22 JANFRIDAY2021 6:40:54 AM
Nari

ड्राई फ्रूट्स से लेकर चॉकलेट तक, महिलाएं बना रहीं इको-फ्रेंडली गणपति

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 30 Aug, 2020 12:44 PM
ड्राई फ्रूट्स से लेकर चॉकलेट तक, महिलाएं बना रहीं इको-फ्रेंडली गणपति

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण भले ही देश में गणेश चतुर्थी का उसत्व थोड़ा फीका पड़ गया हो। मगर, इस साल ईको-फ्रेंडली बप्पा की धूम काफी देखने को मिलेगी। लोग भगवान अलग-अलग तरह से ईको फ्रेंडली बप्पा की मूर्तियां बना रहे हैं। यहां हम आपको कुछ ऐसी महिलाओं के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने ना सिर्फ ईको-फ्रेंडली गणपति बनाए बल्कि उन्होंने अपनी क्रिएटिविटी से उन्हें एक अलग रूप भी दिया। चलिए देखते हैं महिलाओं के हाथों व क्रिएटिव सोच से बनी बप्पा की मूर्तियां...

1. मीता सुरैया

सबसे पहले बात करते हैं गुड़गांव की रहने वाली गोल्ड मेडलिस्ट स्कल्पटर आर्टिस्ट मीता सुरैया की। कोरोना महामारी के चलते मीता ने ऐसी क्ले किट बनाई है, जिससे घर पर ही 45 मिनट में गणेश प्रतिमा बनाई जा सकती हैं। हालांकि पहली बार में आपको एक या डेढ़ घंटा लग सकता है। उनकी बनाई मूर्तियां 6 से 18 इंच की होती हैं। मीता ना सिर्फ मिट्टी से इको-फ्रेंडली मूर्तियां बनाती है बल्कि वह लोगों को ऑनलाइन वर्कशॉप के जरिए गणेशजी की मूर्तियां बनाना भी सीखा रही हैं।

PunjabKesari

वह पिछले 11 सालों से मूर्तियां बना रही हैं। यही नहीं, मूर्तियां पर गोल्डन, लाल व काला, मड कलर, काला व सफेद, गोल्डन व लाल कलर कॉम्बिनेशन उनकी खूबसूरती और भी बढ़ा देता है। आप इन्हें घर पर ही टब में रखकर 20 मिनट में विसर्जित कर सकते हैं, जिसे बाद में गमलों में डालकर गार्डनिंग के लिए यूज किया जा सकता है।

PunjabKesari

2. डॉ. अदिति मित्तल

गुजरात के सूरत की रहने वाली डॉ. अदिति मित्तल ने 511 सूखे मेवे से बप्पा की मूर्तियां बनाई है, जिन्हें वह कोरोना पेशेंट्स में बांट रही हैं। इसके लिए उन्होंने मूंगफली, बादाम, अखरोट, काजू का यूज किया है, जिसकी ऊंचाई 20 इंच है। उन्होंने बप्पा का पेट अखरोट तो आंखें को काजू से बनाया है। वहीं कान बनाने के लिए उन्होंने मूंगफली का यूज किया है।

PunjabKesari

उन्होंने अपने ट्विटर पर तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, 'गणेश चतुर्थी के दौरान इन मूर्तियों को सूरत के कोविड अस्पताल 'अटल संवेदना' में रखा गया है। विसर्जन के बाद यह सूखे मेवे इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करेंगे।

PunjabKesari

3. निर्भया स्क्वायड

जयपुर पुलिस निर्भया स्क्वायड की महिला पुलिसकर्मियों भी इको-फ्रेंडली गणेश बना लोगों तक एक खास संदेश पहुंचा रही हैं। दरअसल, इन महिला पुलिसकर्मियों ने मिट्टी में फूल और फलों के बीज डालकर भगवान श्रीगणेश की मूर्तियां बनाई है, जो पानी में घुलने के बाद अंकुरित हो जाएंगी और इससे पर्यावरण संरक्षण भी हो जाएगा। बता दें कि इन महिला पुलिसकर्मियों ने Amazon को भी यह मिट्‌टी की प्रतिमाएं दी हैं, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग ईको-फ्रेंडली गणेश उत्सव सेलिब्रेट करें।

PunjabKesari

4. निधि शर्मा

इंदौर की रहने वाली निधि शर्मा ने चॉकलेट से गणपति बनाकर जरूरतमंदों, दोस्तों और रिश्तेदारों में बांटे। उन्होंने अपने चॉकलेट गणपति की थीम "कोरोना वॉरियर्स" पर रखी थी। इसके अलाव निधी ने एक मॉडल में चॉकेलट से 'कोरोना गो' का स्टेचू भी बनाया है। यही नहीं निधी शर्मा ने दूध से भी बप्पा की मूर्तियां बनाई थी, जिसकी तैयारी वह पिछले साल से कर रही थी।

PunjabKesari

Related News