24 JULWEDNESDAY2024 12:15:25 PM
Nari

भगवान कृष्ण को बेहद प्रिय हैं ये 4 राशियां, इनपर सदैव बनी रहती है कान्हा जी की कृपा

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 31 Aug, 2023 05:24 PM
भगवान कृष्ण को बेहद प्रिय हैं ये 4 राशियां, इनपर सदैव बनी रहती है कान्हा जी की कृपा

द्नापर युग में श्रीहरि विष्णु के रूप में अपना आठवां अवतार लिया था। हर साल भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन कान्हा जी का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस विशेष दिन  पर भगवान श्री कृष्ण की उपासना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर रोहिणी नक्षत्र में भगवान श्री कृष्ण की उपासना करने से साधक को सुख- समृद्धि बल और बुद्धि का आसीर्वाद प्राप्त होता है। पंचांग के अनुसार इस साल जन्माशष्टमी का त्योहार 06 और 07 सितंबर को मनाया जाएगा। ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से ये 4 राशियां है जिनपर भगवान श्रीकृष्ण की विशेष कृपा बनी रहती है। ऐसे में आइए जानते हैं भगवान श्री कृष्ण की प्रिय राशियां के बारे में जिनपर वो हमेशा मेहरबान रहते हैं...

भगवान श्री कृष्ण की ये हैं प्रिय राशियां

वृषभ 

भगवान कृष्ण की कृपा इन राशि के जातकों पर बनी रहती है, जिससे उन्हें कई कार्यों में सफलता मिलती है। वहीं इन्हें कान्हा की कृपा से जीवन में आ रही कई समस्याओं से सामना करने का भी हौसला मिलता है। इस राशि के जातकों को जन्माष्टमी के दिन श्री कृष्ण की विशेष उपासना जरुर करनी चाहिए।

PunjabKesari

कर्क 

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो कर्क राशि के जातकों पर भी श्री कृष्ण बहुत मेहरबान रहते हैं। मान्यता है कि इस राशि के जातक अगर नियमित रूप  से भगवान कृष्ण की उपासना करें तो उन्हें सभी कार्यों में सफलता मिलती है।

सिंह

सिंह राशि पर भी कान्हा जी खूब कृपा भरसाते हैं। साथ ही इन्हें बल और बुद्धि का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है। सिंह राशि के जातकों को जन्माष्टमी पर श्री कृष्ण और राधा रानी का ध्यान जरुर करना चाहिए।

PunjabKesari

तुला

तुला राशि के जातकों को भगवान श्री कृष्ण की विशेष कृपा प्राप्त होती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस राशि को भगवान श्री कृष्ण के प्रिय राशियों में गिना जाता है। इस राशि को पूजा- पाठ का विशेष फल प्राप्त होता है और मान- सम्मान में वृद्धि का भी आशीर्वाद मिलता है। जो जातक श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर भगवान श्री कृष्ण की विशेष उपासना करते हैं, उन्हें जीवन पर्यत लाभ प्राप्त होता है।


 

Related News