30 JULFRIDAY2021 12:13:05 AM
Nari

प्रीमैच्योर बच्चे के लिए वरदान 'Kangaroo Care' तकनीक, मिलेंगे अनगिनत फायदे

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 15 Jun, 2021 05:08 PM
प्रीमैच्योर बच्चे के लिए वरदान 'Kangaroo Care' तकनीक, मिलेंगे अनगिनत फायदे

कंगारू केयर नवजात शिशुओं के देखभाल की एक तकनीक है। खासकर उन शिशुओं के लिए जिनका वजन जन्म के समय काफी कम होता है। इसमें बच्चों को माता-पिता सीने से चिपकाकर रखते हैं, जिससे उनकी गर्मी बच्चे के शरीर को मिलती है। इससे शिशु की सेहत सही रहती है। समय से पहले (प्रीमौच्योर) या समय पूरा होने के बाद जन्में बच्चों की देखभाल के लिए इस तकनीक का सहारा लिया जा है।

कौन दे सकता है कंगारू केयर?

आमतौर पर कंगारू केयर के लिए शिशु की मां सबसे सही व्यक्ति होती है लेकिन अगर किसी कारण वह ऐसा नहीं कर सकती तो शिशु के भाई-बहन, दादा-दादी, नाना-नानी, चाची, मौसी, बुआ, चाचा आदि में से कोई भी बच्चे को कंगारू केयर देकर मां की जिम्मेदारी उठा सकते हैं। मगर, कंगारू केयर दे रहे व्यक्ति को स्वच्छता के कुछ नियमों का पालन करना आवश्यक है जैसे- हर दिन नहाना, साफ कपड़े पहनना, हाथों को नियमित धोना, हाथों के नाखून काटे हुए और साफ हो।

PunjabKesari

कंगारू केयर को कब शुरू किया जा सकता है?

कंगारू केयर या त्वचा से त्वचा संपर्क तकनीक की शुरूआत बच्चे के जन्म से ही करनी चाहिए
और आगे पूरी पोस्टपार्टम अवधि में इसे जारी रखा जा सकता है। रिसर्च के अनुसार, दुनियाभर में हर साल 2 करोड़ बच्चे कम वजन के साथ जन्म लेते हैं, जिनमें आधे से ज्यादा बच्चों की मौत हो जाती है। ऐसे में इस आसन व कम खर्च वाली तकनीक से प्री मेच्‍योर यानि कम वजन के 40 फीसदी बच्चों की जान बचाई जा सकती है।

कंगारू केयर की अविध कितनी होनी चाहिए?

कंगारू केयर तकनीक की अवधि शुरूआत में करीबन 30 से 60 मिनट होनी चाहिए। जब धीरे-धीरे मां व शिशु को इसकी आदत पड़ जाए और आत्मविश्वास आ जाए तो लंबे समय तक इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। कम वजन वाले शिशु के लिए जितने ज्यादा लंबे समय इसका इस्तेमाल किया जाए उतना अच्छा है। बच्चे को कंगारू केयर देते हुए मां खुद भी आराम कर सकती है या आधा लेटकर सो सकती हैं।

कंगारू केयर की प्रकिया

इसके लिए मां के स्तनों के बीच शिशु को रखकर उसका सिर एक तरफ झुका लें, ताकि वह आसानी से सां ले सके। बच्चे का पेट मां के पेट के ऊपर हो। साथ ही उसके हाथ व पैर मुड़े हुए हो। 'कंगारू मदर केयर' देते समय बच्चे को सिर्फ डायपर ही पहनाए। मां को भी ऐसे कपड़े पहनाएं जाे हैं, जो आगे की तरफ से खुला हो। इससे मां के सीने की गति व सांसों से बच्चे को गर्माहट मिलती है।

PunjabKesari

कंगारू केयर तकनीक से बच्चे को मिलेंगे ये फायदे

1. शिशु की अच्छी देखभाल व उसे अपनेपन के एहसास करवाने के लिए यह सबसे बढ़िया तकनीक है। इससे बच्चा माता-पिता के साथ जुड़ाव महसूस करता है।

2. इससे शिशु के मस्तिष्क का विकास होता है और भावनिक प्रतिभा के निर्माण को बढ़ावा मिलता है। आंखों से आंखों का कॉन्टैक्ट होते रहने से प्यार, अपनापन और विश्वास से सामाजिक प्रतिभा का भी विकास होने में मदद मिलती है।

3. इस तकनीक की मदद से स्तनपान को भी काफी बढ़ावा मिलता है। साथ ही यह शिशु के पोषण व विकास में भी महत्वपूर्ण योगदान देती है।

4. खासकर कम वजन के बच्चों और सर्दियों में शरीर का तापमान सही रखने के लिए यह तकनीक काफी मददगार है। साथ ही इससे शिशु लंबे समय तक शांत होकर सोते रहते हैं और फिर जागने पर कम रोते हैं।

5. इस तरह की केयर वाले बच्चे ज्यादा स्वस्थ, होशियार होते हैं। साथ ही इससे शिशु का इम्यून सिस्टम भी सही रहता है।

6. जब नवजात को ठंडा बुखार होता है उस दौरान नवजात को बुखार से बचाने के लिए कंगारू मदर केयर ट्रीटमेंट की सलाह दी जाती है।

PunjabKesari

पिता और त्वचा से त्वचा का संपर्क तकनीक

माताओं की तरह, पिता भी त्वचा से त्वचा का संपर्क तकनीक की मदद से शिशु की देखभाल में योगदान दे सकते हैं। यह तकनीक जच्चा-बच्चा के साथ पिता के लिए भी फायदेमंद होती है।

. इससे पिता ना सिर्फ बच्चे के साथ जुड़ाव महसूस करते हैं बल्कि वो अपने आप को असहाय भी महसूस नहीं करेंगे। बच्चे की देखभाल में थोड़ा-सा योगदान देने पर पिता को खुशी मिलती है।
. इससे पिता को बच्चे के भूख व तनाव के संकेत को समझने में मदद मिलती है।
. अगर पिता बच्चे को कंगारू केयर देंगे तो मां को भी आराम मिलेगा और बच्चे की देखभाल के लिए वह ज्यादा ऊर्जावान महसूस करेंगी।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन और चिकत्सकों की सलाह है कि सभी बच्चों के लिए कंगारू केयर तकनीक का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

डॉ नवीन बजाज
नियोनेटोलॉजिस्ट, चेयरपर्सन, इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स (आईएपी)

Related News