12 APRMONDAY2021 4:36:51 PM
Nari

गांव की सूरत बदल रही पिंकी, कभी स्कूल जाने पर इसी समाज ने किया था विरोध

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 02 Apr, 2021 02:09 PM
गांव की सूरत बदल रही पिंकी, कभी स्कूल जाने पर इसी समाज ने किया था विरोध

भारत के गांव की तरक्की में भी महिलाएं अहम भूमिका निभा रही हैं। यही नहीं, जहां पहले गांव पंचायत में सिर्फ पुरुषों का बोलबाला होता था वहीं अब महिलाएं भी पंचायत में शामिल होकर गांव-गांव की तस्वीर बदल रही हैं। उत्तर प्रदेश, रामपुर जिले की रहने वाली पिंकी गौतम, जो ग्राम पंचायत की सदस्य बनकर गांव का नक्शा बदलने में लगी हुई हैं।

गांव की लड़कियों के लिए बनी इंस्पिरेशन

जब गांव के प्रधान पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया तो पिंकी को प्रधान की जिम्मेदारी सौंप दी गई। उन्होंने भी बहुमत से ग्राम सेटा खेड़ा , ग्राम पंचायत सदस्य के रूप में जीत हासिल की क्योंकि गांव में लोग उनकी ईमानदारी के प्रशंसक हैं। यहीं नहीं, गांव की हर लड़की के लिए पिंकी इंस्पिरेशन भी बन चुकी हैं।

PunjabKesari

M.A. और B.ed की ली है डिग्री

पिंकी ने डबल M.A. और B.ed में डिग्री हासिल की है। वह इतनी ईमानदार है कि छोटे से लेकर बड़ों तक, हर कोई उनकी मिसाल देता है। उन्होंने बेहद कम समय में ईमानदारी की ताकत से एक अलग पहचान बनाई।

गांव को बना रही स्मार्ट

पिंकी ना सिर्फ ईमानदार बल्कि अपने काम को लेकर निष्ठावान भी हैं। उन्होंने गांव में शौचालयों व सड़कों का निर्माण करवाया। साथ ही उन्होंने गांव के लिए हर जरूरी विकास कार्य पर भी ध्यान दिया।

PunjabKesari

कभी नहीं जाने दिया जाता था स्कूल

आज जिस पिंकी की ईमानदारी की लोग कसमें खाते हैं , एक समय ऐसा भी था जब उन्हें स्कूल तक नहीं जाने दिया जाता था। पढ़ाई पूरी करने के लिए उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। समाज का विरोध करते हुए वह कई-कई कि.मी. दूर पढ़ने के लिए जाती थी। बुलंद हौंसलों और मेहनत से उन्होंने हाई स्टडी हासिल की और ना सिर्फ उनके माता-पिता बल्कि पूरा गांव पिंकी पर नाज करता है।

PunjabKesari

पिंकी के घर से पहले कोई राजनीति में नहीं उतरा जबकि उनका मानना है कि युवाओं को चुनाव में हिस्सा लेना चाहिए। हालांकि वह हर फैसले में बुजुर्गों को भी साथ लेकर चलती हैं।

Related News