Twitter
You are hereNari

गठिया मरीज करें इन 6 तेल से मसाज, तुरंत मिलेगा आराम

गठिया मरीज करें इन 6 तेल से मसाज, तुरंत मिलेगा आराम
Views:- Friday, December 14, 2018-7:14 PM

जोड़ों का दर्द आजकल आम परेशानी बनता जा रहा है। जिसकी चपेट में सिर्फ बढ़ती उम्र के लोग ही नहीं बल्कि युवा भी आ रहे हैं। मसल्स की कमजोरी, हड्डियों में दर्द, हाथों-पैरों में सूजन, जोड़ों में ऐंठन, चलने-फिरने और उठने-बैठने आदि से जुड़ी समस्याएं शरीर में पोषक तत्वों की कमी का संकेत हैं। इससे धीरे-धीरे नर्वस सिस्टम बिगड़ना शुरू हो जाता है जो गठिया रोग को जन्म देता है। हड्डियों के इस रोग को आर्थराइटिस के नाम से भी जाना जाता है। 

गठिया के प्रकार

शुरूआत में ही जोड़ों के दर्द या यूरिक एसिड की अनदेखी करने से तकलीफ बढ़ कर गठिया का रूप ले लेती है। इसमें हड्डियों में असहनीय दर्द होता है। आर्थराइटिस दो प्रकार का है एक ऑस्टियोआर्थराइटिस (अस्थिसंधिशोथ) और दूसरा रूमेटाइड आर्थराइटिस (रुमेटी संधिशोथ)

ऑस्टियोआर्थराइटिस

ऑस्टियोआर्थराइटिस में एक या एक से ज्यादा जोड़ों के कार्टिलेज टूटते या घिसते रहते हैं। जिससे हड्डियां कमजोर और जोड़ों में दर्द होना शुरू हो जाता है। 

रूमेटाइड आर्थराइटिस 

रूमेटाइड यानि रुमेटी आर्थराइटिस की शुरुआत तब होती है जब कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर के ऊतकों पर हमला करती है। इसका प्रभाव सिनोवियम पर पड़ता है जो जोड़ों में पाया जाने वाला नर्म टिशु है। इससे जोड़ों को चिकनाई, पोषण और लिक्विड मिलता है। रूमेटी गठिया जोड़ों पर हमला करके इस सिनोवियम को नष्ट करता है। इस स्थिति में हड्डियां बहुत कमजोर और टेढ़ी होनी शुरू हो जाती हैं। 

गठिया के दर्द से राहत पाने के लिए बेस्ट एसेंशियल ऑयल 

सर्दी के मौसम में गठिया की परेशानी ज्यादा बढ़ जाती है। ठंडे मौसम में दर्द और सूजन होने लगती है। इससे राहत पाने के लिए डाइट का ख्याल रखने के साथ-साथ कुछ एसेंशियल ऑयल भी आपकी मदद कर सकते हैं। 

पिपरमेंट ऑयल

नारियल के तेल में पिपरमेंट ऑयल की 5 से 8 बूंदे मिक्स करके इसे गुनगुना कर लें। इस तेल से जोड़ों की मसाज करने से बहुत फायदा मिलता है। दिन में 3-4 बार इसका इस्तेमाल करें।  

PunjabKesari, Pepramint oil

नीलगीरी का तेल 

यह तेल दर्द और सूजन से राहत दिलाने में मददगार है। नहाते समय गुनगुने पानी में इस तेल की कुछ बूंदे मिला लें। रोजाना इसका इस्तेमाल करने से फायदा मिलता है। 

लेमनग्रास ऑयल

गर्म पानी में कुछ बूंदे लेमनग्रास तेल की डाल कर इससे हाथों और पैरों को भाप दें। दर्द के साथ-साथ सूजन भी ठीक होने लगेगी। 

लेवेंडर ऑयल

इस तेल का इस्तेमाल करने से जोड़ों के दर्द से बहुत राहत मिलती है। 2 बूंद तेल को सरसों के तेल में मिलाकर हल्के हाथों से मसाज करें। 

जिंजर ऑयल

इस ऑयल को लेवेंडर और लेमनग्रास ऑयल के साथ मिलाकर जोड़ों की मसाज करें और मसाज वाले हिस्से को ढक कर रखें। 

PunjabKesari, Ginger oil

कैमोमाइल ऑयल

इस तेल से स्किन, हेयर और हेल्थ प्रॉब्लमस दूर होती हैं। गठिया के दर्द से छुटकारा दिलाने में भी यह मददगार है। तेल से मसाज करें या फिर नहाते समय गुनगुने पानी में तेल की कुछ बूंदे मिला लें। 

PunjabKesari, Chamomile Oil
 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
Edited by: