15 JULWEDNESDAY2020 1:23:26 PM
Nari

फ्रेंच या स्वीट पोटेटो फ्राइज, सेहत के लिए क्या है फायदेमंद?

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 30 Jun, 2020 10:46 AM
फ्रेंच या स्वीट पोटेटो फ्राइज, सेहत के लिए क्या है फायदेमंद?

फास्ट फूड्स आजकल लोगों की जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है, खासकर फ्रेंच फ्राइज या स्वीट पोटेटो फ्राइज। बात फिल्म देखने की हो या किसी सेलिब्रेशन की, यह लोगों की पार्टी में जरूर शामिल होता है। भले ही यह चीजें सेहत के लिहाज से सही नहीं हो लेकिन फिर भी लोग इन्हें बड़े चाव से खाते हैं। वहीं, कुछ लोगों को लगता है कि आलू से बने होने की वजह से फ्रेंच फ्राइज सेहत के लिए फायदेमंद है जबकि ऐसा नहीं है।

आज हम आपको बताएंगे कि दोनों तरह की फ्राइज में फर्क है और सेहत के नजरिए से क्या आपके लिए सही है।

सबसे पहले जानते हैं पोषक तत्व

पोषक तत्वों की बात करें तो स्वीट पोटेटो फ्राइज में फ्रेंच फ्राइज के मुकाबले ज्यादा 150 फैट व 125 कैलोरी होती है। वहीं, फ्रेंच फ्राइज में सोडियम 282 mg, प्रोटीन 1 gm, फाइबर 2gm, पोटैशियम 5%, विटामिन-ए 0% होता है। जबकि स्वीट पोटेटो में सोडियम170 mg, प्रोटीन 2 gm , फाइबर 3gm, पोटैशियम 7% और विटामिन-ए 41% होता है।

PunjabKesari

सेहत के क्या है ज्यादा फायदेमंद?

फ्रेंच फ्राइज के मुकाबले स्वीट पोटेटो फ्राइज में ज्यादा पोषक तत्व होते हैं। हालांकि इनमें मौजूद पोषक तत्व की मात्रा पकाने के तरीके पर निर्भर करता है। मगर, दोनों में एक्रिलामाइड नामक केमिकल भी होता है, जो सेहत के लिए सही नहीं है। ऐसे में सेहत के लिहाज से देखा जाए तो दोनों का सेवन ही कम मात्रा में करना चाहिए।

कैंसर का बन सकता है कारण

शोध की मानें तो दोनों में मौजूद एक्रिलामाइड केमिकल कैंसर का कारण बन सकता है। यही नहीं, इसका अधिक सेवन पाचन क्रिया को भी नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप इनका ज्यादा सेवन ना करें।

PunjabKesari

बेक करना है बेहतर ऑप्शन

फ्रेंच हो या स्वीट पोटेटो फ्राइज, अधिक मात्रा में दोनों का सेवन ही सेहत के लिए हानिकारक है। लेकिन अगर आप फ्राइज खाना इतना ही पसंद है तो कोशिश करें कि इसे घर पर कम तेल में बनाएं। साथ ही फ्राइज को बेक कर लें, ताकि इसमें एक्रिलामाइड की मात्रा हो जाए।

हो सकते हैं ये नुकसान

. अधिक मात्रा में इसका सेवन पेट से जुड़ी समस्याओं का कारण बन सकता है।
. इसमें फैट व कैलोरी का मात्रा अधिक होती है, जिससे बैली फैट व वजन बढ़ता है।
. इससे शुगर व कोलेस्ट्राल लेवल बढ़ सकता है इसलिए डायबिटीज व दिल के मरीज इससे दूर रहें।
. हाई ब्लड प्रेशर के मरीज भी इसका सेवन ना करें। दरअसल, इसमें सोडियम होता है जो बीपी बढ़ा सकता है।
. बेक्ड व तले हुए फ्राइज का ज्यादा सेवन दिल की बीमारियों को भी न्यौता देता है।
. इन्हें बनाने के लिए तेल व हाई सॉल्ट यूज किया जाता है, जो स्किन सेल्स पर बुरा असर डालता। इससे त्वचा डल दिखने लगती है, साथ ही मुंहासे, पिंपल्स जैसी परेशानियां भी होने लगती है।

PunjabKesari

Related News