20 OCTTUESDAY2020 6:39:30 AM
Nari

ऐसी क्या नाराजगी की नन्ही जान का खौलते हुए तेल में डाल दिया हाथ?

  • Edited By shipra rana,
  • Updated: 15 Mar, 2020 05:47 PM
ऐसी क्या नाराजगी की नन्ही जान का खौलते हुए तेल में डाल दिया हाथ?

जब-जब घर में बेटी जन्म लेती है तब-तब जन्म देने वाली मां भी रात भर सिसकियां लेती है। ऐसा हम नहीं बल्कि इतिहास कहता है। कही न कही इस बात में बहुत सच्चाई है। अब लुधियाना की बात ही ले लीजिए, वहां पर एक दादी अपनी पोती से इतनी नाराज थी कि उन्होंने खौलते हुए तेल में अपनी नन्ही पोती का हाथ डाल दिया। पोती दर्द से तड़प उठी, चिल्लाती रही मगर दादी ने न तो उसका हाथ निकाला और न ही अपने दिल से उसके लिए नाराजगी। 

 

क्या है पूरा मामला ?

बात शाम 7.30 बजे की है। उस दिन सास (दर्शना) ने अपनी बहू (संगीता) को बहुत पीटा था। बहू यानी कि पीड़ित बच्ची (हेजल) की मां का कहना है कि वो इस हादसे के वक्त दूसरे कमरे में थी। दादी पोती को लेकर किचन में गई और वहां कढ़ाई में गर्म तेल पड़ा हुआ था। वो तेल पूरी तरह से खौल रहा था। दादी ने पोती का हाथ लिया और झट से उसमें डाल दिया। यही-नहीं वो पूरी देर तक पोती के हाथ को उस तेल में रख जबतक कि मां ने आकर सास से लड़ाई न की, जैसे ही बहू आई उसने बहुत मुश्किल से अपनी सास का हाथ छुड़वाया। बहू ने अपनी सास को दरवाजे में बंद कर दिया और वहां से चली गई। इस बात की पूरी जानकारी उसने अपने पति (दीपक) को दी और अपने ताए के बेटे को बुलाया। वो उन्हें हॉस्पिटल लेकर गया। 

PunjabKesari

बेटा भी है मां की इस हरकत से परेशान 

बेटा यानी पीड़ित बच्चे के पिता ने यह खुलासा किया कि उसकी मां पहले भी उनकी बेटी को मारने की कोशिश कर चुकी है। उन्होंने बताया कि 'मां को लड़कियां बिलकुल भी पसंद नहीं है' उन्होंने कहा कि' जब मेरी बीवी दूसरी बार प्रेग्नेंट हुई तो उन्होंने मुझे ऐसी दवाई लाने को कहा जिससे सिर्फ बेटा हो सके। जैसे ही बेटी हेजल ने जन्म लिया, मां नाराज हो गई। यही-नहीं एक बार पहले भी मां ने मेरी बेटी को मारने की कोशिश की थी। उन्होंने मेरी को बेटी को उठाया और अंदर कमरे में ले गई। दरवाजा बंद कर दिया और हम लोग बाहर से चीखते रहे। मेरी बेटी बेहोशी की हालत में थी,तौलिए में बंधी हुई तब भी हमने पुलिस में कंप्लेंट की थी मगर रिश्तेदारों की वजह से चुप रहे। 

PunjabKesari

पोती को बेचने का प्लान भी था बनाया 

बतादें कि बहू ने खुद बताया है कि उसकी सास ने किसी आदमी से बेटी को बेचने की बात भी कर ली थी, वो उसे बेचने ही वाली थी एन मौके पर संगीता ने अपनी बेटी को बचा लिया। सास हमेशा बहू से लड़ने के मौके ढूंढती और पोती को पीटती भी थी। लेकिन उस दिन जब बेटी का हाथ जला था तब सास के चेहरे पर हैवानियत देख बहू की रूह कांप गई। बतादें कि संगीता का अभी एक 10 साल का बेटा भी है, फिर भी दादी पोती को मारना चाहती है। न जाने वो अपनी दादी का यह रूप देखकर क्या सीख रहा होगा। 

Related News