23 OCTWEDNESDAY2019 11:13:30 AM
Life Style

क्यों मनाई जाती है Holi, रंगों से क्या है इसका कनैक्शन?

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 19 Mar, 2019 11:52 AM
क्यों मनाई जाती है Holi, रंगों से क्या है इसका कनैक्शन?

होली, जिसका नाम सुनते ही दिलों-दिमाग में रंग और मस्ती का ख्याल आ जाता है। होली हर साल फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है लेकिन क्या आप जानते हैं होली में रंगों का इस्तेमाल क्यों किया जाता है और इस दिन को मनाने की शुरूआत कहां से हुई। चलिए आज हम आपको बताते हैं रंगों के त्यौहार होली से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें।

 

क्यों मनाई जाती है होली?

दरअसल, होली मनाने के पीछे हिरण्यकश्यप और उसकी बहन होलिका की प्राचीन व पौराणिक कहानी है। हिरण्यकश्यप एक राक्षस था, जिसने तपस्या कर भगवान ब्रह्मा से अमर होने का वरदान पा लिया था और इसके बाद वह निरंकुश हो गया।

PunjabKesari

उस दौरान परमात्मा में अटूट विश्वास रखने वाला प्रहलाद जैसा भक्त पैदा हुआ, जो भगवान विष्णु का परम भक्त था। हिरण्यकश्यप ने सभी को आदेश दिया था कि वह उसके अतिरिक्त किसी अन्य की स्तुति ना करे लेकिन प्रहलाद नहीं माना इसलिए हिरण्यकश्यप ने उसे जान से मारने का प्रण लिया। मगर लाख कोशिशों के बाद भी वह ऐसा ना कर सका।

PunjabKesari

उसकी बहन होलिका को अग्नि (आग) से बचने का वरदान प्राप्त था। ऐसे में हिरण्यकश्यप ने उसकी मदद लेकर प्रहलाद को मारना चाहा लेकिन जैसे ही होलिका प्रहलाद को गोद में लेकर बैठी वह खुद जलकर भस्म हो गई। उसके बाद से ही लोगों ने बुराई पर अच्छाई की जीत पर होली का त्यौहार मनाना शुरू किया। 

 

रंगों और होली का क्या है क्नैक्शन?

ऐसा माना जाता है कि होली में रंग के प्रयोग की शुरुआत भगवान कृष्ण के समय से हुई है। भगवान कृष्ण होली रंगों के साथ मनाते थे, जिसके बाद से होली में रंगों का प्रयोग होने लगा। हालांकि मथुरा-वृदांवन में रंगों के साथ-साथ फूलों से भी होली खेली जाती है। यहां फूलों की होली हफ्ताभर चलती है, जिसमें शामिल होने के लिए विदेश से भी टूरिस्ट आते हैं। इसका सेलिब्रेशन वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर से शुरू होता है।

PunjabKesari

इसलिए भी मनाते हैं होली का त्यौहार

कुछ जगहों में होली को बसंत महोत्सव और काम महोत्सव के नाम से भी जाना जाता है। लोग अपनी फसल पकने की खुशी में भी इसे मनाते है और वो भी 3 या उससे अधिक दिनों तक। वहीं कुछ जगहों पर इस दिन को 'धुलेंडी' भी कहते है। होली के दिन सब लोग मिलकर होली के लोकगीत गाते है, घरो में तरह तरह के पकवान बनाए जाते है।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News