15 OCTTUESDAY2019 7:16:48 AM
Nari

Inspiration: जीजा के एक बदले ने बिगाड़ा था रेशमा का चेहरा लेकिन नहीं तोड़ पाया हौंसला

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 27 Mar, 2019 03:17 PM
Inspiration: जीजा के एक बदले ने बिगाड़ा था रेशमा का चेहरा लेकिन नहीं तोड़ पाया हौंसला

एसिड अटैक जैसे अपराध में भले ही आरोपी को सजा मिलती है लेकिन पीड़ित उम्र भर उस दर्द से उभर नहीं पाता। तेजाब से मिले जख्म तो शायद एक वक्त बीतने पर भर जाएं लेकिन अंदर तक झकझौर देने वाला दर्द उम्र भर झेलना पड़ता है। इस अटैक की शिकार ज्यादातर लड़कियां ही होती है जो सिर्फ उनकी सूरत ही नहीं बल्कि आगे की सारी जिंदगी भी बर्बाद कर देता है। एसिड सर्वाइवर, लक्ष्मी अग्रवाल की तरह और भी बहुत सारी लड़कियां हैं जो इस अटैक की शिकार हुई हैं उन्हीं में से एक हैंं प्रयागराज (इलाहाबाद) की रहने वाली रेशमा कुरैशी, जिन्होंने इस असहनीय पीड़ा को झेला लेकिन वह हारी नहीं बल्कि हौंसले से अपनी जिंदगी को नया मोड़ दिया।

PunjabKesari

किसी अजनबी नहीं जीजा ने ही फेंका था तेजाब

बता दें कि 19 मई, 2014 को इलाहाबाद में रेशमा के चेहरे पर तेजाब उनके जीजा ने ही फेंका था। रेशमा के अनुसार, उनका जीजा उनकी बहन गुलशन को मारता-पीटता था। फिर एक दिन वह अपनी बहन और उनके दोनों बच्चों को घर ले आईं, जिसके बाद उन्होंने बेटे का एडमिशन स्कूल में करवा दिया लेकिन जीजा ने बेटे को स्कूल से उठा लिया। इसके बाद केस कोर्ट में चला गया, जिसका फैसला रेशमा की बहन के हक में आया।

रेशमा ने बताया, '19 मई, 2014 को जब वो अपनी बहन के साथ एग्जाम देने जा रही थी उसी समय जीजा और उसके दोस्त अचानक सामने आ गए। उन्होंने बहन पर तेजाब फेंका। तेजाब के छींटे बहन की बाजू पर गिरे। बहन ने मुझसे भागने को कहा। मैं भागने लगी लेकिन जीजा ने मेरा बुर्का हटाया और बाल पकड़कर मेरे चेहरे पर तेजाब फेंक दिया। पल भर में ही मेरा चेहरा जलने लगा और मैं चिल्लाने लगी। स्टेशन के पास बहुत से लोग थे लेकिन सब तमाशा देखते रहे।'

PunjabKesari

चेहरे के साथ गंवानी पड़ी आंख

21 साल की रेशमा कुरैशी का अतीत जितना दर्दनाक है, उनका वर्तमान, महिलाओं के लिए उतना ही प्रेरणादायी है। एसिड अटैक का शिकार बनी इस युवती का सिर्फ चेहरा ही खराब नहीं हुआ बल्कि इसके कारण उन्हें अपनी एक आंख भी गवांनी पड़ी। बावजूद इसके उन्होंने हार नहीं मानी और आज वह हर उस महिला के लिए मिसाल बन गई है, जो अपनी छोटी-छोटी परेशानियों के आगे झुक जाती हैं।

घटना के बाद छोड़ दी थी जीने की आस

घटना के बाद एक अजनबी ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया लेकिन इससे उनका चेहरा और एक आंख खराब हो चुकी थी। उपचार के बाद वह घर पहुंची तो आईने में अपनी सूरत देख अवाक रह गई। उन्होंने परिवार वालों से कहा कि मुझे पहले जैसा बना दो वरना मैं कुछ कर बैठूंगी लेकिन परिवार वाले बेबस थे। इस घटना के बाद तो उन्होंने जीने की आस भी छोड़ दी थी।

PunjabKesari

रिया शर्मा ने दी जीने की नई राह

अंधेरे में कैद हो चुकी रेश्मा की जिंदगी में रिया शर्मा रोशनी बनकर आईं। वह 'Make Love Not Scars' संस्था चलाती हैं। रिया मैम ने ही मुझे बताया कि दुनिया में असंख्य महिलाओं पर Acid Attack हुए हैं। इसका मतलब यह तो नहीं कि वो जीने की आस ही छोड़ दें। तुम जिंदादिली से जिओ, जिंदगी खूबसूरत दिखने लगेगी। उनके इन शब्दों ने मेरे दिमाग में नई ऊर्जा भर दी।'

रैंप पर कैटवॉक कर जीता लोगों का दिल

तेजाब से चेहरा खराब होने के बाद भी रेशमा ने फैशन की दुनिया में कदम रखा और रैंपवॉक करने की हिम्मत दिखाई। उन्होंने न्यूयॉर्क फैशन वीक में रैंप पर कैटवॉक कर यह संदेश दिया कि रंग रूप ही असली खूबसूरती नहीं होती। 

PunjabKesari

एसिड पीड़िताओं की आवाज बनी

उनका कहना है कि जिंदगी बेशकीमती है और दुनिया को एसिड पीडि़ताओं को कमजोर नहीं समझना चाहिए। उन्होंने यू-ट्यूब पर 'Make Love Not Scars' शीर्षक से वीडियो जारी किया है, जिसका मकसद एसिड़ अटैक का शिकार हुई महिलाओं के मन में नई रोशनी जगाना है। वहीं 'ब्यूटी टिप्स बाई रेशमा' नाम से भी एक अन्य वीडियो जारी किया है, जिसका मकसद बाजार में आसानी से मिलने वाले तेजाब की बिक्री के खिलाफ था।

PunjabKesari

लेखिका तान्या रेशमा ने रेश्मा पर हुए Acid Attack व उसके बाद उत्पन्न हुई परिस्थितियों को एक किताब का रूप दिया है। पुस्तक में रेशमा की हिम्मत व हौसले की कहानी बताई गई है।

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News