30 SEPWEDNESDAY2020 12:16:59 PM
Nari

हौंसले के आगे बौनी पड़ी विकलांगता, पोलियो को मात देकर महिलाओं की प्रेरणा बनी गुनावती

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 16 Sep, 2020 11:26 AM
हौंसले के आगे बौनी पड़ी विकलांगता, पोलियो को मात देकर महिलाओं की प्रेरणा बनी गुनावती

विकलांगता, चाहे शारीरिक हो या मानसिक, लोगों के आत्मविश्वास को तोड़कर रख देती हैं। हालांकि देश में कुछ ऐसी मिसाल भी हैं, जिन्होंने अपनी शारीरिक कमजोरियों के पीछे छोड़ नए रास्ते बनाए और लोगों ऐसे लोगों के लिए एक मिसाल कायम की। उन्हीं में से एक है नाम गुनावती चंद्रशेखरन का भी है...

डेढ़ साल की उम्र में हुआ पोलियो

डेढ़ साल की उम्र में जिस लड़की को पोलियो हुआ वह आज दूसरी महिलाओं के लिए प्रेरणा बनकर उभरी हैं। गुनावती एक ऐसे परिवार से ताल्लुक रखती हैं, जिसमें लगभग सभी लोग डॉक्टर हैं। उनके पिता खुद शिशुओं को पोलियों की दवा देते थे लेकिन बावजूद इसके उन्हीं की बेटी को पोलियों हो गई। एक समय ऐसा था जब गुनावती के लिए बिना सहारे चलना भी मुश्किल था।

PunjabKesari

16 साल की उम्र में हुई शादी

जब वह स्कूल-कॉलेज जाती तो लोग उन्हें देखकर मजाक उड़ाते थे लेकिन उन्होंने ध्यान नहीं दिया। 10वीं की परीक्षा पास करने के बाद उनके परिवार ने 16 साल की उम्र में उनकी शादी कर दी। शादी के बाद उन्होंने 2 बेटियों को जन्म दिया। धीरे-धीरे उनकी बेटियां बड़ी होने लगी। उनके परिवार में सभी महिलाएं वर्किंग थी इसलिए बेटियां उनसे इंस्पायर्ड होने लगी। मगर, वह भी अपनी बेटियों के लिए प्रेरणा बनना चाहती थीं।

गुनावती की ताकत बने उनके पति

ऐसे में उनकी ताकत बनकर आए उनके पति। उन्होंने गुनावती को अपने प्रिंटिंग, बाइंडिंग का बिजनेस में मदद करने के लिए कहा। इसके साथ ही वह ग्राफिक मशीन के इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट भी करते थे। उन्होंने बताया कि जब मैंने काम शुरू किया तो बहुत कुछ सीखने को मिला, मेरी इंग्लिश भी अच्छी हो गई और मेरा आत्मविश्वास बढ़ा।

आर्टवर्क का शुरू किया काम

मगर, बाजार में मंदी के चलते उन्हें एक बार फिर घर बैठना पड़ा। कुछ समझ नहीं आ रहा था कि तभी एक दिन व अपनी बेटी के दोस्त के घर गई जहां उन्होंने पेपर की ज्वैलरी देखी और आधा घंटा जानकारी लेती रहीं। गुनावती को बचपन से आर्ट्स एंड क्राफ्ट में दिलचस्पी थी तो उन्होंने घर आकर यही काम शुरू कर दिया। सबसे पहले उन्होंने 'बटरफ्लाई आर्टवर्क' बनाया, जिसे उनके पति ने फ्रेम करवाकर फैमिली ग्रुप्स में शेयर किया।

20 दिन में पूरा किया पहला ऑर्डर

उनके भाई के कुछ सहकर्मियों को गुनावती का आर्ट बहुत अच्छा लगा और उन्होंने गिफ्ट के लिए उन्हें कुछ आर्डर दिए। इस तरह से उन्हें 40 पेपर आर्ट वर्क बनाने का काम मिला, जो उन्हें 20 दिन में पूरा करना था। उनके पति ने 3 लोगों को उनकी मदद के लिए रखा और उन्होंने समय पर ऑर्डर पूरा कर लिया। फाइनल पैकेजिंग के बाद उनके पति ने सभी आर्टवर्क पर छोटे स्टीकर चिपका दिए जिस पर लिखा था- 'गुणाज क्विलिंग (Guna's Quilling'। इससे उनके काम को एक नाम मिल गया। उनके पति ने स्टीकर के साथ फोन नंबर और E-mail Id लिख दी, ताकि ज्यादा ऑर्डर आ सके।

PunjabKesari

सरकारी स्टॉल के जरिए बेचती हैं सामान

साल 2014, मदुरई जूट मेले में गुनावती पेपर ज्वेलरी पहनकर गई, जिसे देख लोगों ने उन्हें कारीगर की सलाह  और हैंडलूम व हेंडीक्राफ्ट विभाग में अप्लाई करके अर्टीसन कार्ड बनवाने को कहा। इससे वह किसी भी सरकारी आयोजन में भाग ले सकती था। 2 महीने में ही उन्हें कोयम्बटूर में स्टॉल लगाने का मौका मिला, जिसके बाद वह आगे बढ़ती रहीं। आज गुनावती 8 लोगों की टीम के साथ अपने प्रोडक्ट्स को सरकारी स्टॉल के जरिए बेचती हैं।

एंटीक चीजें बनाती हैं गुनावती

बता दें कि गुनावती पेपर की मदद से ग्रीटिंग, मिनिएचर, वेडिंग, नेमप्लेट, ज्वेलरी, कंपनी Logo व कार्ड्स, स्पेशल फोटो फ्रेम्स बनाती हैं। लगभग 8 सरकारी आयोजनों द्वारा वह अपनी सभी चीजें बेचकर करीब 50 से 80 हजार रुपए की कमाई कर लेती हैं। इसके अलावा वह प्राइवेट ऑर्डर पर कस्टमाइज्ड प्रोडक्ट्स भी बना लेती हैं। यही नहीं, उन्हें क्विलिंग गिल्ड, यूके से भी प्रोडक्ट्स बनाने के ऑर्डर भी मिलते रहते हैं।

स्कूल-कॉलेज में लगाती हैं वर्कशॉप

उन्होंने ब्रिटिश काउंसिल अपने बिजनेस पर बात करने का मौका भी मिला है। इसके साथ ही वह कई जगहों पर मोटिवेशनल स्पीच देने के अलावा स्कूल-कॉलेज में वर्कशॉप भी करती हैं। उनके इस बेहतरीन आइडिया के लिए उन्हें जिला स्तर पर 2016 में और राज्य-स्तर पर 2019 में सम्मानित भी किया जा चुका है। उनका कहना है कि हर औरत की अपनी पहचान होनी चाहिए। किसी को भी अपना आत्मविश्वास नहीं खोना चाहिए।

PunjabKesari

गुनावती आज ना सिर्फ अपनी बेटियों बल्कि उन सभी औरतों के लिए प्रेरणा बन गई हैं, जो अपनी विकलांगता या शारीरिक कमजोरी के चलते हार मान लेती हैं।

Related News