22 SEPWEDNESDAY2021 5:32:59 AM
Nari

मानसून में डायपर से हो जाते हैं शिशु को रैशेज तो अपनाएं ये 5 टिप्स

  • Edited By neetu,
  • Updated: 27 Jul, 2021 02:54 PM
मानसून में डायपर से हो जाते हैं शिशु को रैशेज तो अपनाएं ये 5 टिप्स

मानसून के मौसम में शिशु को खास देखभाल की जरूरत होती है। इस दौरान मौसम में नमी होने से बच्चे का बीमार पड़ने का खतरा अधिक रहता है। वहीं इस समय बच्चे को दिनभर डायपर पहनाने से उसे संक्रमण होने का खतरा रहता है। असल में, जिस तरह मानसून नमी वाला मौसम होता है। ठीक उसी तरह बच्चा डायपर में महसूस करता है। वहीं मौसम में बदलाव आने से बच्चा अधिक यूरिन भी करता है। साथ ही नमी के कारण बच्चे को असुविधा का अहसास भी होता है। इसके कारण कई बार शिशु की स्किन में रैशेज, रेडनेस या संक्रमण होने का खतरा रहता है।

 

ऐसे में आज हम आपको कुछ खास टिप्स बताते हैं, इससे आपको मानसून के दौरान बच्चे के डायपर क्षेत्र को साफ, सूखा और स्वस्थ रखने में मदद मिलेगी।

1. बच्चे के डायपर गंदा करने पर उसे तुंरत बदलें

अक्सर महिलाएं लंबे समय तक बच्चे को डायपर पहनाएं रहती है। मगर बच्चे के यूरिन करने के तुरंत बाद इसे बदलने की जरूरत होती है। वहीं गंदा डायपर लंबे समय तक पहनाएं रखने से शिशु को संक्रमण और परेशानी हो सकती है। इसलिए बच्चे का डायपर गंदा करने के तुरंत बाद इसे उतारकर उसकी स्किन को माइल्ड क्लींजर और पानी से धोकर अच्छे से सुखाएं। आप बच्चे की स्किन पर एंटी-रैश पाउडर का उपयोग कर सकती है। मगर इसका इस्तेमाल तब करें जब आपका शिशु असहज महसूस करें।

PunjabKesari

2. लंबे समय तक डायपर पहनाने से बचें

अगर आप शिशु के दिनभर डायपर पहनाएं रखती है तो अपनी इस आदत को बदल लें। इसके लिए बच्चे को दिनभर कुछ घंटे बिना डायपर के रहने दें। इससे उसकी स्किन को अच्छे से सांस लेने में मदद मिलेगी। साथ ही उसका रैशेज, जलन आदि स्किन संबंधी समस्याओं से बचाव रहेगा। आप इस समय बच्चे को कपड़े की नैपी पहना सकती है। इसके अलावा बच्चा बिस्तर ना गंदा कर दें इससे बचने के लिए बेड के नीचे तौलिया तौलिया रख सकती हैं। बच्चे का डायपर एरिया बेहद ही कोमल और संवेदनशील होता है। ऐसे में इसे संक्रमण का खतरा है, इसलिए पूरे दिन डायपर पहनाने से बच्चे को परेशानी हो सकती है।

PunjabKesari

3. सही चीजों का करें चुनाव

बाजार में बच्चे के लिए बहुत सी कंपनी का सामान मिलता है। मगर इसे हमेशा अच्छी कंपनी की ही खरीदें। आप बच्चे के डायपर वाइप्स या डायपर रैश क्रीम आदि सब चीजें नैचुरल खरीदें। कैमिकल्स वाले प्रॉडक्ट्स से बच्चे को स्किन एलर्जी हो सकती है। इसके कारण बच्चे की स्किन में जलन, खुजली, रैशेज की समस्या होने का खतरा रहता है। इसलिए हमेशा कैमिकल, साबुन व अल्कोहल फ्री उत्पादों का सामान खरीदें।

4. अच्छी क्वालिटी का डायपर खरीदें

मानसून दौरान मौसम ठंडा होने से शिशु बार-बार यूरिन करता है। ऐसे में उसे बार-बार डायपर बदलने की जरूरत पड़ती है। इसलिए ऐसे डायपर को खरीदने तो ज्यादा सोखने वाला और हल्का हो। ताकि बच्चे के यूरिन करने से वह उसे तुरंत सोख लें। नहीं तो गीला डायपर पहनने से बच्चा असुविधा महसूस कर सकता है। इसके अलावा डायपर कोमल होने से शिशु की स्किन को किसी तरह की कोई एलर्जी नहीं होगी। वैसे आपको बाजार में एलोवेरा आदि नेचुरल चीजों से तैयार डायपर आसानी से मिल जाएंगे। ऐसे में आप उसे खरीद सकती है।

PunjabKesari

5. सही आकार का डायपर खरीदें

हमेशा बच्चे के साइज का डायपर खरीदें। इस बात का ध्यान रखें कि डायपर बच्चे को ज्यादा टाइट या ढीला ना हो। ज्यादा टाइट डायपर से बच्चे को असुविधा हो सकती है। साथ ही इससे शिशु की स्किन को अच्छे से सांस ना मिलने से संक्रमण पैदा होने का खतरा रहता है। दूसरी ओर ढीला डायपर पहने से बच्चे के यूरिन करने से उसे कपड़े व शरीर गंदा हो सकता है। इसलिए डायपर खरीदने से पहले बच्चे के साइज का खास ध्यान रखें।

इन टिप्स को फॉलो करके आप शिशु के मानसून दौरान डायपर रैशेज से बचा सकती है।

 

Related News