04 JULMONDAY2022 9:25:18 AM
Nari

बरसाती मौसम में त्वचा का रखें खास ख्याल, ब्यूटी क्वीन शहनाज हुसैन से लें टिप्स

  • Edited By palak,
  • Updated: 22 Jun, 2022 04:33 PM
बरसाती मौसम में त्वचा का रखें खास ख्याल, ब्यूटी क्वीन शहनाज हुसैन से लें टिप्स

मानसून की फुहारों से मौसम में बदलाव की शुरुआत होती है। मानसून आते ही मौसम सुहावना हो जाता है। मानसून का मौसम रोमांच से भरपूर होता है। गर्मी का मौसम समाप्त होते ही जब तपती धरती पर बारिश की रिमझिम बौछारें  गिरती हैं तो समस्त सजीव को तरोताजा कर देती हैं। बारिश के इस सुहाने मौसम का लुत्फ उठाने की हर आदमी को इच्छा होती है। हालांकि मानसून की बारिश में भीगना और मस्ती करना बहुत अच्छा लगता है लेकिन वातावरण में उमस, आर्द्रता,की वजह से खुजली जलन, लाल दाग तथा संक्रमण की अनेक बीमारियाँ   शुरु हो जाती हैं।  

PunjabKesari
 मानसून सीज़न ठण्डी हवाओं, फूलों का खिलना और गर्मा-गर्म खाने के लिए जाना जाता है। मानसून की पहली बारिश के साथ ही वातावरण में आर्द्रता आ जाती है जिसकी वजह से त्वचा से जुड़ी अनेक समस्याएं खड़ी हो जाती है। आपकी त्वचा पर पसीना वातावरण के प्रदुषक कणों को आकर्षित करके त्वचा के छिद्रों को बन्द कर देता है जिससे त्वचा में संक्रमण, एलर्जी, मुहांसे, काले धब्बे, फंगस आदि कीसमस्या पैदा हो जाती है । इसलिए मौसम बदलते ही आपको अपनी  त्वचा से जुड़ी दिनचर्या को भी बदलना चाहिए, कई बार आप आसमान में घिरे बादलों को देखकर यह अहसास करती हैं कि आज मौसम में ठंडक का अहसास होगा लेकिन मानसून के मौसम में यदि आसमान बादलों से भी घिरा है तो भी आप घर से बाहर निकलने से 20 मिनट पहले सनस्क्रीन का उपयोग अवश्य करें। यह सुनिश्चित कर लें कि आपकी सनस्क्रीन जैल फार्म में पानी अवरोधक एस.पी.एफ 30 होनी चाहिए जो कि यू.वी.ए तथा यू.वी.बी किरणोंसे प्रतिरक्षा प्रदान करें। यदि आप बर्फीले क्षेत्रों या समुद्र तल के नजदीक रहती हैं तो इन क्षेत्रों में सूर्य की किरणें बहुत तेज होती हैं तथा इन स्थानों पर आपको एस.पी.एफ 40 सनस्क्रीन उपयोग करनी चाहिए।

ऑयली स्किन के लिए सनस्क्रीन 

 यदि आपकी त्वचा तैलीय है तो सनस्क्रीन जैल का उपयोग बेहतर रहेगा। उमस भरे मौसम में खुद को हाइड्रेट रखना सबसे जरूरी होता है ताकि त्वचा की नमी बरकरार रखी जा सके। इस मौसम में सुबह उठते ही सबसे पहले गर्म पानी में नींबू का रस डालकर जरूर लें जिससे शरीर के विषैले तत्व बाहर चले जायेंगे तथा इससे त्वचा पर कील मुहांसे उगने की संभावनायें कम हो जाएंगी।

PunjabKesari

डाइट का रखें ध्यान  

अपने आहार में फल, सब्जियां सालाद, दही, लस्सी जैसे पदार्थों को अवश्य शामिल करें। इस मौसम में चाय, कॉफी,  कोल्ड ड्रिंक आदि का परहेज बेहतर होगा जबकि नारियल पानी में विद्यमान पोटेशियम की वजह से यह आपकी त्वचा के लिए बेहतर होगा।

