17 SEPTUESDAY2019 6:17:00 AM
Nari

अनकही बातें: अगर पति करें बेइज्जती या गाली-गलोच तो क्‍या जरूरी है शादी बचाना?

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 10 Sep, 2019 11:44 AM
अनकही बातें: अगर पति करें बेइज्जती या गाली-गलोच तो क्‍या जरूरी है शादी बचाना?

महिलाओं के दिल में कितने अरमान होते है कि जब शादी हो जाएगी तो उसे उसके सपनों का राजकुमार मिलेगा। जहां कुछ पुरे हो जाते हैं वहीं कुछ सपने वही दिल में दबे रहते है। शादी के बाद शुरूआती दिनों में सब अच्छा लगता है लेकिन धीरे-धीरे प्यार लड़ाई-झगड़े में बदल जाता है। वहीं बारतीय पुरूष तो अपनी पत्नी के साथ गाली-गलोच तक उतर आती है। ऐसी स्थिति में महिलाओं को समझ नहीं आता कि आखिर क्या करें और कहां जाएं?

 

कुछ पति को अपनी पत्नी को गालियां तक देने लगते हैं और उन पर हाथ उठाने लगते हैं। गाली गलोच और मार-पीट बहुत कॉमन है लेकिन भारतीय महिलाएं इसे अपनी आदत बना लेती हैं। मगर पति मार-पीट करता है तो आप समझ सकती है वो आपकी इज्जत तो बिल्कुल नहीं। वहीं अगर आपके  बच्चे भी हो तो इसका असर उनकी पढ़ाई पर भी पड़ता है।

PunjabKesari

बहकावे में ना आए

एक बार जिस पति का हाथ उठ गया फिर उसका रुकना बेहद मुश्किल है। कई बार ऐसा होता है कि हिंसा करने के बाद पति बेहद अफसोस जाहिर करते हैं यहां तक कि रोते भी हैं कि उनसे गलती हो गयी पर अगली बार फिर वही होता है क्योंकि ये एक मानसिक रोग या नशे की आदत जैसा हो जाता है।

परिवार वालों से करें बात

वैसे तो ऐसे पति के साथ रहना बेवकूफी है लेकिन अगर आप उनसे अलग नहीं होना चाहती तो सबसे पहले अने ससुराल वालों से इस बारे में बात करें। अगर वह भी आपकी बात सुनने को तैयार ना हो तो अपने माता-पिता से बात कर इसका हल निकालें।

PunjabKesari

फैसला करने से पहले खुद के बारे में जरूर सोचें

अक्सर महिलाएं समाजिक - पारिवारिक दवाब या इमोशनल बांडिंग के चलते ऐसे इंसान के साथ समझौता करने को राजी हो जाती हैं। ऐसा वो तब तक करती हैं जब तक वह पूरी तरह बिखर ना जाए या आगे बढ़ने के रास्ते बिलकुल बंद हो जाए। मगर ऐसे मामलों में सुरक्षा को नजरअंदाज करना कहां की समझदारी है। जब परिवार या समाज आपके दर्द में आपका साथ नहीं दे पा रहा, आपको बचा नहीं पा रहा तो बेहतर होगा कि आप ऐसे रिश्ते से बाहर निकलें।

बच्चे को कमजोरी ना बनाएं

अक्सर औरतें बच्चों को कमजोरी समझकर ऐसे रिश्ते में रहने के लिए तैयार हो जाती है। उन्हें लगता है कि बच्चे को पिता से दूर रखना सही नहीं है। मगर ये एक कमजोर दलील है, जो इंसान अच्छा पति नहीं बन सका वो अच्छा पिता कैसे बनेगा। दूसरी बात आज आप पति आपके साथ मारपीट या गाली गलोच करता है तो इसका असर आपके बच्चे की सोच और भविष्य पर भी पड़ता है इसलिए ऐसी दलीलों से खुद को ना बहलाएं और इस रिश्ते से बाहर निकलें। सिंगल मदर हमेशा लाचार मां से बेहतर विकल्प है।

PunjabKesari

डोमेस्टिक वायलेंस का केस

जरूर नहीं कि मार-पीट या शारीरिक प्रताड़ना को ही घरेलू हिंसा (Domestic Violence) कहा जाए। अगर आप अपने पति के साथ मानसिक तौर पर खुश नहीं है तो इसे भी डोमेस्टिक वायलेंस ही माना जाएगा। ऐसे में आप उनपर केस करके कंपनसेशन यानि महीने का खर्चा ले सकती हैं।

खर्चे की ना लें टेंशन

कई बार हाउसवाइफ यह सोचकर केस नहीं करती कि उनका केस का खर्चा कौन उठाएगा। वहीं अगर वो अलग हो जाती हैं तो उनका और बच्चों का क्या होगा। मगर आजकल औरतों के लिए इतने कानून बन गए हैं कि आपको किसी बात कि टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। अपने पति से अलग होने के लिए आप मेनटेनस या घरेलू हिंसा का केस डाल सकती हैं। ऐसे में कोर्ट आपके केस का खर्चा उठाएगा। इसके बाद पति से आपको मेनटेनस का खर्चा मिलेगा, जिससे आप अलग होने के बाद अपना खर्चा उठा सकती है।

PunjabKesari

आपके पास रास्ते हैं, बस जरूरत है तो जानकारी की, इसलिए अगर आपका पति भी गाली-गलोच या मारपीट करता है तो परेशान ना हो बल्कि अपनी आवाज उठाएं। हो सकता है कि लोग आपको बातें सुनाए और परिवार रोकने की कोशिश करे लेकिन अपनी जिंदगी और अपने बच्चों के भविष्य के बारे में सोचें और डरें नहीं बल्कि डटकर उस सिचुएशन का सामना करें।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News