22 SEPWEDNESDAY2021 5:39:27 AM
Nari

सावन महीने में घर ले आएं चीजें, गुडलक में बदल जाएगा बैडलक

  • Edited By neetu,
  • Updated: 29 Jul, 2021 01:26 PM
सावन महीने में घर ले आएं चीजें, गुडलक में बदल जाएगा बैडलक

सावन का पवित्र महीना चल रहा है। मान्यता है कि इस दौरान शिवलिंग का जलाभिषेक व पूजा करने का विशेष कृपा मिलती है। ऐसे में इस मास में हर जगह भोलेनाथ के जयकारे सुनाई देते हैं। शिवपुराण की कथा अनुसार, इस पवित्र महीने में ही समुद्र मंथन हुआ था। इस दौरान शिव जी ने भक्तों व धरती को बचाने के लिए मंथन से निकलने वाले हलाहल विष को अपने कंठ यानि गले में धारण किया था। इसके कारण उनका कंठ एकदम नीला पड़ गया था। ऐसे में भक्तों द्वारा उन्हें नीलकंठ के नाम से पुकारा जाने लगा। मान्यता है कि ठीक उसी तरह आज के युग में भी भक्तों को समस्याओं से बचने के लिए शिव जी आते हैं। वहीं वास्तु अनुसार, इस पावन महीने दौरान कुछ उपाय करने से भाग्य का साथ मिलता है।


चलिए जानते हैं उन उपायों के बारे में...


अर्द्धनारीश्‍वर स्‍वरूप की करें स्‍थापना

घर की पूर्व दिशा भोलेनाथ की मानी जाती है। इसलिए इस दिशा की सफाई का विशेष ध्यान रखें। इसके साथ ही सावन मास में घर की इस दिशा पर भगवान शिव के अर्द्धनारीश्‍वर रूप की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें। अगर मूर्ति सफेद संगमरमर के एक पत्थर से बनी हो तो यह बेहद शुभ होगा। मान्यता है कि इससे घर में सुख-समृद्धि, शांति व खुशहाली का वास होता है। साथ ही मैरिड लाइफ खुशनुमा बीतती है।

PunjabKesari

धतूरे का पौधा भय से दिलाए मुक्ति

धतूरा भोलेनाथ की प्रिय चीजों में से एक है। इसलिए उनकी पूजा में विशेष तौर पर धतूरा अर्पित किया जाता है। मान्यता है कि इससे भय से मुक्त होता है। साथ ही जीवन की अन्य समस्याओं से छुटकारा मिलता है। वहीं सावन के पवित्र महीने में घर के बाहर धतूरे का पौधा लगाना बेहद शुभ रहेगा।

रुद्राक्ष से जीवन की समस्त परेशानियों से मिलेगी मुक्ति

रुद्राक्ष को भगवान शिव का अंश माना जाता है। शिवपुराण के अनुसार, इसकी उत्पत्ति भोलेनाथ के आंसूओं से मानी जाती है। रुद्राक्ष की माला धारण व इससे जप करना बेहद शुभ माना जाता है। मान्यता है कि इससे कुंडली के अशुभ ग्रहों का प्रभाव होता है। मानसिक शांति व सुकून का अहसास होता है। आप इसे सावन के पवित्र महीने में धारण कर सकती है। दो मुखी रुद्राक्ष परिवार में एकता व प्यार बनाएं रखने में मदद करता है। इसके अलावा गौरी शंकर रुद्राक्ष पहनने से वैवाहिक जीवन में चल रही परेशानी दूर होकर रिश्ते में मिठास आती है।

PunjabKesari

जल स्त्रोत से बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा

वास्तु अनुसार, घर की पूर्व दिशा में भगवान का वास होता है। ऐसे में सावन मास में इसे ऊर्जावान बनाने के लिए यहां पर कोई जल स्त्रोत जरूर लगाएं। आप यहां पर छोटा सा वाटर फाउंटेन लगा सकती है।

PunjabKesari

तुलसी की सेवा करना शुभ

सावन महीने के दौरान चतुर्मास भी होता है। ऐसे में इस समय तुलसी की पूजा बेहद शुभ माना जाता है। इसके लिए मिट्टी के गमले में तुलसी का पौधा लगाकर घर की उत्तर दिशा में रखें। रविवार को छोड़कर बाकी के दिनों में रोजाना सुबह इसे जल अर्पित करें। साथ ही शाम को घी या तेल का दीपक जलाकर पूजा करें। मान्यता है कि इससे घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक में बदल जाती है। घर में देवी-देवताओं का वास होने के साथ पूर्वजों का आशीर्वाद मिलता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, कुंवारी कन्याओं द्वारा तुलसी का पौधा लगाने व पूजा करने से उन्हें योग्य व मनचाहा वर मिलता है।

 

 

 

Related News