24 JULWEDNESDAY2024 11:52:01 AM
Nari

किन्नर कैलाश के दर्शन करने पहुंची Himanshi Khurana! धार्मिक स्थल में जाने से पहले जान ले ये बातें

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 26 Aug, 2023 04:45 PM
किन्नर कैलाश के दर्शन करने पहुंची Himanshi Khurana! धार्मिक स्थल में जाने से पहले जान ले ये बातें

पंजाबी एक्ट्रेस और मॉडल हिमांशी खुराना काफी धार्मिक हैं। कुछ महीनों पहले जहां वो केदरानाथ के दर्शन करने गईं थी। वहीं अब उन्होंने इंस्टा पर फैन्स से अपनी किन्नर कैलाश यात्रा की तस्वीरें शेयर की। साथ में उन्होंने कैप्शन लिखा-किन्नर कैलाश! इस दौरान वो किन्नर पर्वत पर सिर पर चुनरी डालें देखी गईं। बता दें किन्नर कैलाश हिमाचल के किन्नोर जिले में स्थित है। ये शिवलिंग 79 फिट ऊंचा है। इसके आस- पास बर्फीले पहाड़ों की चोटियां हैं जो इसकी खूबसूरती पर चार- चांद लगती हैं। अगर आप भी भोलेनाथ की भक्ति करने के लिए यहां आने चाहते हैं तो पहले ये बातें जान लें...

PunjabKesari

किन्नर कैलाश शिवलिंग का आकार त्रिशूल जैसा

किन्नर कैलाश शिवलिंग का आकार त्रिशूल जैसा लगता है। किन्नर कैलाश पार्वती कुंड के काफी नजदीक है जिस वजह से भी इसकी मान्यता बहुत ज्यादा है।   

बार-बार रंग बदलता है शिवलिंग

किन्नर कैलाश की खास बात ये है कि यहां पर स्थित शिवलिंग बार-बार रंग बदलता है। कहा जाता है कि यह शिवलिंग हर पहर में अपना रंग बदलता है। सुबह के समय इसका रंग अलग होता है और दोपहर के समय सूरज की रोशनी में इसका रंग बदला हुआ दिखता है और शाम होते ही इसका रंग फिर से बदल जाता है।

PunjabKesari

ट्रेकिंग करने का सबसे अच्छा समय

यहां पर ट्रेकिंग करने का सबसे अच्छा समय मई से अक्टूबर तक होता है क्योंकि इस समय इसकी खूबसूरती अलग ही होती है और दूसरी बात सर्दियों के महीने में यहां बर्फ बहुत रहती है, जिस वजह से  ट्रेकिंग करना आसान नहीं। यहां पर बारिश भी बहुत ज्यादा होती है जिस वजह से मानसून में यहां आने के लिए मना किया जाता है।

चढ़ाई करना बेहद मुश्किल

यहां पर चढ़ाई करना बेहद मुश्किल है। क्योंकि यहां 14 किलोमीटर लंबे इस ट्रेक के आस-पास बर्फीली चोटियां हैं। लेकिन यहां कि खूबसूरती देखते ही बनती है। यहां के सेब के बगान के साथ यहां की सांग्ला और हंगरंग वैली के नजारो की बात ही अलग है। इस ट्रेक का सबसे पहला पड़ाव तांगलिंग गांव जो सतलुज नदी के किनारे बसा है। यहां से 8 किलोमीटर दूर मलिंग खटा तक ट्रेक करके जाना पड़ता है। इसके बाद 5 किलोमीटर दूर पार्वती कुंड तक जाते हैं। यहां से तकरीबन एक कलोमिटर की दूरी पर किन्नर कैलाश स्थित है।

कैसे पहुंचे कैलाश किन्नर

रेलवे स्टेशन

कल्पा से लगभग 309 किलोमीटर की दूरी पर कालका रेलवे स्टेशन है।

PunjabKesari

हवाई अड्डा

किन्नर कैलाश से लगभग 243 किलोमीटर की दूरी पर शिमला हवाई अड्डा है।

सड़क द्वारा

दिल्ली से शिमला की दूरी लगभग 342 किमी, शिमला से कल्पा की दूरी लगभग। 223 किमी और कल्पा से पोवारी की दूरी। 9.7 किमी। पोवारी गाँव इस यात्रा की शुरुआत का बिंदु है।

Related News