25 OCTSUNDAY2020 11:21:49 PM
Nari

Bill Gates की कोरोना को लेकर सोच शायद बदल देगी आपका नजरिया!

  • Edited By shipra rana,
  • Updated: 26 Mar, 2020 01:40 PM
Bill Gates की कोरोना को लेकर सोच शायद बदल देगी आपका नजरिया!

कोरोना वायरस दुनिया में ऐसे फैला कि अब इस महामारी के जाने के आसार नजर नहीं आ रहे है। वहीं इस महामारी से बचाव करने के लिए बहुत-से लोग सामने आये है। उसमें से एक नाम आता है अरबपति बिल गेट्स का। उन्होंने पिछले महीने वायरस से लड़ने के लिए 85 मिलियन पाउंड का दान दिया था। मगर उनका इस बीमारी के लिए एक अलग सोच है जो आपका नजरिया भी बदलने की ताकत रखता है। उनका मानना है कि 'जो कुछ भी होता है उसके पीछे एक आध्यात्मिक उद्देश्य होता है।' 

बिल गेट्स के लिए क्या है कोरोना ?
वो कहते है कि "मैं एक मजबूत विश्वासी हूं कि जो कुछ भी होता है, उसके पीछे एक आध्यात्मिक उद्देश्य होता है, चाहे वह जो हमें अच्छा लगे या बुरा हो।जैसा कि मैंने इस पर ध्यान दिया है, मैं आपके साथ साझा करना चाहता हूं कि मुझे क्या लगता है कि कोरोना / कोविद -19 वायरस वास्तव में हमारे लिए क्या कर रहा है।उनका कहना है कि 'यह हमें याद दिला रहा है कि हम अपनी संस्कृति, धर्म, व्यवसाय, वित्तीय स्थिति या हम कितने प्रसिद्ध हैं, की परवाह किए बिना सभी समान हैं। यह बीमारी हम सभी के साथ समान रूप से पेश आती है, शायद हमें भी।'

Bill Gates की कोरोना को लेकर सोच शायद बदल देगी आपका नजरिया!

कोरोना क्या दिला रहा है मनुष्यता को याद ?

यह हमें याद दिला रहा है कि हम सभी जुड़े हुए हैं और एक चीज जो एक व्यक्ति को प्रभावित करती है उसका दूसरे पर प्रभाव पड़ता है।यह हमें याद दिला रहा है कि हमने जो झूठी सीमाएं लगाई हैं, उनका बहुत कम मूल्य है क्योंकि इस वायरस को पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं है।यह हमें याद दिला रहा है, थोड़े समय के लिए हम पर अत्याचार करके, ताकि हम उनका दर्द सह सके शायद जिनपर हमने कभी अत्याचार किया था। 

स्वास्थ का मोल सीखा रहा है कोरोना 
यह हमें याद दिला रहा है कि हमारा स्वास्थ्य कितना अनमोल है और हम कैसे पोषक तत्वों से निर्मित खाद्य और पीने के पानी के माध्यम से इसे उपेक्षित करने के लिए चले गए हैं जो केमिकल्स से दूषित है।यदि हम अपने स्वास्थ्य की देखभाल नहीं करते हैं, तो हम निश्चित रूप से बीमार हो जाएंगे।यह हमें जीवन की कमी की याद दिला रहा है और जो हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है, वह है एक-दूसरे की मदद करना, खासकर जो पुराने या बीमार हैं। हमारा उद्देश्य टॉयलेट रोल खरीदना नहीं है।

आवश्यकता और शौक में फर्क सीखा रहा है कोरोना 

यह हमें याद दिला रहा है कि हमारा समाज कितना भौतिकवादी हो गया है और कैसे, जब कठिनाई के समय में, हम याद करते हैं कि यह आवश्यक वस्तुएं हैं (भोजन, पानी, दवा)मगर हम तो हमारे शौक पर ही ध्यान देते है। यह हमें याद दिला रहा है कि हमारा परिवार और गृह जीवन कितना महत्वपूर्ण है और हमने इसकी कितनी जरुरत है।यह हमें अपने घरों में वापस जाने के लिए मजबूर कर रहा है ताकि हम उन्हें अपने घर में पुनर्निर्माण कर सकें और अपनी पारिवारिक एकता को मजबूत कर सकें।

क्या है हमारा असल मकसद ?
यह हमें याद दिला रहा है कि हमारा सच्चा काम हमारा काम नहीं है, यह वही है जो हम करते हैं, न कि हम जो करने के लिए बनाए गए थे।हमारा असली काम एक-दूसरे की देखभाल करना, एक-दूसरे की रक्षा करना और एक-दूसरे को फायदा पहुंचाना है।यह हमें अपने अहंकार को रोककर रखने की याद दिला रहा है।यह हमें याद दिला रहा है कि हम चाहे कितना भी महान समझें या हम दूसरों को कितना महान समझते हैं, एक वायरस हमारी दुनिया को एक ठहराव तक पहुंचा सकता है।यह हमें याद दिला रहा है कि स्वतंत्रता की शक्ति हमारे हाथ में है।

Bill Gates की कोरोना को लेकर सोच शायद बदल देगी आपका नजरिया!

मुश्किलें ला रही है हमारा असली चेहरा सामने 
हम एक दूसरे का मदद करना, साझा करना, देना, एक दूसरे का समर्थन करना चुन सकते हैं या हम स्वार्थी होना चुन सकते हैं, झूमना, केवल अपने स्वयं की देखभाल करना।दरअसल, यह मुश्किलें हैं जो हमारे असली रंग को सामने लाती हैं।यह हमें याद दिला रहा है कि हम बीमार पड़ सकते है या हम घबरा सकते हैं।हम या तो यह समझ सकते हैं कि इस प्रकार की स्थिति इतिहास में पहले भी कई बार हुई है और बीत जाएगी, या हम घबरा सकते हैं और इसे दुनिया के अंत के रूप में देख सकते हैं और, परिणामस्वरूप, खुद को अच्छे से अधिक नुकसान पहुंचाते हैं।


यह या तो एक अंत हो सकता है या एक नई शुरुआत

यह हमें याद दिला रहा है कि यह या तो एक अंत हो सकता है या एक नई शुरुआत। यह प्रतिबिंब और समझ का समय हो सकता है, जहां हम अपनी गलतियों से सीखते हैं, या यह एक चक्र की शुरुआत हो सकती है जो तब तक जारी रहेगी जब तक हम अंततः उस सबक को नहीं सीखते जो हम करने के लिए हैं।

Bill Gates की कोरोना को लेकर सोच शायद बदल देगी आपका नजरिया!

हमारी धरा है बीमार 
यह हमें याद दिला रहा है कि यह पृथ्वी बीमार है।यह हमें याद दिला रहा है कि हमें वनों की कटाई की। हम बीमार हैं क्योंकि हमारा घर बीमार है।हमारा घर यह धरती है और हमारी धरती बीमार है। यह हमें याद दिला रहा है कि हर मुश्किल के बाद हमेशा आसानी होती है।जीवन सर्कल है, और यह इस महान चक्र में सिर्फ एक चरण है। हमें घबराने की जरूरत नहीं है,यह भी गुजर जाएगा।

आखिर में वो कहते है 'कोरोना सबको मार नहीं बल्कि सुधार रहा है'


 

Related News