23 JULTUESDAY2024 5:43:08 PM
Nari

Sawan के आखिरी सोमवार में ऐसे करें भोलेनाथ की पूजा, सुख- सौभाग्य में होगी वृद्धि

  • Edited By Charanjeet Kaur,
  • Updated: 27 Aug, 2023 06:57 PM
Sawan के आखिरी सोमवार में ऐसे करें भोलेनाथ की पूजा, सुख- सौभाग्य में होगी वृद्धि

सावन का महीना शिवजी को बहुत प्रिय है। 4 जुलाई को शुरु हुआ ये पावन मास 31 अगस्त को समाप्त हो जाएगा। इस बार सावन 2 महीने का था, इसलिए 8 सोमवार का संयोग बना है। सावन का आखिरी सोमवार 28 अगस्त को है। इस महीने का हर एक सोमवार शिव भक्तों के लिए बहुत खास माना जाता है। इस दिन शिव भक्त व्रत रखते हैं और विधि पूर्वक पूजा करते हैं। मान्यता है कि सासन के सोमवार का व्रत रखने और पूजा करने से जीवन की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। ऐसे में महादेव को प्रसन्न करने के लिए भक्तों के पास सिर्फ एक सोमवार बचा हुआ है। इसलिए इस दिन आपको विशेष पूजा करनी चाहिए। आइए आपको बताते हैं सावन के आखिरी सोमवार में शिवजी को कैसे प्रसन्न करें...

PunjabKesari

आखिरी सावन सोमवार 28 अगस्त को 

इस सास सावन का 8 वां और आखिरी सोमवार 28 अगस्त को है। इस दिन खास संयोग बन रहे हैं। सावन के आखिरी सोमवार पर सावन पुत्रदा एकादशी व्रत का पारण होगा, साथ ही इसी दिन सोम प्रदोष व्रत का संयोग भी बन रहा है।

आठवां सावन सोमवार 2023 मुहूर्त
पंचांग के अनुसार 28 अगस्त को शाम 06 बजकर 22 मिनट तक सावन माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि है। इसके बाद त्रयोदशी तिथि की शुरुआत हो जाएगी। ऐसे में आप सुबह सावन सोमवार व्रत की पूजा के साथ ही शाम को प्रदोष व्रत की पूजा भी कर सकते हैं। इस दिन सुबह पूजा का मुहूर्त 09 बजकर 09 से दोपहर 12 बजकर 23 मिनट तक है। इसके बाद प्रदोष काल में पूजा का मुहूर्त शाम 06 बजकर 48 मिनट से रात 09 बजकर 02 तक है।

PunjabKesari

ऐसे करें महादेव की पूजा

- सावन के आखिरी सोमवार पर सुबह स्नान के बाद व्रत और शिवजी की पूजा का संकल्प लें। सुबह शुभ मुहूर्त में किसी शिव मंदिर में जाकर या घर ही शिवलिंग की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करें।

PunjabKesari

- फिर गंगाजल या दूध से शिवजी का अभिषेक करें। इसके बाद भगवान शिव शम्भू को चंदन, अक्षत, सफेद फूल, बेलपत्र, भांग की पत्तियां, शमी के पत्ते, धतूरा, भस्म और फूलों की माला अर्पित करें।

- भोलेनाथ को शहद, फल, मिठाई, शक्कर, धूप- दीप अर्पित करें। फिर शिव चालीस का पाठ और सोमवार व्रत कथा का पाठ करें। आखिर में शिवलिंग के समक्ष घी का दीपक जलाएं और भोलेनाथ की आरती करें।


 

Related News