17 OCTSUNDAY2021 5:45:47 AM
Nari

समुद्र में बच्चों के साथ 4 दिनों तक तैरती रही मां, Urine पीकर करवाती रही ब्रेस्टफीडिंग

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 18 Sep, 2021 01:48 PM
समुद्र में बच्चों के साथ 4 दिनों तक तैरती रही मां, Urine पीकर करवाती रही ब्रेस्टफीडिंग

किसी ने सही कहा है कि एक मां अपने बच्चों के लिए हर हद पार कर सकती है। इस दुनिया में मां ही सबसे बड़ी योद्धा होती है। इस बात को सही कर दिखाया है अमेरिका की एक महिला... दरअसल, दक्षिण अमेरिका के वेनेजुएला से एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां एक मां ने जरूरत पड़ने पर यूरिन पीकर अपने बच्चों को फीडिंग करवाई। उनकी कहानी सुन हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है।

बीच समुद्र अचानक टूटा शिप

खबरों के मुताबिक, 3 सितंबर को एक शिप वेनुजुएला से ला टॉर्टुगा जाने के लिए रवाना हुआ, जिसमें 9 लोग सवार थे। इसी शिप में 40 वर्षीय मैरिली चाकोन (Mariely Chacon) अपने पति, 6 साल के बेटे और 2 साल की बेटी व उनकी नैनी वैरोनिका के साथ सफर कर रही थीं। मगर, डेस्टिनेशन पर पहुंचने से पहले ही कैरिबियाई एरिया में एक भयानक हादसा हुआ और तेज लहरों से टकराकर शिप अचानक टूट गया।

PunjabKesari

बर्फ के टुकड़े पर तैरती रही मैरिली

शिप में सवार लोग देखते ही देखते समुद्र में डूबने लगे। तभी मैरिली को शिप का कुछ हिस्सा और एक फ्रिज पानी में तैरता दिखा। उन्होंने अपने बच्चों को शिप के उस टुकड़े पर बैठा दिया और खुद पानी में तैरती रही। उस वक्त तो उनकी जान बच गई लेकिन कुछ समय बाद भूख उनकी दुश्मन बन बैठी। अब समुद्र के बीचो-बीच खाना मिलना तो मुमकिन नहीं था।

PunjabKesari

खुद का यूरिन पीकर बच्चों को पिलाया दूध

तभी मैरिली ने अपने बच्चों की जान बचाने के लिए अपना ही यूरिन पीना शुरू कर दिया, ताकि उनके शरीर में पानी की कमी ना हो वो अपने बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग करवा सके।

पूरे 4 दिन तक चलता रहा यही सिलसिला

पूरे 4 दिन तक मैरिली इसी तरह यूरिन पीकर अपने बच्चों को स्तनपान करवाती रही। तभी वहां, रेस्क्यू टीम पहुंची और उन्हें मदद दी। मगर, अफसोस तब तक मैरिली की जान जा चुकी थी और सिर्फ बच्चे व उनकी नैनी वैरोनिका ही जिंदा रह गए थे लेकिन उनकी हालत भी बेहद गंभीर थी।

PunjabKesari

जाते-जाते बच्चों को जिंदगी दे गई मां

रेस्क्यू टीम ने बताया कि उनके पहुंचने के कुछ घंटे पहले ही मां की जान चुकी थी, जिसका कारण डिहाइड्रेशन थी। दोनों बच्चे अपनी मरी हुई मां से ही लिपटे हुए थे। गर्मी के कारण बच्चों व नैनी को भी डिहाइड्रेशन हो गया था। धूप के कारण उनकी शरीर भी लाल पड़ चुका था। वहीं, 25 साल की वैरोनिका खुद को बचाने के लिए फ्रिज के अंदर चली गई थी, जिससे उसकी जान बच गई। रेस्क्यू टीम बाकी लापता लोगों की खोज कर रही है।

PunjabKesari

Related News