04 JULMONDAY2022 9:35:14 AM
Nari

मानसून में मंडरा रहा मलेरिया-डेंगू का खतरा, अभी से बरतें सावधानी

  • Edited By palak,
  • Updated: 15 Jun, 2022 02:15 PM
मानसून में मंडरा रहा मलेरिया-डेंगू का खतरा, अभी से बरतें सावधानी

मलेरिया प्लास्मोडियम प्रजाति के कारण होने वाली एक बहुत ही सामान्य वेक्टर जनित बीमारी है जो मलेरिया परजीवी द्वारा संक्रमित मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से मनुष्यों में फैलती है।मौजूदा आधारित अध्ययनों से पता चलता है कि मानसून के आगमन के साथ ही मलेरिया के मामले बढ़ने लगते हैं। मलेरिया के मामलों में प्रसार और वृद्धि को नियंत्रित करने वाले कारकों में तापमान, सापेक्ष आर्द्रता और बारिश शामिल हैं। मादा एनोफिलीज मच्छर जमा हुए पानी में पनपती है और प्रजनन करती है, जो कंस्ट्रक्शन स्थलों, घरेलू और सार्वजनिक परिवेश में पाई जा सकती है, जहां पानी जमा होता है।बरसात के मौसम के आगमन के साथ, जल जमा होना और जल के ठहराव की घटनाओं में वृद्धि होना तय है, इस प्रकार की हर जगह को मच्छरों के प्रजनन स्थल के रूप में बढ़ावा देना तय है।

PunjabKesari

जबकि डेंगू एडीज इजिप्टी मच्छर के कारण होता है, जो धूल के साथ छिड़के हुए साफ पानी में या कीचड़ भरे पानी में प्रजनन के लिए जाना जाता है, जो 6 दिनों या उससे अधिक समय से स्थिर होता है।

किन लोगों को होता है मलेरिया?

सभी आयु वर्ग के लोग मलेरिया से पीड़ित हैं लेकिन गर्भवती महिलाओं और 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों या जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कम है, उनमें यह अधिक गंभीर रूप से होता है।  

PunjabKesari

मलेरिया के लक्षण

लक्षणों में 101 तक का आवधिक बुखार, पसीना और काँपना, दस्त, मतली, उनींदापन, सिरदर्द, उल्टी, फ्लू जैसे लक्षण, हल्की खांसी और सर्दी शामिल हैं। परजीवियों के आधार पर लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन अधिकतर वे वही रहते हैं।

PunjabKesari

लक्षणों के बिगड़ने से दौरे पड़ सकते हैं और अगर समय पर इलाज न किया जाए तो यह घातक साबित हो सकता है।

इससे बचने के लिए ये करें

. आसपास के क्षेत्र में पानी के ठहराव से बचें और जगहों को साफ रखना बहुत जरूरी है।
. ऐसे कपड़े पहनें जो हल्के रंग के हों और जो आपके पूरे शरीर को ढके हों।
. रात को सोते समय कीटनाशक उपचारित मच्छरदानी का प्रयोग करें। यह सबसे महत्वपूर्ण मलेरिया रोधी उपाय है जिसे किया ही जाना चाहिए, जिसमें लार्वा विरोधी उपाय भी शामिल हैं।
. शाम के समय शयनकक्षों पर एरोसोल कीटनाशक का छिड़काव किया जाना चाहिए।

PunjabKesari
. सार्वजनिक शिक्षा, लोगों में जागरूकता और एहतियाती उपाय और उपलब्ध होने पर टीके का उपयोग करना चाहिए।

डॉ. सानिया वसीम शेख, ट्रॉपिकल रोग विशेषज्ञ
 

Related News