10 JULFRIDAY2020 10:08:23 PM
Nari

भारतीय औरतें क्यों पहनती हैं पायल, जानिए क्या होता है जब शरीर को छूती है चांदी?

  • Edited By Sunita Rajput,
  • Updated: 04 Jun, 2020 02:11 PM
भारतीय औरतें क्यों पहनती हैं पायल, जानिए क्या होता है जब शरीर को छूती है चांदी?

पैरों में पायल की खनक भला किसे अच्छी नहीं लगती? पायल पहनने का चलन आज से नहीं बल्कि हिंदु संस्कृति में सदियों से चला आ रहा हैं। कहा जाता है कि अगर शादीशुदा महिला पैरों में पायल पहनती हैं तो यह शुभ होता है इसलिए परंपराओं के अनुसार सुहागिन को आजीवन पायल पहननी चाहिए। लेकिन क्या आप जानते हैं पायल पहनने के पीछे पारंपरिक ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक कारण भी हैं। महिलाएं हमेशा चांदी की पायल पहनती हैं तो चांदी उनके अंगों से चिपकी रहती हैं जो महिलाओं को शीतलता प्रदान करता है जिससे वो कई बीमारियों से दूर रहती है। आज हम आपको अपने उन्हीं फायदों के बारे में बताएंगे।

नेगेटिव एनर्जी से बचाती है ‘पायल’ 

शादी के बाद पहने जाने वाली पायल बेहद महत्‍वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि इसे पहनने से महिलाओं को पॉजीटिव एनर्जी मिलती है। दरअसल, पायल में लगे घुंघरूओं से निकलने वाली आवाज को क्रिया शक्ति कहते हैं। माना जाता है कि जब यह आवाज वातावरण में गूंजती है तो इसे धारण करने वाले को यह नेगेटिव एनर्जी से बचाती है। 

रक्षा कवच का करती है काम 

पायल पहनने से न सिर्फ नेगेटिव एनर्जी दूर रहती हैं बल्कि यह महिलाओं के लिए एक रक्षा कवच भी होती हैं जो सुहागिनों को बुरी नजर से बचाती हैं। इसलिए भी पैरों में पायल पहनने की पंरपरा बनी हुई हैं। 

हड्ड‍ियों को मजबूत बनाती है ‘पायल’ 

पायल को पहनने के पीछे एक वैज्ञानिक तर्क और है कि यह हड्ड‍ियों को मजबूत बनाती है। दरअसल, पायल जब पैरों पर रगड़ती है तो त्‍वचा के माध्‍यम से इसके तत्‍व हड्डियों को लाभ पहुंचाते हैं जिससे हड्डियां मजबूत बनती हैं। 

सूजन भी होती है दूर 

इसके अलावा यह भी माना जाता है कि यदि किसी विवाहिता के पैरों में सूजन आ जाए और वह पायल पहन ले तो यह समस्‍या दूर हो सकती है।

मोटापा होता है कम

पायल महिलाओं के पेट और निचले अंगों में वसा बढ़ने की गति को रोकती है जिससे महिलाओं का मोटापा कंट्रोल में रहता है। 

इच्छा-शक्ति मजबूत

पैर में पायल पहनने से महिलाओं की इच्छा-शक्ति मजबूत होती है। यही वजह है कि औरतें अपने स्वास्थ्य की चिंता किए बिना पूरी लगन से परिवार की जिम्मेदारियों में जुटी रहती है। 

पायल को लेकर आध्‍यात्मिक मान्‍यता 

चांदी शरीर को ठंडा रखती है इसलिए पायल चांदी की ही पहनी जाती है। यह शरीर के तापमान को नियंत्रित रखती है। पायल को लेकर आध्‍यात्मिक मान्‍यता यह है कि यदि किसी महिला का स्‍वास्‍थ्‍य खराब रहता है तो पायल पहनने से उसकी सेहत में सुधार आने लगता है।

वास्‍तुशास्‍त्र में भी पायल का महत्‍व 

- वास्‍तु शास्‍त्र की मानें तो पायल में लगे घुंघुरूओं की आवाज नकारात्‍मक शक्तियों से बचाती है। इसके अलावा इससे दैवीय शक्तियां भी सक्रिय होती हैं जो कि महिला को बुरी नजरों से बचाती हैं।

- इतना ही नहीं, इससे घर में खुशहाली बनी रहती है और घर में सुख-समृद्धि के साथ धन की बरसात भी रहती है। 

- बात अगर पति-पत्नी के रिश्ते की करें तो वो भी मधुर बना रहता है। तो यह थे पायल पहनने के फायदे जिनके बारे में सुनकर आप भी इसे पहनना शुरू कर देंगे। 


 

Related News