18 APRSUNDAY2021 5:56:09 AM
Nari

Padma Awards 2021: जिन हाथों ने कभी नहीं पकड़ा था पेन आज उन्हीं ने रचा इतिहास, जानिए दुलारी देवी की कहानी

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 30 Jan, 2021 02:40 PM
Padma Awards 2021: जिन हाथों ने कभी नहीं पकड़ा था पेन आज उन्हीं ने रचा इतिहास, जानिए दुलारी देवी की कहानी

कहते हैं कि आपके हाथ में कला होना बेहद जरूरी होता है। अगर आपके हाथ में कला है तो आप कहीं भी जाकर अपना पेट पाल सकते हैं और जीवन में सफलता पा सकते हैं। हां जिंदगी आपके कईं परिणाम लेती है लेकिन इसकी अर्थ यह नहीं है कि आप हार जाएं। कुछ ऐसी ही कहानी है  दुलारी देवी की जिन्होंने अपनी सफलता से दिखा दिया कि अगर आपमें कुछ पाने की लग्न है तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है। इसी सफलता के कारण अब दुलारी देवी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने जा रहा है। 

कौन है दुलारी देवी?

दुलारी देवी बिहार के मधुबनी जिले के रांटी गांव की रहने वाली है। वह मल्लाह बिरादरी से हैं, जो अतिपिछड़ा समुदाय में आती है। दुलारी देवी अपने परिवार में वो पहली महिला हैं जिन्होंने मिथिला पेंटिंग बनाना सीखा लेकिन दुलारी देवी ने अपने जीवन में बहुत सारी परेशानियां देखी लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी और यही कारण है कि आज उनकी सफलता का परचम देश विदेश तक लहरा रहा है। 

PunjabKesari

12 साल की उम्र में हुई शादी 

दुलारी देवी का जन्म बेहद गरीब परिवार में हुआ और दूसरा दुख जो उन्हें देखना पड़ा वो था कि उनके घरवालों ने उनकी शादी 12 साल की उम्र में कर दी वो उम्र जिसमें हमारी आंखों में कईं तरह के सपने होते हैं। लेकिन दुलारी ने हालातों के साथ समझौता किया और शादी कर ली लेकिन दुलारी की जिंदगी में एक और गम आया वो था कि वह शादी के 2 साल बाद ही घर वापिस आ गई। 

पढ़ी लिखी न होने के कारण करना पड़ा घरों में काम 

दुलारी पढ़ी लिखी नहीं थी लेकिन उनमें जो कला थी उससे तो शायद वह खुद अनजान थी। लेकिन अब क्या करती? हालातों के आगे झुकी और दूसरे के घरों में काम करने लगी। झाड़ूं पोछा करती और पेट पालती लेकिन कहते हैं न कि दिन सभी के बदलते हैं  और दुलारी की जिंदगी में भी दुखों के हनेरे के बाद सवेरा आया। 

पेंटिंग बनाने का सिलसिला किया शुरू और बदल गई किस्मत 

दुलारी देवी की जिंदगी धीरे-धीरे करवट ले रही थी लेकिन शायद वह नहीं जानती थी आगे जाकर वह इतनी सफल हो जाएंगी कि पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम भी उनकी तारीफ करते हुए नहीं थकेंगे। दरअसल लोगों के घर झाडूं पोछा करती दुलारी को मशहूर आर्टिस्ट कर्पूरी देवी के घर भी काम मिल गया वह वहां पर भी काम किया करती। अब खाली समय में दुलारी ने पेंटिंग करनी शुरू कर दीं और मिट्टी से घर को ही रंगना शुरू कर दिया। 

PunjabKesari

कर्पूरी देवी को देख बनाया पेंटिंग करने का मन 

पहले पहले तो दुलारी देवी दिवारों पर ही पेंटिंग करती लेकिन धीरे धीरे वह ब्रश के साथ, और फिर कागज पर और धीरे धीरे कपड़ों पर पेंटिंग करने लगीं। दुलारी देवी शायद खुद भी अपनी इस कला से अनजान होगी। दुलारी देवी के काम को धीरे-धीरे सहारना मिलने लगी और लोगों उनके इस काम की काफी तारीफ करने लगे। 

अब तक बना चुकी हैं 8 हजार पेंटिंग

मीडिया रिपोर्टस की मानें तो दुलारी देवी अब तक अलग-अलग विषयों पर अब तक तकरीबन 8 हजार पेंटिंग बना चुकी हैं। इतना ही नहीं दुनियाभर में दुलारी देवी की पेंटिंग्स की हर कोई तारीफ कर चुका है। आपको बता दें कि दुलारी देवी की पेंटिंग मैथिली भाषा के पाठ्यक्रम के मुख्यपृष्ठ पर भी छप चुकी हैं। इसके साथ ही गीता वुल्फ की 'फॉलोइंग माइ पेंट ब्रश' के अलावा मार्टिन ली कॉज की फ्रेंच में लिखी किताबों की शोभा बढ़ा रही है। 

गांव की महिलाओं को देना चाहती हैं पेंटिंग की शिक्षा 

PunjabKesari

दुलारी देवी ने इस मुक्काम को पाने के लिए काफी मुश्किलें देखी। वह अपनी इस सफलता पर कहती हैं कि उन्हें यहां तक पहुंचने के लिए बहुत सारी मुश्किलों से गुजरना पड़ा लेकिन अब वो चाहती हैं कि उनके गांव की लड़कियों को इस तरह की परेशानियों का सामना बिल्कुल भी न करना पड़े इतना ही नहीं दुलारी देवी तो अपने गांव की महिलाओं व लड़कियों को पेंटिंग की शिक्षा देना चाहती हैं। 

राज्य पुरस्कार से हो चुकीं सम्मानित 

दुलारी की इसी सफलता पर उन्हें अब पद्मश्री अवार्ड दिया जाएगा। आपको बता दें कि 2012-13 में दुलारी राज्य पुरस्कार से सम्मानित हो चुकी हैं।

सच में आज हम दुलारी देवी के इस जज्बे को सलाम करते हैं वह आज बहुत सारी महिलाओं के लिए मिसाल है जो गरीबी के आगे और जिंदगी की मुश्किलों के आगे हार जाती है। 

Related News