18 JULTHURSDAY2019 12:51:10 PM
Nari

जानलेवा बीमारियों को न्योता देता है विटामिन B का ज्यादा सेवन, जानिए उचित मात्रा

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 15 Jun, 2019 06:55 PM
जानलेवा बीमारियों को न्योता देता है विटामिन B का ज्यादा सेवन, जानिए उचित मात्रा

अक्सर देखा जाता है कि महिलाओं की हड्डियां 40 की उम्र के बाद ही कमजोर हो जाती हैं, जिसका कारण विटामिन बी भी हो सकता है। हाल ही में हुए शोध के मुताबिक, शरीर में विटामिन बी की मात्रा का ज्यादा होना से हड्डियां जल्दी कमजोर हो जाती हैं, जिसमें कूल्हे की हड्डी के कमजोर होने के मामले सबसे ज्यादा देखे गए हैं।

 

कितनी मात्रा में लेना चाहिए विटामिन बी

स्वस्थ रहने के लिए विटामिन बी6 व बी12 बहुत जरूरी है लेकिन सेवन सही मात्रा में करना भी उतना ही जरूरी है। एक महिला को दिनभर में विटामिन बी12 की 2.4 माइक्रोग्राम और विटामिन बी6 की 1.5 मि.ली. लेनी चाहिए, जोकि टुना फिश की थोड़ी सी मात्रा से पूरी की जा सकती है।

PunjabKesari

हानिकारक है विटामिन बी की अधिक मात्रा

शोध के अनुसार, जरूरत से ज्यादा विटामिन बी6 और बी12 लेना महिलाओं की हड्डियों के लिए खतरनाक हो सकता है। इतना ही नहीं, B6 और B12 की हाई सप्लीमेंट्स डोज लंबे समय तक लेने से लंग कैंसर का खतरा भी काफी हद तक बढ़ जाता है।

 

2,304 महिलाएं है इसकी शिकार

इस रिसर्च में 30 वर्ष की 75 हजार 864 महिलाओं को शामिल किया गया, जिसमें 2,304 महिलाओं में कूल्हे की हड्डी में फ्रैक्चर की समस्या पाई गई। साथ ही उनके रोजाना के आहार में पाया गया कि वे सामान्य से अधिक पूरक पदार्थों का सेवन करती हैं, जिसके कारण उनके शरीर में विटामिन बी अधिक मात्रा मिली।

PunjabKesari

हिप फ्रैक्चर का भी हो सकता है खतरा

जो महिलाएं अपने रोजाना आहार में विटामिन बी6 का 2 मि.ली. और बी12 का 10 माइक्रोग्राम से अधिक सेवन करती है, उनमें हिप यानि कमर में फ्रैक्चर का खतरा कम होता है। जबकि 35 मि.ली. विटामिन बी6 व 20 माइक्रोग्राम बी12 की मात्रा लेने वाली 47% महिलाओं में यह खतरा अधिक होता है। इसके अलावा ज्यादा मात्रा में विटामिन बी की गोलियां लेने से हिस्टामिन नामक केमिकल रिलीज होता है, जिससे खुजली, पीलिया और अस्थमा के मरीजों में अटैक की आशंका बढ़ जाती है।

 

गर्भवती महिलाओं के लिए भी हानिकारक

अधिक मात्रा में विटामिन बी12 लेना गर्भवती महिलाओं के लिए सबसे हानिकारक है। इससे ना सिर्फ भ्रूण पर बुरा असर पड़ता है बल्कि यह त्वचा, खुजली, चक्कर आना और सिरदर्द जैसी समस्याओं का कारण भी बन सकता है।

PunjabKesari

 

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad