24 JULWEDNESDAY2024 7:04:17 PM
Nari

यूरिक एसिड और जोड़ों के दर्द का इलाज है बथुआ का साग, ऐसे करें सेवन

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 06 Dec, 2023 03:54 PM
यूरिक एसिड और जोड़ों के दर्द का इलाज है बथुआ का साग, ऐसे करें सेवन

यूरिक एसिड की समस्या आजकल लोगों में आम है। वहीं ठंड के समय में सही डाइट न रखने पर ये समस्या बढ़ सकती है। वहीं अगर लापरवाही की जाए तो यूरिक एसिड किडनी को भी करता है और साथ में गठिया के रोग का भी शिकार हो सकते हैं। इस वजह से बहुत जरूरी है की शरीर में यूरिक एसिड को कंट्रोल में रखा जाए। इससे बचने के लिए  सबसे पहले तो अपनी डाइट में बदलाव करें। सर्दियों में बाजार में आपको बथुआ साग आसानी से मिल जाता है और ये यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में सहायक है। आइए आपको बताते हैं बथुआ के साग खाने के बेशुमार फायदे.....

सूजन और जोड़ों के दर्द से मिलती है राहत

बथुआ का साग एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है। वहीं इसमें फ्लेवोनोइड्स, पॉलीफेनोल्स और विटामिन ए और सी की भरपूर मात्रा होती है जो शरीर के फ्री रेडिलक्स को बेअसर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वहीं इससे सूजन और जोड़ों के दर्द से भी काफी हद तक राहत मिलती है और यूरिक एसिड भी काफी हद तक कम होता है।

PunjabKesari

यूरिक एसिड को कंट्रोल करें

बथुआ साग शरीर में बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम करता है। बता दें, यूरिक एसिड जमा होने पर जोड़ों में क्रिस्टलीकृत (पत्थरी बनना) हो सकता है, जिससे दर्द और परेशानी हो सकती है। बथुआ साग में फाइबर का उच्च स्तर गुर्दे के माध्यम से होने वाले यूरिक एसिड के निर्माण को रोकता है और गठिया के खतरे को कम करता है।

मिलता है भरपूर पोषण

बथुआ के साग में आयरन,  कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटेशियम जैसे कई पोषक तत्व होते हैं जो जोड़ों के कार्यों में सहायक और उन कमियों को रोकने के लिए महत्वपूर्ण हैं जो जोड़ों के दर्द को बढ़ा सकती है। वहीं ये यूरिक एसिड के स्तर को कम करने का एक बेहतरीन विकल्प माना जाता है।


शरीर को करता है डिटॉक्स

शरीर को डिटॉक्स करने के लिए लोग कई सारी ड्रिंक्स लेते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि साग में मौजूद  क्लोरोफिल  खून और शरीर के विषाक्त पदार्थों को साफ करने में सहायक है। इससे शरीर में मौजूद जोड़ों के दर्द और सूजन को ट्रिगर करने वाले पदार्थ भी निकल जाते हैं। 

PunjabKesari

ऐसे करें सेवन


वैसे तो आप बथुआ के साग को मक्की की रोटी के साथ लंच या डिनर में खा सकती हैं। उसके अलावा आप  बथुआ का जूस बना के भी पी सकती हैं।
इसके लिए पहले बथुआ को साफ पानी में धोएं। अब एक टोप में पानी लेकर उसे उबालें। अब उबलते हुए पानी में बथुआ को डालें। जब ये ठंड हो जाए तो उसमे नींबू, काला नमक, जीरा मिक्सकर ग्राइंडर में अच्छी तरह पीस लें। पीसने के बाद उसे छानकर इस जूस को पी लें। 
 

Related News