17 OCTSUNDAY2021 5:40:03 AM
Life Style

मैं हूं ना मेरी बीटिया... कंधों पर हाथ और जीवन में पिता का साथ हर बेटी के लिए है जरूरी

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 24 Sep, 2021 12:15 PM
मैं हूं ना मेरी बीटिया... कंधों पर हाथ और जीवन में पिता का साथ हर बेटी के लिए है जरूरी

वो तस्वीर तो आपको याद होगी जब एक पिता ने अपनी अफसर बिटिया की सफलता पर गर्व करते हुए उसे सैल्यूट किया था। डीएसपी पद पर तैनात अपनी बेटी को सलाम करने वाले इंस्पेक्टर श्याम सुंदर ने लाखों दिलों में जगह बना ली थी।  पिता और बेटी की यह प्यारी सी तस्वीर लोगों के जेहन में उतर गई थी। वहीं अगर हम कारगिल युद्ध की पहली महिला पायलट गुंजन सक्सेना की बात करें तो उनका पिता की जिक्र अपने आप ही हो जाता है। 

PunjabKesari

  
गुंजन के पिता को गुंजन के काम काम के जोखिम के बारे में अच्छे से पता था लेकिन उन्होने अपनी बेटी के काम में कभी भी दखल नही किया और उसे पूरी निष्ठा से काम करने की स्वतंत्रता दी। अब सवाल यह है कि हमारे समाज में कितने ऐसे पिता हैं जो  अपनी बेटियों को उनके लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायता करते हैं? हमारे समाज में कितनी बेटियां गर्व से कह सकती हैं कि उनके पिता ने उन्हें शादी के लिए मजबूर नहीं किया बल्कि हर कदम पर उसका साथ दिया। आज हम आपको बताने चाहते हैं कि कैसे एक पिता अपनी बेटी के लिए मजबूत ढाल बन सकते हैं। 

PunjabKesari
बेटी के साथ एक समान व्यवहार करें

हमारे समाज में आज भी बेटियों को पराया धन या परिवार पर बोझ के रूप में देखा जाता है। लेकिन पिता इस भेदभाव को खत्म कर सकते हैं। अपनी बेटी को  कभी यह एहसास ना कराएं कि वह लडकी है और उसे आगे बढ़ने का हक नहीं है। वह भी उतनी ही सम्मान और स्वतंत्रता की हकदार है जितना की आपका बेटा। 

PunjabKesari

उसके सपने पूरा करने में दे साथ

हमारे समाज में लडकियों को वो ही सपना देखने की इजाजत होती है, जिसमें वह सुरक्षित रह सके। इसके अलावा, एक महिला का करियर इस बात पर भी निर्भर करता है कि आगे जाकर उसके ससुराल वाले इसे स्वीकार करेंगे या नहीं। लेकिन हर पिता को यह बात जरूर समझनी चाहिए कि सपनों का कोई लिंग नहीं होता। आगे बढने के लिए केवल  प्रतिभा, जुनून और कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है। अगर आपकी बेटी के पास ये सब है तो  सपनों को हासिल करने से न रोकें। आज वो आपकी बेटी है और कल वो भी एक ऐसी महिला होगी जिसे देश की कई बेटियों को प्रेरणा मिलेगी


बेटी को दो सुरक्षा का भरोसा 

पिता ही है जो अपनी बेटी को हर काम में सलाह देता है।  एक बाप हमेशा अपनी बेटी की हिफाज़त को ही अपना धर्म मानता है, घर के अंदर और घर के बाहर भी वह अपनी बेटी की मदद के लिए हमेशा मौजूद रहता है और इसलिए बाप-बेटी का रिश्ता इतना मज़बूत होता है।  बस इसीलिए बाप को बेटी अपनी जान से भी ज्यादा समझती है। हर मुसीबत में साथ देने के साथ ही पिता बेटी के साथ हर कदम से कदम मिलाकर चलता है। 

PunjabKesari
उसके लक्ष्य में शादी को ना बनाएं बाधा 

हम जिस समाज में रहते हैं, उसमें पिता पर बेटी की शादी की भी जिम्मेदारी होती है। लेकिन हर पिता को समझना चाहिए की शादी एक विकल्प है, दायित्व नहीं। आप अपनी बेटी को तय करने दीजिए कि वह शादी करना चाहती है या नहीं। उसे अपने जीवन के लक्ष्यों को तय करने के लिए स्वतंत्र करें और जब तक वह चाहें तब तक उनके लिए प्रयास करें।

PunjabKesari
असफल होने पर भी उसका समर्थन करें


असफलता हमारी सफलता की लड़ाई का एक हिस्सा है।   लेकिन महिलाओं के मामले में अगर वह असफल हो जाती है तो उसे नौकरी छोड़कर श्चादी करने के लिए कह दिया जाता है। भारतीय समाज में, कई माता-पिता पहले से ही बेटी की शिक्षा पर पैसा खर्च करने से हिचकते हैं। इस बीच, अगर वह विफल हो जाती है, तो दूसरा मौका मिलने की संभावना बहुत कम होती है।शीर्ष पर पहुंचने से पहले कई उतार-चढ़ावों से गुजरना पड़ता है, ऐसे में पिता ही हैं जो उन्हे आगे सबक सीखने और सफल होने के लिए फिर से प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। 

Related News