PunjabKesari

शारीरिक स्वच्छता का रखें ध्यान 

इस मौसम में व्यक्तिगत शारीरिक तथा वस्त्रों की स्वच्छता, निर्मलता काफी महत्वपूर्ण होती है क्योंकि पसीना कपड़ों पर चिपक जाता है जिससे शरीर से दुर्गन्ध तथा बदबू आनी शुरु हो जाती है। इस मौसम में दिन में दो बार स्नान कीजिए तथा कॉटन या लिनन के वस्त्र धारण कीजिए ताकि पसीने की बदबू छिद्रयुक्त कपड़ों के माध्यम से बाहर निकल जाए जिससे आप फंगल या जीवाणुसम्बन्धी संक्रमण से बच सकें। 

PunjabKesari

स्किन टोनर करें इस्तेमाल 

बरसात के मौसम में आर्द्रता बढ़ जाने से त्वचा को तरोताजा तथा ठण्डक प्रदान करने के लिए अच्छी गुणवत्ता का स्किन टोनर होना बहुत जरूरी है। बरसात में गुलाब जल बेहतरीन स्कीन टोनर माना जाता है क्योंकि यह प्राकृतिक तौर पर ठण्डक प्रदान करता है तथा त्वचा को ताजगी व स्फुर्ति का अहसास दिलाता है। आप अपने फ्रिज में गुलाब जल टानिक या गुलाब जल रखलें। आप दिन में ताज़गी का अहसास पाने के लिए चेहरे को गुलाब जल में धो सकती हैं। यदि आप बाहर जाती हैं तो गीले टीशू अपने साथ ले जायें तथा थकान का अहसास होने पर गीले टीशू से चेहरे को पोंछते रहिए।

PunjabKesari

त्वचा दिखेगी जवां

अपनी त्वचा में मृत कोशिकाओं को हटाने के लिए कॉफी,पपीता, दही, टी बैग बेकिंग सोडा का इस्तेमाल कीजिए ताकि त्वचा पर नई कोशिकाएं उभर सकें जिससे आप जवां दिखाई देंगी होंगी। त्वचा के छिद्रों को तैलीय या प्रदुषित पदार्थों से मुक्त रखिए।

PunjabKesari

तुलसी और नीम का फेस वाश करें इस्तेमाल 

 इस दौरान सुबह तुलसी या नीम युक्त फेस वाश का प्रयोग कीजिए। इस दौरान त्वचा की कोमलता तथा ताज़गी सुनिश्चित करने के लिए केवल प्रकृतिक संघटकों से बने सौन्दर्य उत्पादों को ही प्राथमिकता दें। 

PunjabKesari

ऐसे रखें अपना ख्याल  

बरसाती मौसम में खुला फुटवीयर पहनें ताकि पसीना सामान्य वातावरण में जल्दी सूख जाए इस मौसम में कृत्रिम गहनों के उपयोग से बचें क्योंकि वातावरण में विद्यमान आर्द्रता से इनसे त्वचा में एलर्जी हो सकती है।मानसून में तापमान नम होने के साथ शुष्क भी होता है जिससे त्वचा का खराब होना लाजमी है। इस मौसम में सूर्य की यू.वी.ए तथा यू.वी.बी किरणें भी तेज होती हैं। वातावरण में नमी होती है जिससे त्वचा तैलीय होने लगती है।

PunjabKesari

बारिश का मौसम आपको भी ज़रूर अच्छा लगता होगा लेकिन यह मौसम अपने साथ त्वचा सम्बंधी कई समस्या भी लाता है ।

बारिश की बूंदे भले ही गर्मी से राहत दिलाने का काम करती है लेकिन इस मौसम में त्वचा संक्रमण संबधित बीमारियों का खतरा काफी बढ़ जाता है।

Related News