07 AUGFRIDAY2020 4:00:02 AM
Nari

बच्चों को रोजाना खिलाएं ये चीजें, कभी नहीं होगी प्रोटीन की कमी

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 29 Jul, 2020 01:04 PM
बच्चों को रोजाना खिलाएं ये चीजें, कभी नहीं होगी प्रोटीन की कमी

प्रोटीन सिर्फ बॉडी बनाने के लिए ही नहीं बल्कि अच्छी सेहत के लिए भी बहुत जरूरी है। खासकर बढ़ते बच्चों के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी मैक्रोन्यूट्रिएंट है, जो हड्डियों, मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। साथ ही यह शारीरिक व दिमागी विकास में भी मदद करता है। शोध की मानें तो 50% बच्चों में प्रोटीन की कमी पाई जाती है जबकि 5 से 12 साल के बच्चों को दोगुणा प्रोटीन चाहिए होता है। टीनएज में यह जरूरत ओर भी बढ़ जाती है।

किस उम्र में प्रोटीन की कितनी जरूरत

. 7 महीने से 12 महीने का बच्चा - रोजाना 11 ग्राम प्रोटीन
. 1 से 3 साल का बच्चा - रोजाना 13 ग्राम प्रोटीन
. 4 से 8 साल का बच्चा - रोजाना 19 ग्राम प्रोटीन
. 9 से 13 साल का बच्चा - रोजाना 34 ग्राम प्रोटीन
. 14 से 18 साल के लड़कों को 52 ग्राम जबकि लड़कियों को 46 ग्राम प्रोटीन चाहिए होता है।

PunjabKesari

ना दें शेक या स्पलीमेंट्स

कई पेरेंट्स बच्चों को प्रोटीन शेक या सप्लीमेंट्स देते हैं, जो उनके लिए हानिकारक हो सकता है। वहीं, डेयरी प्रोडक्ट्स व प्रोटीन सप्लीमेंट्स बच्चे में मोटापे का खतरा बढ़ाते हैं।

किस तरह दें बच्चों को प्रोटीन

. दिन में 3 बार हैल्दी भोजन और 1-2 बार स्नैक्स खाने के लिए दें।
. बच्चे को 3-2 बार अलग-अलग फूड ग्रुप में खाना परोसें।
. डाइट में फल, सब्जियां, अनाज आदि शामिल करें।
. 8 साल या उससे कम उम्र के बच्चे को दिन 2 बार ही डेयरी प्रोडक्ट्स दें। अधिक उम्र वाले बच्चे को दिन में 3 बार दे सकते हैं।

PunjabKesari

बच्चों के लिए प्रोटीन आहार

भारतीय बच्चों में कुपोषण की समस्या अधिक देखने को मिलती है इसलिए यह मा की जिम्मेदारी है कि वह बच्चे को प्रोटीन से भरपूर डाइट दें। उनकी डाइट में दूध, दही, पनीर, पनीर, छाछ, दूध पाउडर, अंडे, फलियां, दाल मूंग, मटकी, चना, चौलाई, सोया, ओट्स, उड़द की दाल, मसूर की दाल, मूंगफली, सुखे मेवे, पिस्ता, सूरजमुखी के बीज, अलसी के बीज, चिकू और नट मिल्कशेक शामिल करें।

PunjabKesari

अगर बच्चे कुछ भी खाने में आनाकानी करते हैं तो आप उन्हें स्मूदी, जूस, या उनकी पसंदीदा चीजों में नट्स, बीन्स आदि शामिल कर सकते हैं। बच्चों के लिए खाने को स्वादिष्ट ही नहीं बल्कि क्रिएटिव भी बनाएं। इससे वो स्वाद व मजे के साथ भोजन करेंगे।

Related News