04 JUNTHURSDAY2020 4:50:09 AM
Nari

प्रवासी मजदूरों के लिए आगे आए सोनू सूद, खुद बस में बैठाकर भेज रहे घर

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 12 May, 2020 10:50 AM
प्रवासी मजदूरों के लिए आगे आए सोनू सूद, खुद बस में बैठाकर भेज रहे घर

इस समय देश की हर सड़क पर प्रवासी मजदूर है जो अपने घर को वापिस जाना चाहते हैं वे इस संकट की घड़ी में फंसे है और कई जगहों पर तो मजदूर पैदल ही सफर पर निकले हैं वहीं कुछ यूं ही बेसहारा बैठे है। अब इन्ही मजदूरों की मदद के लिए आगे आए है बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद। सोनू सूद ने एक नई व्यवस्था शुरू की है।

सोनू ने मुंबई में फंसे मजदूरों को वापिस उनके घर भेजने के लिए बस सेवाओं का इंतजाम किया इतना ही नही इसके लिए उन्होंने बकायदा कर्नाटक सरकार और महाराष्ट्र सरकार से अनुमति भी ली। सोनू ने जिन बसों का प्रबंध किया है उनमें से अभी महाराष्ट्र के ठाणे से गुलबर्गा के लिए बस रवाना हुई है। सोनू ने वहां खुद पहुंच कर लोगों का हाल जाना और उन प्रवासी मजदूरों को विदा किया।

PunjabKesari
सोनू सूद का इस पह कहना है कि, 'इस आपदा में लोगों को अपने परिवारों के साथ होना चाहिए। मैंने महाराष्ट्र और कर्नाटक सरकार से प्रवासियों को लगभग दस बसों में घर पहुंचने में मदद करने के लिए अनुमति ली है और महाराष्ट्र सरकार के अधिकारियों ने कागजी कार्रवाई शुरू करने में मेरा बहुत सहयोग किया और कर्नाटक सरकार ने प्रवासियों का स्वागत किया। 

सोनू आगे कहते हैं, 'मेरे लिए छोटे बच्चों और बूढ़े माता-पिता सहित सड़कों पर घूमने वाले इन प्रवासियों को देखना बहुत ही इमोशनल कर देने वाला था मैं इससे परेशान था। मेरी जितनी भी क्षमता है मैं उसके अनुसार दूसरे राज्यों के लिए भी यही करूंगा।'

आपको बता दें सोनू की ये पहली मदद नही है। इससे पहले भी उन्होंने घर जाने में मुश्किलों का सामना कर रहे है डॉक्टर, नर्सों और पैरा-मेडिकल स्टाफ के लिए अपना होटल खोल दिया था, फिर अपने पिता शक्ति सागर सूद के नाम से वो शक्ति अन्नदानम नाम की एक मुहीम चला रहे हैं, जिसके तहत 45000 लोगों को खाना दिया जा रहा है। इसके बाद उन्होंने 1.25 लाख और लोगों को खाना मुहैया करवाने का ऐलान किया था, जिसमें 25000 माइग्रेंट वर्कर्स भी शामिल थे। साथ ही उन्होंने रमज़ान के पाक महीने में भिवंडी में फंसे लोगों के लिए उनसे कुछ ही दूर एक किचन का इंतज़ाम भी करवाया था, जहां पर खाना बनाकर डायरेक्ट रोज़ा रखने वालों तक पहुंचाया जा रहा है।

Related News