02 DECWEDNESDAY2020 6:18:40 AM
Nari

Bengal Tradition: दुर्गा पूजा पर महिलाएं क्यों पहनती हैं सफेद और लाल रंग की साड़ी?

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 22 Oct, 2020 05:04 PM
Bengal Tradition: दुर्गा पूजा पर महिलाएं क्यों पहनती हैं सफेद और लाल रंग की साड़ी?

नवरात्रि के दिनों में बंगाल में खासतौर पर मां दुर्गा की पूजा अर्चना की जाती है। बंगाल में सुंदर और बड़े बड़े पंडाल सजाए जाते हैं। ज्यादातर महिलाएं लाल बॉर्डर वाली सफेद व क्रीमिश कलर की साड़ी में नजर आती हैं जो सच में काफी अट्रैक्टिव दिखती है लेकिन आपको पता हैं बंगाली औरतें इस रंग की साड़ी ही क्यों चुनती हैं?

PunjabKesari

सफेद और लाल बार्डर वाली साड़ी पहन कर बंगाल की महिलाएं दुर्गा पूजा करती हैं, जिसके पीछे एक खास महत्व है चलिए इस बारे में आपको बताते हैं।

खास कपड़े की बनती है साड़ी 

PunjabKesari

बंगाली महिलाएं जो साड़ी पहनती हैं वह खास कपड़े से बनी होती हैं। इस साड़ी को जामदानी कहते हैं। जामदानी साड़ी वो साड़ी होती है जिसे खास हाथों से बुन कर बनाया जाता है। इस साड़ी का कपड़ा कॉटन का होता है। यह पहनने में बहुत हल्की होती हैं। 

बंगाल का परंपरागत रंग 

PunjabKesari

आपको बता दें कि बंगाल में सफेद और लाल रंग को परंपरागत रंग माना जाता है। इसलिए विवाहित महिलाएं नवरात्रि के समय में इस साड़ी को पहनती हैं। साड़ी के साथ वह बहुत सुंदर श्रृंगार भी करती हैं। लाल बिंदी, सिंदूर और सोने के आभूषण साड़ी पर चार चांद लगा देते हैं। 

सिंदूर खेला खेलती हैं महिलाएं 

PunjabKesari

दुर्गा अष्टमी के दिन महिलाएं सफेद और लाल रंग की साड़ी पहन कर मां दुर्गा की पूजा करती हैं। फिर इसे दशहरे वाले दिन पहनकर मां दुर्गा को सिंदूर चढ़ाकर सिंदूर खेला खेलती हैं। बंगाल की ये दुर्गा पूजा देशभर में बहुत प्रसिद्ध है और इसकी बहुत मान्यता है। 

जामदानी साड़ी में मिलती हैं बहुत सारी वैरायटी

PunjabKesari

दुर्गा पूजा पर पहने जाने वाली जामदानी साड़ियों की खास बात यह है कि आप को इसे पहनने में बहुत सारी वैरायटी मिल जाती है। इसमें सफेद और लाल रंग तो होता ही है साथ ही इस साड़ी में आपको कईं फ्लोरल डिजाइन भी मिलेंगे। यह साड़ियां देखने में बहुत सुंदर लगती हैं।

PunjabKesari

Related News