, परफ्यूम, गलत फैब्रिक की अंडरवियर पहनने से होता  है।

PunjabKesari

भूलकर भी ना करें ये गलतियां

1. प्राइवेट पार्ट की सफाई के लिए हार्श कैमिकल्स वाला साबुन या प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल। 
2. कपड़े से वेजाइना साफ करने की गलती ना करें क्योंकि कपड़े में कई तरह के बैक्टीरिया होते हैं। 
3. प्राइवेट पार्ट में वेजाइना वाश, पाउडर, डीओ या परफ्यूम लगाने से बचें क्योंकि ये शरीर के अंदर जाकर नुकसान पहुंचाते हैं।
4.  हेयर रिमूव करने में आनाकानी ना करें नहीं तो रैशेज व खुजली होगी। खासकर गर्मियों में प्राइवेट पार्ट की सफाई का पूरा ध्यान रखें।
5. पीरियड्स में सेनेटरी नैपकिन को हर 5 से 7 घंटे में बदलना चाहिए। 
6. कॉटन के अंडरगार्मेंट्स का इस्तेमाल करें और रोजाना बदलें। धोने के बाद इसे धूप में सुखाएं।

Related News