04 MARTHURSDAY2021 12:05:58 PM
Nari

प्रवासी मजदूरों का दर्द: सिर्फ चावल खाया है..दूध नहीं उतर रहा है, 8 दिन की बेटी को क्या पिलाऊं

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 16 Apr, 2020 09:53 AM
प्रवासी मजदूरों का दर्द: सिर्फ चावल खाया है..दूध नहीं उतर रहा है, 8 दिन की बेटी को क्या पिलाऊं

कोरोना के लॉकडाउन के कारण सभी काम धंधे ठप पड़े है ऐसे में सबसे ज्यादा मुश्किल हालातों से मजदूरों गुजर रहे हैं। देखा जाए तो कोरोना के कारण कई ऐसे प्रवासी मजदूर है जिन्हें तीन वक्त का खाना तो क्या एक वक्त का खाना भी बड़ी मुशिकल से नसीब होता है और जिस तरह इस कोरोना से देश के आर्थिक हालात खराब हो रहे है वैसे ही हो सकता है देश में भुखमरी जैसे हालात भी पैदा हो जाए बल्कि इस भुखमरी के हालात से तो कई मजदूर अभी से गुजर भी रहे है।

PunjabKesari

ऐसी ही एक प्रवासी मजदूर है जो इन हालातों के आगे परेशान है और उसका कहना है कि वो कोरोना से मरे या न मरे लेकिन इस भुखमरी से जरूर मर जाएगी। महिला मजदूर की एक बेटी है जो महज 8 दिन की है ऐसे में महिला व उसका पति दोनो उत्तराखंड के नैनीताल गांव के है और पुरानी दिल्ली के किसी इलाके में मजदूरी करते है लेकिन अब इस लॉकडाउन में सभी काम धंधे बंद होने की वजह से उन्हें दो दिन में बस एक बार ही खाना नसीब होता है। अपनी बेटी को देख पिता गोपाल के आंसू नहीं रूकते है वही मां भी खुद को रोक नही पाती। 

PunjabKesari

उसका कहना है कि, 'बस एक मुट्ठी चावल खाया है....दूध नहीं उतर रहा है....बेटी को कैसे पिलाऊं,' अब ये हालात सिर्फ इन मजदूरों के ही नही है बल्कि देश के तमाम दिहाड़ी मजदूरों के हैं जो इस लॉकडाउन के कारण तमाम मुशिकलें झेल रहे है।

Related News