01 OCTSATURDAY2022 1:57:08 AM
Nari

चालान भरने के लिए बेच दिया मां का मंगलसूत्र, मजबूरी देख एआरटीओ ने खुद भर दिए 24,500 रुपये

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 08 Aug, 2022 06:38 PM
चालान भरने के लिए बेच दिया मां का मंगलसूत्र, मजबूरी देख एआरटीओ ने खुद भर दिए 24,500 रुपये

ड्राइविंग करते समय अकसर सही खौफ रहता है कि कहीं चलान ना कट जाए। क्योंकि कई बार गाड़ी की कीमत से ज्यादा चलान कट जाते हैं, इसके रकम भी  हजारों से लेकर लाखों तक पहुंच रही है। एक युवक चलान से इस कदर डर गया कि उससे बचने के लिए उसने अपनी मां का मंगलसूत्र तक दांव पर लगा दिया। 

PunjabKesari

यह वाक्या है उत्तर प्रदेश का, जहां एक शख्स के ऑटो का किसी ने  24,500 रुपये का चालान काट दिया।  एक आंख से दिव्यांग राजकुमार की 6 बेटियां हैं और एक बेटा है, वह किसी तरह ऑटो से अपने परिवार को खर्चा चला रहे थे। चालान भरने के लिए राजकुमार के बेटे विजय कुमार को मजबूरन अपनी मां का मंगलसूत्र बेचना पड़ा। जब वह चालान को जमा कराने एआरटीओ कार्यालय पहुंचा तो एआरटीओ आरसी भारती ने पैसों के बारे में जानना चाहा। 

PunjabKesari
विजय ने बताया कि मां ने मंगलसूत्र बेचकर 13 हजार रुपये दिए हैं। एआरटीओ के सामने अपनी कहानी सुनाने के दौरान वह फूट- फूट कर रोने लगा। उसने बताया कि- पिता राजकुमार ऑटो चलाते हैं और उन्हें एक आंख से दिखता भी कम है।  वह इस उम्मीद से यहसं आया है कि शायद कुछ रकम माफ हो जाए। उसने यह भी बताया कि परिवार में छह बहने हैं, एक बहन की शादी हुई है। 

PunjabKesari
यह पूरी कहनी सुनने के बाद एआरटीओ ने चालान की पूरी रकम खुद जमा करने के साथ ही टेंपो का इंश्योरेंश कराया। इसके बाद कुछ नकद राशि देकर भविष्य में हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया। एआरटीओ आरसी भारती ने  विजय से यह कहा कि जो पैसे लेकर आए हो उसे लेकर जाओ और मंगलसूत्र छुड़ाकर मां को वापस दे देना। 

Related News