23 JULTUESDAY2019 4:58:04 AM
Nari

घर की शोभा बढ़ाने के साथ पर्यावरण को भी बचाएंगे ये Eco-Friendly फर्नीचर

  • Edited By Harpreet,
  • Updated: 10 Jul, 2019 12:24 PM
घर की शोभा बढ़ाने के साथ पर्यावरण को भी बचाएंगे ये Eco-Friendly फर्नीचर

आजकल सब लोग पर्यावरण को बचाने के प्रति चिंतित हैं। क्यों न इसकी शुरुआत अपने घर से ही की जाए। आप शायद नहीं जानते कि हमारे घर में ऐसी बहुत सी चीजें मौजूद हैं जिन्हें बनाते वक्त काफी हद तक प्रकृति से खिलवाड़ किया जाता है। तो चलिए जानते है प्रकृति के साथ छेड़छाड़ किए बगैर आखिर किस तरह से घर को सजाया जा सकता है।

लकड़ी की बजाए बांस बहुत तेजी से उगता है। ऐसे में हम बांस से बनी कुर्सियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे घर को एक डिफ्रेंट लुक मिलेगी।

PunjabKesari

पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए आजकल मार्किट में दीवारों को रंगने के लिए कैमिकल्स फ्री रंगों को जगह दी जा रही है। आपको किसी भी अच्छी पेंट शॉप पर आसानी से ये रंग मिल जाएंगे।

PunjabKesari

भारत में एक फैक्टरी 5 किलो अखबार को रीसाइकल करके कुर्सियां या कुशन तैयार करती है। जिससे अखबार भी वेस्ट नहीं जाती और कुर्सियां बनाने के लिए लकड़ी भी बर्बाद होने से बच जाती है।

PunjabKesari

लकड़ी या कांच के लैंप की बजाए बचे-कुचे कपड़ों को जोड़कर एक रंगदार लैंप बनाया जा सकता है।

PunjabKesari

शहरी अपशिष्ट और पुराने पदार्थ जैसे कपड़ा,अपशिष्ट रस्सियां और टायरों के साथ कुर्सियां, चार्पेस,कुशन, झूलें, और टोकरियां बनाई जा सकती है।

PunjabKesari

टांगने वाले लैंप को भी काफी पुरानी चीजों के साथ तैयार किया जा सकता है। जैसे कि पुराने कार्डबोर्ड या फिर बिजली की खराब हो चुकी तारें या फिर 5-7 बल्ब को एक लंबी तार लगाकर भी लैंप की तरह इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। 

PunjabKesari

LED लाइट्स दूसरी ट्यूब की जगह 80 प्रतिशत तक कम खपत करती हैं। ऐसे में पर्यावरण को बचाने के इच्छुक घर में LED बल्ब का इस्तेमाल करें।

PunjabKesari

रीड, घास, जूट, सीसल आदि से बने प्राकृतिक कालीन नवीकरणीय पादप सामग्रियों से बने होते हैं जो पर्यावरण को कोई नुकसान नहीं पहुंचाते हैं।

PunjabKesari

लाइफस्टाइल से जुड़ी लेटेस्ट खबरों के लिए डाउनलोड करें NARI APP

Related News

From The Web

ad