03 OCTMONDAY2022 10:57:40 PM
Nari

घर में रखे हैं लड्डू गोपाल तो पूजा में जरुर चढ़ाएं ये 5 प्रिय वस्तुएं, बरसेगी कान्हा की कृपा

  • Edited By palak,
  • Updated: 26 Aug, 2022 03:10 PM
घर में रखे हैं लड्डू गोपाल तो पूजा में जरुर चढ़ाएं ये 5 प्रिय वस्तुएं, बरसेगी कान्हा की कृपा

हर साल भाद्रपद की अष्टमी तिथि के दिन जन्माष्टमी मनाई जाती है। जन्माष्टमी श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रुप में मनाई जाती है। इस बार जन्माष्टमी दो दिन यानी आज और कल के दिन मनाई जा रही है। आजकल बहुत से लोगों ने घर पर लड्डू गोपाल रखे होते हैं। जन्माष्टमी पर आप लड्डू गोपाल की पूजा के लिए उन्हें ये 5 चीजें अर्पित करके उनका आशीर्वाद पा सकते हैं। तो चलिए आपको बताते हैं कि कौन सी चीजें आप लड्डू गोपाल की पूजा में शामिल कर सकते हैं... 

श्रीकृष्ण की प्रिय बांसुरी 

आप श्री कृष्ण की प्रिय बांसुरी पूजा में इस्तेमाल कर सकते हैं। बांसुरी श्रीकृष्ण को बहुत ही पसंद है। इसकी मीठी धुन से भगवान श्रीकृष्ण पूरे वृंदावन को मोह लेते थे। मान्यताओं के अनुसार, श्रीकृष्ण की पूजा में बांसुरी रखने से भक्तों पर उनकी विशेष कृपा बनती है। 

PunjabKesari

गाय रखें

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, श्रीकृष्ण गोमाता की भी बहुत ही सेवा किया करते थे। कान्हा जी को गोमाता से बहुत लगाव था। इसलिए लड्डू गोपाल को लगाए जाने वाले भोग के लिए गाय का घी ही इस्तेमाल किया जाता है। जन्माष्टमी की पूजा में आप गोमाता की मूर्ति रख सकते हैं। 

PunjabKesari

 धनिया पंजीरी

ज्योतिषाशास्त्रों के अनुसार, धनिया को धन से जोड़ा जाता है। आप जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण की पूजा के लिए धनिया पंजीरी भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि श्रीकृष्ण को धनिया पंजीरी भी बहुत ही पसंद है। पूजा में आप धनिया पंजीरी का भोग श्रीकृष्ण को लगा सकते हैं। 

PunjabKesari

माखन-मिश्री

मान्यताओं के अनुसार, श्रीकृष्ण को बचपन से ही माखन और मिश्री बहुत पसंद था। वह अपने दोस्तों के साथ इसे चुराने भी जाया करते थे। इसलिए उनके भोग में माखन मिश्री का विशेष रुप से इस्तेमाल किया जाता है। श्रीकृष्ण को माखन-मिश्री का भोग भी लगाया जाता है।  

PunjabKesari

मोर पंख 

भगवान श्रीकृष्ण के मुकुट में मोर पंख का भी विशेष महत्व होता है। उनकी प्रिय वस्तुओं में मोर-मुकुट भी शामिल है। इसलिए मान्यताओं के अनुसार, कान्हा जी की पूजा में आप मोर पंख का इस्तेमाल भी जरुर करें। मान्यताओं के अनुसार, यहां मोर पंख होता है। वहां पर नकरात्मकता भी नहीं होती। 

PunjabKesari

Related News