10 AUGWEDNESDAY2022 6:45:55 AM
Life Style

तुलसी विवाह में भूलकर भी ना करें ये काम, जानें क्या करें और क्या नहीं?

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 14 Nov, 2021 09:54 AM
तुलसी विवाह में भूलकर भी ना करें ये काम, जानें क्या करें और क्या नहीं?

हिन्दू पंचांग के अनुसार, तुलसी विवाह कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी यानि देव उठानी एकादशी को मनाया जाता है। कई जगहों पर द्वादशी के अगले दिन यानि तुलसी विवाह भी मनाया जाता है। इस दिन, भगवान विष्णु सहित सभी देवता चार महीने की नींद से बाहर आते हैं, इसलिए इस एकादशी को 'देवुथानी एकादशी' कहा जाता है। कहा जाता है कि जो लोग एकादशी के दिन तुलसी विवाह करते हैं, उन्हें शुभ भाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है। मगर, तुलसी विवाह करते समय बहुत सावधानी बरतनी चाहिए। चलिए हम आपको बताते हैं कि देव उत्थान एकादशी 2021 पर क्या करें और क्या न करें...

नियमित दें तुलसी को जल

तुलसी के पौधे को रविवार, वीरवार और एकादशी के दिन को छोड़कर नियमित रूप से पानी देना चाहिए। इसके साथ ही शाम के समय तुलसी के पौधे से दीपक जलाना चाहिए। कहा जाता है कि जिन घरों में सुबह-शाम तुलसी का दीपक जलाकर जल दिया जाता है। मां महालक्ष्मी की कृपा सदैव उन पर बनी रहती है।

PunjabKesari

तुलसी विवाह क्या करें और क्या न करें:

. विष्णु की पूजा करते समय किसी भी प्रकार की तामसिक वस्तु का प्रयोग नहीं करना चाहिए।
. गठबंधन के लिए लाल चुनरी और पीला कपड़ा ही लें। भगवान विष्णु की छवि के चारों ओर पीला भाग और तुलसी के पौधे पर लाल पक्ष रखें।
. कन्या दान के लिए अपनी हथेली में कुछ अक्षत और दक्षिणा जरूर रखें और इसे भगवान विष्णु को अर्पित करें।
. ध्यान रखें कि इस दिन तुलसी पर जल ना चढ़ाएं क्योंकि देवी भगवान विष्णु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं।
. तुलसी की पत्तियां चंद्रग्रहण, सूर्य के छिपने के बाद, एकादशी और रविवार के दिन नहीं तोड़नी चाहिए इसलिए विष्णु भगवान के भोग के लिए पहले ही तुलसी तोड़ लें।
. इस दिन गुस्सा ना करें और छोटे-बड़ों से मधुर वाणी में बात करें।
. दिन मांस, लहसुन, प्याज, मसूर की दाल आदि चीजों से दूरी बनाकर रखें।
. रात्रि को पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करें और भोग-विलास से दूर रहें।

PunjabKesari

घर में रखी है तुलसी को इन बातों का रखें ध्यान

. तुलसी का पौधा लगाते समय इस बात का ध्यान रखें कि वह दक्षिण दिशा में न हो। इसे अशुभ माना जाता है।
. तुलसी का पौधा हमेशा गमले में लगाना चाहिए। कहा जाता है कि जमीन पर तुलसी का पौधा लगाने से अशुभ फल मिलता है।
. अगर आवश्यक न हो तो तुलसी के पत्तों को नहीं तोड़ना चाहिए। घर में तुलसी के पौधे की ठीक से देखभाल करनी चाहिए।
रविवार, सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण और सूर्यास्त के बाद तुलसी के पत्ते कभी नहीं तोड़ने चाहिए।
. अगर आपने घर में तुलसी का पौधा लगाया है तो उसकी उचित देखभाल करना जरूरी है।
. ध्यान रखें कि यह सूख न जाए और यदि मर जाए तो तुरंत उस स्थान पर एक नया पौधा लगाएं। सूखे पौधे को कूड़ेदान में न फेंके बल्कि नदी में छोड़ दें।

PunjabKesari

Related News