23 MAYMONDAY2022 9:27:32 PM
Nari

Child Care: बच्चे के लिए जरूरी हैं स्वच्छता के ये नियम, ताकि वे बीमारियों से रहे सुरक्षित

  • Edited By neetu,
  • Updated: 27 Jan, 2022 12:48 PM
Child Care: बच्चे के लिए जरूरी हैं स्वच्छता के ये नियम, ताकि वे बीमारियों से रहे सुरक्षित

देशभर में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस दौरान छोटे बच्चों को देखभाल के साथ स्वच्छता का ध्यान रखने की जरूरत है ताकि वे इस संक्रमण से सुरक्षित रहे। छोटी सी भूल भी शिशु को बीमार कर सकती हैं। ऐसे में आज हम आपको कुछ आसान से टिप्स बताते हैं। इनकी मदद से आप अपने बच्चे का अच्छे से ध्यान रख सकते हैं...

हाथ धोकर बच्चे को छुए

गंदे हाथ बच्चे को लगाने से वे जल्दी संक्रमित हो सकते हैं। ऐसे में पेरेंट्स व अन्य लोग अच्छे से हाथ धोकर ही बच्चे को पकड़े। इसके साथ ही पहले से फ्लू, कोल्ड होने पर शिशु को पकने की गलती ना करें। इससे आपके बच्चे का बीमार होने का खतरा रहता है। कोरोना दौर में बच्चे को घर से बाहर ले जाने व किसी को पकड़ाने से भी बचना चाहिए।

PunjabKesari

बच्चे की सफाई का रखें ध्यान

छोटे बच्चे जल्दी ही जर्म्स व बैक्टीरिया की चपेट में आ सकते हैं। इसलिए जरूरी हैं कि उनकी साफ-सफाई का खास ध्यान रखें। अगर आपका बेबी कुछ महीनों का हैं तो 1 दिन छोड़कर उसे नहाएं। साथ ही रोजाना गीले तौलिए से उसके शरीर की सफाई करें। इसके अलावा 2 साल बड़े बच्चों को रोजाना नहाकर साफ कपड़े पहनाएं। साफ रहने से वे बीमारियों से सुरक्षित रहेंगे।

सामान की क्लीनिंग का भी रखें ध्यान

बच्चे के खेलने वाला खिलौनों व अन्य जरूरत के सामान की सफाई का भी खास ध्यान रखें। दरअसल, खेलते समय अक्सर बच्चे चीजें नीचे गिरा देते हैं। फिर गंदी चीज को मुंह में डालने या हाथ लगाने से जर्म्स उनके शरीर में जा सकते हैं। इसलिए बच्चे की चीजों को गर्म पानी व डेटोल से धोएं। इसके अलावा जमीन को अच्छे से साफ करके ही बच्चे को फर्श पर खेलने के लिए छोड़े।

नाखूनों को समय-समय पर करें छोटा

छोटे बच्चों के नाखून तेजी से बढ़ते हैं। ऐसे में इनकी समय-समय पर कटिंग करते रहिए। दरअसल, लंबे नाखून में बैक्टीरियल संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है। इसके साथ ही शिशु नाखून को अपने चेहरे या शरीर पर मारकर खुद को चोट भी लगा सकता है। ऐसे में पेरेंट्स की जिम्मेदारी बनती हैं कि वे बच्चे के नाखून बढ़ने पर तुरंत उसे काट लें। मगर इस काम बेहद सावधानी से व शिशु को सुलाने के बाद ही करें।

PunjabKesari

समय-समय पर बदलते रहे डायपर

सर्दियों में ठंड लगने के कारण शिशु बार-बार डायपर गीला करता है। इसलिए पेरेंट्स का बात का खास ध्यान रखें और समय-समय पर बच्चे का डायपर बदलते रहे। नहीं तो गंदा व गीला डायपर लंबे समय तक पहनने से शिशु बीमार हो सकता है।

pc: freepik

Related News