05 JULTUESDAY2022 3:34:20 AM
Nari

खिल उठेगी सांवली रंगत, लगाएं दादी मां का घरेलू उबटन

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 08 Jul, 2021 10:44 AM
खिल उठेगी सांवली रंगत, लगाएं दादी मां का घरेलू उबटन

आप गोरी हो या सांवली, उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। सुदंर दिखने के लिए स्किन का ग्लोइंग होना बहुत जरूरी है। अक्सर महिलाएं स्किन को गोरा करने के लिए कई क्रीम या पैक्स ट्राई करती है जबकि कोई भी चीज स्किन की रंगत नहीं निखार सकती हैं। मगर, हां आप स्किन को चमकदार बनाकर अपनी पर्सैनिटी को निखार जरूर सकती हैं। आज हम आपको एक होममेड उबटन के बारे में बताएंगे, जिससे आपका सलोना रूप भी खिल उठेगा। चलिए आपको बताते हैं उबटन बनाने का तरीका।

इसके लिए आपको चाहिए

बेसन - 4 टेबलस्पून
ओटमील या पोहा - 1/2 कप
एलोवेरा जेल - 2 टेबलस्पून
हल्दी पाउडर - 1 टेबलस्पून
गुलाबजल - 4 टेबलस्पून
दूध - जरूरतअनुसार

PunjabKesari

उबटन बनाने का तरीका

एक बाउल में सारी सामग्री को मिक्स कर लें। ध्यान रखें कि पैक ज्यादा गाढ़ा व पतला ना हो। सारी चीजें मिलाने के बाद इसे 10 मिनट के लिए साइड पर रख दें।

उबटन लगाने का तरीका

1. नहाने के बाद उबटन को चेहरे , गर्दन व हाथों-पैरों में लगाकर 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। आप चाहे तो इसे पूरे शरीर पर भी लगा सकते हैं।
2. इसके बाद उबटन को हल्के हाथों से रगड़ते हुए साफ करें और पानी से साफ कर लें। ध्यान रहें कि उबटन लगाने के बाद फेसवॉश या बॉडी वॉश का बिल्कुल भी यूज ना करें।
3. हफ्ते में कम से कम 2-3 बार इस उबटन का इस्तेमाल करें।

PunjabKesari

उबटन लगाने के फायदे

. इस उबटन को लगाने से स्किन टैनिंग निकल जाती है और सनबर्न की समस्या नहीं होती।
. जिन लड़कियों के बार-बार एक्ने, पिंपल्स, मुंहासे हो जाते हैं उनके लिए यह पैक बहुत फायदेमंद है।
. इससे त्वचा में कोलेजन का स्तर बढ़ता है और उसे पोषण मिलता है, जिससे समय से पहले झुर्रियां, झाइयां नहीं आती।
. नियमित इस पैक को लगाने से अनचाहे बालों की ग्रोथ धीमी हो जाएगी।
. यह घरेलू उबटन नियमित यूज करने से झाइयों के कारण स्किन की रंगत नहीं बिगड़ेगी।

खुशकिस्मत हैं सांवली त्वचा वाली लड़कियां

जिन लड़कियों की स्किन सांवली होती है, उन्हें टैनिंग की खतरा कम होता है। ऐसा इसलिए चूंकि सांवली त्वचा में मौजूद मेलेनिन सूरज की अल्ट्रा वायलट किरणों से सुरक्षा देता है। रिसर्च के अनुसार, सांवली रंगत वाले लोगों में स्किन कैंसर की संभावना भी बहुत कम होती है।

PunjabKesari

Related News