19 JANTUESDAY2021 12:20:31 PM
Nari

समाज की बदलती तस्वीर! नेपाल की महिलाओं ने कायम की मिसाल, कोरोना मृतकों का कर रहीं अंतिम संस्कार

  • Edited By Janvi Bithal,
  • Updated: 03 Dec, 2020 03:07 PM
समाज की बदलती तस्वीर! नेपाल की महिलाओं ने कायम की मिसाल, कोरोना मृतकों का कर रहीं अंतिम संस्कार

महिलाएं आज हर एक क्षेत्र में अपनी मेहनत से और अपने दम से नाम कमा रही हैं लेकिन वहीं इस बात से भी कोई इंकार नहीं कर सकता है कि महिलाओं पर बहुत सी बाध्यताएं भी लगी हुई हैं। महिलाएं आज भी इस समाज की पुरानी परंपराओं में उलझी हुई हैं। आज भी कईं ऐसी जगह हैं जहां महिलाओं को अंतिम संस्कार में आने की अनुमति नहीं दी जाती है इतना ही नहीं बात अगर पड़ोसी देश नेपाल की करें तो नेपाल में मृत शरीर को महिलाओं द्वारा छूआ जाना अभी भी एक सास्कृतिक निषेध माना जाता है लेकिन इन दिनों सोशल मीडिया पर कुछ ऐसी तस्वीरें वायरल हो रही है जिसे देख हर कोई एक बदलते समाज की तस्वीर देख रहा है। 

मिसाल पेश कर रहीं नेपाल की महिलाएं

PunjabKesari

दरअसल समाज की सारी पुरानी परंपराएं तोड़ती हुई नेपाल की महिला सैनिकों ने ऐसा काम कर दिखाया जिसे देख हर कोई उनके जज्बे को सलाम कर रहा है। दरअसल नेपाल की 4 महिला सैनिक कोरोना संक्रमित मरीजों का अंतिम संस्कार कर एक नेक काम कर रही हैं। यह तो हम सब जानते हैं कि कोरोना संक्रमित देह को कोई भी छूने से पहले हजार बार सोचता है लेकिन इन महिलाओं के मन में ऐसा कोई ख्याल नहीं आया। 

कोरोना मरीजों का कर रही अंतिम संस्कार

एक वेबसाइट की खबर की मानें तो काठमांडू में चार महिला सैनिक प्रोटेक्टिव गियर में कोरोना से मारे गए लोगों का अंतिम संस्कार कर रही हैं और समाज में एक नई मिसाल पेश कर रही हैं। हालांकि नेपाल में महिलाओं द्वारा अंतिम संस्कार करना सांस्कृतिक मान्यताओं के खिलाफ माना जाता है लेकिन इन महिलाओं ने इसकी परवाह किए बिना ही इस नेक काम को किया। 

PunjabKesari

नेपाल की महिला सैनिक पहली बार ऐसा काम कर रही हैं

आपको बता दें कि पड़ोसी देश नेपाल में पहली बार महिला सैनिकों द्वारा यह काम किया जा रहा है। इसी पर 25 वर्षीय कार्पोरल रचना कहती है कि उन्हें खुशी है कि उन्हें इस काम के लिए चुना गया है। क्योंकि अभी तक सिर्फ पुरूष ही जाते थे लेकिन अब महिलाओं को यह जिम्मेदारी दी गई जिससे नेपाल के समाज की तस्वीर बदल रही है। कार्पोरल रचना की मानें तो उन्होंने जबसे इस काम को शुरू किया है तबसे ही वह अपने परिवार वालों से मिलने नहीं गई हैं। परिवार की मानें तो वह बहुत ही कठिन और जिम्मेदारी वाला काम कर रही है। 

अस्पताल से मृतकों के शव ले जाकर करती हैं अंतिम संस्कार 

नेपाल की सैनिक महिलाएं कोरोना मृतकों के शवों को अस्पताल से लाती हैं और उनका अंतिम संस्कार करवाती हैं। वहीं एक महिला सैनिक बताती हैं कि उन्हें खुद पर गर्व होता है कि वह यह नेक काम कर रही हैं। वे बताती हैं कि इस काम को करने के लिए एक तरफ जहां शारीरिक ताकत चाहिए वहीं दिमागी शांति की भी जरूरत होती है। 

PunjabKesari

सच में नेपाल की यह महिला सैनिक अपने इस नेक काम से अलग पहचान कायम कर रही हैं। हम उनके इस जज्बे को सलाम करते हैं। 

ऐसी ही लेटेस्ट अपडेट्स के लिए जुड़े रहिए नारी के साथ। 

Related News