17 MAYTUESDAY2022 2:51:35 AM
Nari

एक लाइन में धरती से नजर आएंगे शनि, मंगल, शुक्र और बृहस्पति, 1000 साल बाद दिखेगा ये नजारा

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 27 Apr, 2022 03:28 PM
एक लाइन में धरती से नजर आएंगे शनि, मंगल, शुक्र और बृहस्पति, 1000 साल बाद दिखेगा ये नजारा

शनि, बृहस्पति, मंगल और शुक्र को एक लाइन में देखने का इंतजार आज खत्म हो सकता है। आज से शनि, मंगल, शुक्र और बृहस्पति एक सीध में धरती से नजर आएंगे। करीब 1000 साल के बाद इस तरह का दुर्लभ नजारा देखने को मिलेगा। भारत में ये नजारा आसानी से नजर आएगा। इससे पहले, दिसंबर 2021 में, इसी तरह की ग्रह परेड हुई थी जब पांच ग्रह एक कतार में आ गए थे।

PunjabKesari

भुवनेश्वर के उपनिदेशक डॉ शुभेंदु पटनायक ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि ये दुर्लभ खगोलीय घटना पूरे 1000 साल बाद होने जा रही है। आसमान साफ रहा तो चारों ग्रह एक क्रम में दिखाई देंगे। सबसे पहले और सबसे नीचे (बाएं से दाएं) बृहस्पति, फिर शुक्र, मंगल और शनि ग्रह दिखाई देगा। हालांकि इस दौरान बृहस्पति को देखना थोड़ा मुश्किल होगा क्योंकि यह क्षितिज के ठीक ऊपर होगा।

PunjabKesari
पटनायक बताते हैं कि ग्रहों के एक रेखा में होने के साथ ही सबसे बड़ी हैरानी की बात यह है कि इन ग्रहों के करीब चंद्रमा भी होगा। इससे यह नजारा बेहद खूबसूरत नजर आएगा। इन ग्रहों की रेखा के अंत में चंद्रमा दिखाई देगा। इन ग्रहों की आखिरी ऐसी परेड लगभग 1,000 साल पहले 947 ईस्वी में हुई थी। आज सूर्योदय से एक घंटा पहले चार ग्रह बृहस्पति, शुक्र, मंगल और शनि के साथ चंद्रमा पूर्वी क्षितिज से 30 डिग्री के भीतर बिल्कुल सीधी रेखा में दिखाई देगा।

PunjabKesari
30 अप्रैल को सबसे चमकीले ग्रह शुक्र और बृहस्पति एक साथ बहुत करीब दिखेंगे। शुक्र ग्रह बृहस्पति के 0.2 डिग्री दक्षिण में नजर आएगा। अगर आपको ग्रह खोजने में कोई दिक्कत हो तो आप अपने Smart Phone स्टार ट्रेकर ऐप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप इन ग्रहों को देखना चाहते हैं तो ऐसी जगह जाएं जहां प्रदूषण न हो। स्टारगेजिंग के लिए सबसे अच्छी जगह किसी पहाड़ी की चोटी जैसी एकांत जगह है जहां कम रोशनी होती है।

PunjabKesari

हमेशा यह बात ध्यान रखें कि इस दौरान सिर्फ तारे टिमटिमाते हैं ग्रह नहीं।  दरअसल, यह खगोलीय स्थिति इसीलिए पैदा हो रही है कि सूर्य की परिक्रमा करते हुए पृथ्वी अपनी कक्षा में लगातार घूम रही है और इसकी वजह से महीने-दर-महीने इससे दूसरे ग्रहों की स्थिति बदल रही है।

 

Related News