07 AUGFRIDAY2020 4:42:14 AM
Nari

Sawan 2020: जानिए उज्जैन के राजा महाकाल से जुड़ी कुछ खास बातें

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 03 Jul, 2020 05:18 PM
Sawan 2020: जानिए उज्जैन के राजा महाकाल से जुड़ी कुछ खास बातें

हिंदू धर्म में सावन महीने को बहुत मान्यता दी जाती है। जुलाई में सावन का महीना शुरू होने जा रहा है इस साल कोरोनावायरस के कारण भोले बाबा के भक्त चाहे उनके प्राचीन मंदिरों में न जा सकें लेकिन वो अपने घरों में रह कर इसे पूरे चाव के साथ मनाएंगे। सावन का महीना है और ऐसे में भोले बाबा की बात न हो ऐसा कैसे हो सकता है। तो चलिए आज हम आपको विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर से जुड़ी कुछ विशेष बातों के बारे में बताते हैं। यह मध्यप्रदेश राज्य के उज्जैन नगर में स्थित है। ऐसी मान्यता है कि इसके दर्शन से ही मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। तो चलिए आपको इस मंदिर से जुड़ी कुछ खास बाते बताते हैं। 

PunjabKesari
ये एकमात्र दक्षिणमुखी शिवलिंग है

अगर तंत्र-मंत्र की विद्मा की मानें तो भगवान शिव के इस मंदिर की बहुत मान्यता है और तो और यह दुनिया का एकमात्र दक्षिणमुखी शिवलिंग है। 

 दर्शन से होता है मोक्ष प्राप्त 

PunjabKesari

जिनका नाम ही भोला है वो आखिर कैसे अपने भक्तों की मनोकामना को पूरा न करें। ऐसा माना जाता है कि जो भी इनके दर्शन कर लेता है उसे मोक्ष प्राप्त हो जाता है। 

बाबा महाकाल को दिया जाता है गार्ड ऑफ ऑनर

सोमवार का दिन शिवजी का होता है ये सब जानते हैं लेकिन यहां सावन के महीने की मान्यता अलग है। जी हां यहां हर सावन के सोमवार को एक शाही सवारी निकाली जाती है इतना ही नहीं इस दिन भोले बाबा को इस खास मौके पर गॉड ऑफ ऑनर भी दिया जाता है। 

भस्म के साथ की जाती है आरती

PunjabKesari

भगवान शिव का शिगांर बड़े चाव के साथ किया जाता है। रोज सुबह भोले बाबा की भस्म के साथ आरती की जाती है लेकिन बहुत कम लोग ये जानते हैं कि महाकाल का श्रृंगार मुर्दे की ताजी भस्म के साथ किया जाता है लेकिन आजकल इसकी जगह गोबर के कंडे की भस्म का उपयोग किया जाता है। 

नागचंद्रेश्वर महादेव मंदिर की भी है बहुत मान्यता

वहीं आपको ये भी बता दें कि इस मंदिर के ऊपरी तल पर एक और मंदिर बना है। इसका नाम नागचंद्रेश्वर महादेव मंदिर है जो साल में सिर्फ नाग पंचमी के दिन ही खुलता है।

कोई राजा यहां नहीं करता निवास

PunjabKesari

पौराणिक कथाओं के अनुसार यहां कोई राजा भी निवास नहीं करता है क्योंकि उज्जैन के एक ही राजा है और वो हैं महाकाल । 

इस तरह हुए थे प्रकट

अब आपको ये भी बता दें कि यहां महाकाल कैसे प्रकट हुए थे। इससे जुड़ी एक कथा भी है। मान्यताओं के अनुसार दूषण नामक असुर से लोगों की रक्षा के लिए महाकाल यहां प्रकट हुए थे। ]

PunjabKesari

खास है भस्म की आरती

वहीं भोले बाबा की भस्म की आरती देखने का पल जिसे भी नसीब हो जाए उसके सारे के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। यहां भोले बाबा को जो भस्म चड़ाया जाता है उसको ग्रहण करने से मनुष्य के सभी कष्ट भी दूर हो जाते हैं। 

Related News