10 AUGWEDNESDAY2022 7:44:51 AM
Nari

क्या Diabetes का कारण बन रहा Coronavirus? एक्सपर्ट की जानिए राय

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 03 Apr, 2021 09:14 AM
क्या Diabetes का कारण बन रहा Coronavirus? एक्सपर्ट की जानिए राय

कोरोना महामारी की शुरुआत से ही कोमोरबिडिटी (Comorbidity) वाले लोगों को खास सावधानी बरतने की हिदायत दी जा रही है। कोमोरबिडिटी मतलब, किसी व्यक्ति को एक या उससे अधिक बीमारियां होना  जैसे डायबिटीज, हार्ट डिसीज, किडनी व लिवर रोग आदि। रिपोर्टस के मुताबिक, ऐसे लोगों को कोरोना होने का ज्यादा खतरा रहता है। मगर, हाल ही में एक रिपोर्ट सामने आई है जिसमें कहा गया है कि कोरोना से डायबिटीज हो सकती है। जी हां, विशेषज्ञों के मुताबिक, कोविड-19 डायबिटीज का कारण बन सकता है।

कोमोरबिडिटी मरीजों को अधिक खतरा क्यों?

कोमोरबिडिटी यानि जिन्हें पहले से कोई गंभीर बीमारी जैसे - डायबिटीज, अस्थमा, ब्लड प्रेशर, HIV, कैंसर, हार्ट डिसीज, मोटापा, फेफड़े, लिवर या किडनी से जुड़ी समस्या। दरअसल, ऐसे लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है, जिससे वायरस आसानी से उनके शरीर में प्रवेश कर पाता है। इस कैटगिरी में बच्चे, बुजुर्ग व प्रेग्नेंट महिलाओं का नाम भी आता है।

PunjabKesari

क्या सचमुच कोरोना बन रहा Diabetes का कारण?

एक्सपर्ट के मुताबकि, कुछ कोरोना संक्रमित मरीजों में ठीक होने के बाद 14% लोगों में डायबिटीज का विकास देखा गया। सर्वे में, यूके, चीन और ब्रिटेन में करीब 40,000 कोरोना संक्रमित या ठीक हो चुके लोगों में इस तरह के लक्षण देखने को मिले। जिन लोगों को कोरोना के बाद डायबिटीज हुआ उन्हें पहले यह बीमारी नहीं हुई थी। इसके बाद डॉक्टर्स और एक्सपर्ट्स की चिंता बढ़ने लगी है।

कोरोना से उबरने के बाद क्यों हो रहा डायबिटीज?

लॉन्ग टर्म कोरोना में ठीक होने के  बाद भी 12 महीनें तक इसके लक्षण नजर आते रहते हैं। वहीं, वायरस इंसुलिन और मेटाबॉलिज्म को कमजोर या डैमेज कर देता है, जिससे डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। वहीं, यह इम्यून सिस्टम को कमजोर करके पैंक्रियाज को भी प्रभावित करता है, जिससे इंसुलिन का स्तर बिगड़ जाता है और टाइप-1 व टाइप-2 डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है।

PunjabKesari

क्या कोविड-19 की दवाइयां भी कारण?

बता दें कि कोरोना से बचाव के लिए दवाइयों पर कई तरह के एक्सपेरीमेंट किए जा रहे हैं। वहीं कुछ दवाइयां मरीजों को दी भी जा रही हैं लेकिन कोई भी गोली करोना का सटीक इलाज नहीं करता। इसके उपचार के लिए कुछ स्टेरॉयड दवाइयां भी यूज हो रही हैं, जो डायबिटीज का कारण बन सकती हैं।

कोरोना वायरस के बाद डायबिटीज के लक्षण

कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों में टाइप-1 और टाइप-2 दोनों तरह के डायबिटीज की संभावना होती है जिसके लक्षण इस तरह हैं...

. लगातार सुस्ती और थकान महसूस होना
. जबरदस्त भूख और प्यास लगना
. चोट या घाव का धीरे धीरे रिकवर होना
. बार-बार यूरिन आना
. अचानक धुंधला दिखाई देना
. हाथों-पैरों में सुन्न या झुनझुनाहट महसूस होना

PunjabKesari

Related News