21 OCTMONDAY2019 6:25:27 PM
Nari

Alert! आंखों पर पड़ी सूजन हो सकता है इस खतरनाक बीमारी के संकेत

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 15 Apr, 2019 11:13 AM
Alert! आंखों पर पड़ी सूजन हो सकता है इस खतरनाक बीमारी के संकेत

नेफ्रोटिक सिंड्रोम किडनी से जुड़ी एक ऐसी खतरनाक बीमारी है, जो लोगों में तेजी से फैलती जा रही है। इस बीमारी में प्रोटीन यूरिन में मिक्स हो जाता है, जिससे गुर्दे और ग्लोमेरुली झिल्ली खराब हो जाती है। ग्लोमेरुली झिल्ली एक ऐसी छोटी वाहिकाएं हैं, जो खून को फिल्टर करके यूरिन के रास्ते बाहर निकालती है। किडनी को डैमेज करने के अलावा यह सिंड्रोम अन्य कई बीमारियों का कारण भी बन सकती हैं। चलिए आपको बताते हैं कि नेफ्रोटिक सिंड्रोम क्या है और इससे कैसे बचाव किया जाए।

 

महिलाओं से ज्यादा पुरूषों को है खतरा

वैसे तो यह सभी वर्ग के आयु के लोगों को प्रभावित करती है लेकिन 2 से 6 आयु वर्ष के बच्चों में यह बीमारी सबसे ज्यादा देखने को मिल रही है। इस बीमारी के 90% मरीज बच्चे होते हैं। इसके अलावा यह बीमारी महिलाओं से ज्यादा पुरूषों में देखने को मिलती है।

नेफ्रोटिक सिंड्रोम के कारण

यह बीमारी इंफैक्शन, नशीली दवाओं के संपर्क, वंशानुगत विकार (Hereditary Disorder) या मधुमेह जैसी अन्य किसी बीमारी के कारण यह सिंड्रोम हो सकता है। इसके अलावा यह बीमारी डायबिटीज, एस.एल. ई. और एमाइलॉयडोसिस आदि के कारण हो सकती है।

PunjabKesari

नेफ्रोटिक सिंड्रोम के लक्षण

सामान्य सूजन
आंखों के नीचे सूजन
कमर, पैर और टखने में सूजन
चेहरे की सूजन
फ्लड रिटेशन की वजह से वजन बढ़ना
भूख की कमी और उच्च रक्त चाप
कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ना

PunjabKesari

नेफ्रोटिक सिंड्रोम से बचाव
सही आहार

अगर आपको यह सिंड्रोम है तो डॉक्टर की सलाह लें। दवाइयों के साथ-साथ अपनी डाइट में स्वस्थ आहार लें। इसके अलावा अपना डाइट में प्रोटीन से भरपूर चीजों को शामिल करें।

PunjabKesari

नमक की कम मात्रा

शरीर में सुजन हो और पेशाब कम आ रहा हो तो रोगियों को पानी और नमक की मात्रा का सेवन कम करना चाहिए। आप दिनभर में कम से कम 5-6 गिलास पानी ही पीएं।

कोलेस्ट्रॉल को करे कंट्रोल

इस सिंड्रोम के साथ अगर आपको कोई किडनी रोग है तो प्रोटीन की मात्रा को सीमित रखें। साथ ही रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने के लिए डाइट में फैट का सेवन कम करें।

करवाएं जांच

उपचार शुरू करने से पहले जांच करवा लें कि कहीं आपको पहले से ही कोई इंफैक्शन या कोई और बीामरी तो नहीं है। अगर ऐसा है तो डॉक्टर आपको उसी के हिसाब से दवाइयां व डाइट के बारे में बताएगा।

PunjabKesari

इंफैक्शन से बचाव

नेफ्रोटिक सिंड्रोम से पीड़ित लोगों को सर्दी, बुखार व अन्य प्रकार के इंफैक्शन होने की संभावना अधिक रहती है। ऐसे में जरूरी है कि आप इससे खुद का बचाव करें।

योग को करे रूटीन में शामिल

अपनी रूटीन में योग को शामिल करें। इससे इस सिंड्रोम को काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News