15 JULMONDAY2024 9:53:20 PM
Nari

रथयात्रा: गुंडीचा मंदिर में  सेवादारों के हाथ से फिसली भगवान बलभद्र की मूर्ति, कई लोग घायल

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 10 Jul, 2024 10:43 AM
रथयात्रा: गुंडीचा मंदिर में  सेवादारों के हाथ से फिसली भगवान बलभद्र की मूर्ति, कई लोग घायल

 पुरी जगन्नाथ मंदिर के कम से कम नौ सेवक मंगलवार को उस समय घायल हो गए जब भगवान बलभद्र की मूर्ति उन पर गिर गई। घटना के समय रथयात्रा उत्सव के तहत मूर्ति को रथ से उतारकर मंदिर ले जाया जा रहा था। इस घटना के बाद भगदड़ जैसी स्थिति पैदा हो गई थी, घायलों को तुरंत अस्पताल ले जाया गया। 

PunjabKesari
एक अधिकारी ने बताया कि नौ लोगों में से पांच को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि चार अन्य को मामूली चोटें आई हैं। यह दुर्घटना रात करीब नौ बजे हुई, जब रथ से भगवान बलभद्र की लकड़ी की भारी मूर्ति को गुंडिचा मंदिर ले जाने के लिए उतारा जा रहा था। ऐसा प्रतीत होता है कि मूर्ति को ले जाने वाले लोग उस पर नियंत्रण खो बैठे और चोटिल हो गए। 

PunjabKesari
एक घायल सेवक ने बताया कि मूर्ति से बंधी रस्सी जैसी सामग्री में कुछ समस्या होने के कारण यह दुर्घटना हुई। अस्पताल में भर्ती दो लोगों को बाद में छुट्टी दे दी गई और वे अनुष्ठान में शामिल हो गए। मुख्यमंत्री मोहन चरण माझी ने घटना पर चिंता व्यक्त की और कानून मंत्री पृथ्वीराज हरिचंदन को तुरंत पुरी जाने और उचित कदम उठाने का निर्देश दिया। 

PunjabKesari

 मान्यताओं के अनुसार रथयात्रा निकालकर भगवान जगन्नाथ को प्रसिद्ध गुंडिचा माता मंदिर पहुंचाया जाता हैं।  देवता ने सोमवार को अपने-अपने रथ पर रात बिताई और मंगलवार को तीनों देवताओं को गुंडिचा मंदिर में ले जाया गया और देर शाम दैता सेवकों द्वारा आयोजित औपचारिक गोटी पहंडी में रत्न सिंहासन पर बैठाया गया। इसके बाद पका हुआ महाप्रसाद चढ़ाने के साथ नियमित अनुष्ठान किये जायेगे। 
 

Related News