21 JANTHURSDAY2021 11:10:34 AM
Nari

Women Power: महिला रेलकर्मियों ने रचा इतिहास, पहली बार महाराष्ट्र से गुजरात तक चली मालगाड़ी

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 10 Jan, 2021 10:29 AM
Women Power: महिला रेलकर्मियों ने रचा इतिहास, पहली बार महाराष्ट्र से गुजरात तक चली मालगाड़ी

आजकल आपने सिर्फ पुरुषों को ही रेलगाड़ी चलाते हुए देखा देखा होगा कि लेकिन महिला क्रू की एक टीम ने लोगों की इन धारणाओं को भी तोड़ दिया। दरअसल, हाल ही में एक महिला क्रू टीम ने महाराष्ट्र के पालघर से गुजरात के वडोदरा तक चली मालगाड़ी को पूरी तरह से खुद ऑपरेट किया। यही नहीं, महिलाओं ने बिना किसी परेशानी के उसे स्टेशन तक पहुंचाकर एक इतिहास रच दिया है।

रेलवे अधिकारी बोले- यह गेम चेंजर

महिला क्रू की इस टीम में लोको पायलट कुमकुम एस डोंगरे, असिस्टेंट लोको पायलट उदिता वर्मा और गुड्स गार्ड अनुष्का रे शामिल हैं। 43 क्लोज वैगन वाली यह मालगाड़ी 3,686 टन कार्गो लदी हुई थी। महिलाओं ने मालगाड़ी को वसई रोड से सुबह 6.11 बजे 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलाकर 6 घंटे के अंदर वडोडरा स्टेशन पहुंचाया। पश्चिम रेलवे के चीफ स्पोक्सपर्सन सुमित ठाकुर ने कहा कि यह गेम चेंजर उपलब्धि है, जिससे बाकी महिलाओं को भी प्ररेणा मिलेगी।

PunjabKesari

पहली बार महिलाओं ने ऑपरेट की मालगाड़ी

बता दें कि ऐसा पहली हुआ जब महिला क्रू ने पूरी तरह से गुड्स ट्रेन को ऑपरेट किया हो। लोको पायलट और गुड्स गार्ड के बीच लंबी दूरी होती है, जिसका सफर आसान नहीं होता लेकिन इन महिलाओं ने इस चुनौती को बड़ी ही आसानी से पूरा कर दिखाया।

PunjabKesari

प्रीति कुमारी बनी थीं पहली मोटरमैन

बता दें कि प्रीति कुमारी कुछ साल पहले पश्चिमी रेलवे की मुंबई, लोकल ट्रेन की पहली मोटरमैन बनी थी। इसके अलावा वह पहले भावनगर के कई डिवीजन में बतौर महिला कुली का भी काम कर चुकी हैं।

PunjabKesari

रेलवे अधिकारियों ने की प्रशंसा

रेलवे अधिकारियों ने महिलाओं का हौंसला और काम को देखकर कहा कि महिलाएं रेलवे के हर डिपार्टमेंट में काम कर सकती हैं। हालांकि कई महिलाएं ऐसे काम भी कर रही हैं जो पहले सिर्फ पुरुषों के लिए ही माने जाते थे। उन्होंने कहा कि इन महिलाओं ने साबित कर दिया कि औरतों के लिए कोई भी काम नामुमकिन नहीं। तारीफ के साथ उनका सम्मान भी किया गया।

PunjabKesari

Related News