15 JULMONDAY2024 5:00:31 PM
Nari

यहां नेत्र पीड़ित के कष्ट हर लेती है देवी मां, इस मंदिर में नतमस्तक होते ही लौट आती हैं आंखों की रोशनी

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 28 Mar, 2023 04:17 PM
यहां नेत्र पीड़ित के कष्ट हर लेती है देवी मां, इस मंदिर में नतमस्तक होते ही लौट आती हैं आंखों की रोशनी

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में शक्तिपीठ बाराही देवी के मंदिर में नवरात्र में आस्था का समंदर हिलोरे मार रहा है।  यहां न सिर्फ भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं बल्कि जटिल नेत्र रोग से पीड़ित मरीज भी स्वस्थ होकर वापस जाते हैं।  यही कारण है कि भक्त मां को प्रसन्न करने के लिये प्रतीकात्मक नेत्र अर्पित करते हैं।    

PunjabKesari
जिला मुख्यालय से करीब 35 किमी दूर तरबगंज तहसील के सूकर क्षेत्र के मुकंदपुर में स्थित मंदिर में चैत्र नवरात्र के प्रारंभ से ही माता के दर्शन के लिये देश के कोने कोने से आये लाखों श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। महंत राघव दास के अनुसार, बाराही मां के दर्शन मात्र से ही भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है। नवरात्र के दिनों में नेत्रदोष पीड़ित व्यक्तियों द्वारा यहां कल्पवास करने व मन्दिर का नीर एवं करीब 1800 सौ वर्ष प्राचीन विशाल वटवृक्ष से निकलने वाले दुग्ध को आंखों पर लगाने से ज्योति पुन: वापस आ जाती है। नेत्र रोग से पीड़ति माँ को प्रसन्न करने के लिये मां के चरणों में प्रतीकात्मक नेत्र चढ़ाते है।

PunjabKesari
मंदिर मे दर्शन के लिए आस-पास के जिलों के अलावा दूसरे प्रदेश व नेपाल से भी आये भक्त मां के दर्शन के लिये लंबी कतारों में लगे है। मां बाराही मंदिर को उत्तरी भवानी के नाम से भी जाना जाता है। बाराह पुराण के अनुसार, जब हिरण्यकश्यप के भाई हिरण्याक्ष का पूरे पृथ्वी पर आधिपत्य हो गया था। देवताओं, साधू-सन्तों और ऋषि मुनियों पर अत्याचार बढ़ गया तो हिरण्याक्ष का वध करने के लिये भगवान विष्णु को वाराह का रूप धारण करना पड़ा था। भगवान विष्णु ने जब पाताल लोक पंहुचने के लिये शक्ति की आराधना की तो मुकुन्दपुर में सुखनोई नदी के तट पर मां भगवती बाराही देवी के रूप में प्रकट हुईं। 

PunjabKesari
इस मन्दिर में स्थित सुरंग से भगवान वाराह ने पाताल लोक जाकर हिरण्याक्ष का वध किया था। तभी से यह मन्दिर अस्तित्व में आया। इसे कुछ लोग बाराही देवी और कुछ लोग उत्तरी भवानी के नाम से जानने लगे। मंदिर के चारों तरफ फैली वट वृक्ष की शाखायें, इस मन्दिर के अति प्राचीन होने का प्रमाण है। मंदिर प्रांगण मे नवदुर्गाओ , सतियो व अन्य देवी देवताओ के मंदिरो की पूजा अर्चना व हवन में महिला व पुरूष श्रद्धालु लीन नजर आ रहें है। दूर दराज से आये देवीभक्त मां को पुष्प , लौंग, चुनरी , नारियल ,आम पल्लौ , मेवा , मिष्ठान , कमल व अन्य श्रृंगार की सामग्रियों को चढ़ाकर मां की आराधना में जुटे है। इसके अलावा वैदिक रीति से मुंडन संस्कार , यज्ञोपवीत , नामकरण संस्कार , सगाई की रस्म , शगुन , परिणय संस्कार व अन्य रस्में अदा कर रहे है।

Related News