Twitter
You are hereNari

सर्दियों में 30% तक बढ़ जाता है स्ट्रोक का खतरा, जानें क्यों?

सर्दियों में 30% तक बढ़ जाता है स्ट्रोक का खतरा, जानें क्यों?
Views:- Thursday, November 1, 2018-4:40 PM

हार्ट व ब्रेन स्ट्रोक एक खतरनाक बीमारी है। गलत लाइफस्टाइल के चलते आजकल 10 में से 6वां व्यक्ति इसकी चपेट में आ जाता है। इसके कारण कुछ लोग सुनने की क्षमता भी खो देते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि सर्दियों में इसका खतरा बढ़ जाता है। जी हां, सर्दियों में हार्ट व ब्रेन स्ट्रोक की संभवाना बढ़ जाती है।

 

सर्दियों 30% तक बढ़ जाता है स्ट्रोक का खतरा
सर्दियों में स्ट्रोक की संभावनाएं 30 प्रतिशत तक बढ़ जाती हैं। एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है कि ठंड के महीनों में सभी प्रकार के स्ट्रोक के मामलों में वृद्धि हो जाती है। ऐसे में आपको इस मौसम में ज्यादा सावधान रहना चाहिए।

PunjabKesari

क्या है सर्दियों में स्ट्रोक के खतरे बढ़ने की वजह?
पहले हुए कई अध्ययनों के अनुसार, सर्दियों के महीनों में इंफेक्शन की दर में वृद्धि, व्यायाम की कमी और हाई ब्लड प्रैशर, स्ट्रोक की बढ़े हुए मामलों का कारण है। सर्दियों के दौरान वायु काफी हद तक प्रदूषित होती है, जिससे छाती और हृदय की स्थिति बिगड़ जाती है। वहीं इस मौसम में खून गाढ़ा हो जाता है, जिससे रक्त की पतली नलिकाएं संकरी हो जाती हैं और उनका दबाव बढ़ जाता है। ऐसी स्थिति भी स्ट्रोक का खतरा पैदा करती है।
 
किन लोगों को होता है स्ट्रोक का अधिक खतरा?
व्यक्ति को किसी भी उम्र में स्ट्रोक का खतरा हो सकती है। चिंता की बात तो यह है कि आज 12% स्ट्रोक के मरीज 40 से कम उम्र के होते हैं। जिन लोगों को हाई ब्लड प्रैशर, डायबिटीज और हाई क्लोस्ट्रॉल की समस्या है उन्हें इसका संभावना सबसे ज्यादा होती है। वहीं गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन कर रही महिलाएं भी इसकी चपेट में जल्दी आ जाती हैं।

स्ट्रोक के लक्षण
स्ट्रोक का सबसे सामान्य लक्षण होता है शरीर के किसी एक ओर के हिस्से में कमजोरी या लकवा जैसी स्थिति होना। स्ट्रोक आने पर मरीज एक तरफ से हाथ व पैर भी नहीं हिला पाता। बोलने में दिक्कत कम सुनाई देना और धुंधला दिखना भी स्ट्रोक के लक्षण है।

PunjabKesari

स्ट्रोक आने पर क्या करें?
डॉक्टर्स का कहना है कि स्ट्रोक अाने पर अगर सही इलाज किया जाए तो उस व्यक्ति के विकलांगता  से बचाया जा सकता है। स्ट्रोक आने पर रोगी को किसी पास के अस्पताल में ले जाना चाहिए, जहां 24 गुना 7 सीटी स्कैन, एमआरआई की सेवा उपलब्ध हो। लक्षण के शुरुआती घंटे के भीतर इलाज करके रोगी की जान बचाई जा सकती है।

भरपूर मात्रा में पीएं पानी
सर्दियों में लोग कम पानी पीते हैं, जिसके कारण खून गाढ़ा हो जाता है। इससे स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में जरूरी है कि आप सर्दियों में अधिक मात्रा में पानी और तरल पदार्थ पीएं। साथ ही स्ट्रोक से बचने के लिए लोगों को ठंड में शराब और धूम्रपान का सेवन कम करना चाहिए। 

PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
फैशन, ब्यूटी या हैल्थ महिलाओं से जुड़ी हर जानकारी के लिए इंस्टाल करें NARI APP
Edited by:

Latest News