25 MAYWEDNESDAY2022 6:44:09 AM
Nari

पद्मश्री पुरस्कार पाने वाली  माधुरी बर्थवाल बोली-  मुझे वर्षों की तपस्या का मिल गया फल

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 27 Jan, 2022 10:30 AM
पद्मश्री पुरस्कार पाने वाली  माधुरी बर्थवाल बोली-  मुझे वर्षों की तपस्या का मिल गया फल

कला और संस्कृति के क्षेत्र में पदमश्री पुरस्कार से सम्मानित हुई माधुरी बर्थवाल ने कहा कि उन्हें जीवन भर की तपस्या का फल मिला है। उत्तराखंड के लोक संगीत के संरक्षण और प्रचार के लिए सालों से लगातार काम कर रहीं माधुरी को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें गणतंत्र दिवस के खास मौके पर यह सम्मान मिला। 

 

 संगीत मानव जाति को एकता के सूत्र में बांधती है

यह सम्मान मिलने के बाद बर्थवाल ने कहा- जब मुझे पता चला कि मुझे पद्मश्री से सम्मानित किया जा रहा है तो मैं बहुत खुश हुई। मुझे लगा कि मेरी इतने वर्षों की तपस्या सफल हुई और आखिरकार उसका फल मिला। उन्होंने कहा कि संगीत में वह ताकत है जो सम्पूर्ण मानव जाति को एकता के सूत्र में बांधती है।  संगीत के मंच पर न कोई जाति देखी जाती है न ही कोई धर्म।


गणतंत्र दिवस के मौके पर मिला सम्मान

गढ़वाली गीतों में राग- रागनियां विषय पर शोध कर चुकी बर्थवाल ने कहा कि उन्हें यह पुरस्कार उनके द्वारा हजारों, उत्तराखंडी लोकगीतों का संरक्षण और उनका संवर्द्धन करने के लिए दिया गया है। कला और संगीत के क्षेत्र में पद्मश्री पुरस्कार पाने वाली से बर्थवाल का जन्म पौड़ी के यमकेश्वर ब्लॉक के गांव चाई दमराड़ा में 10 जून 1950 को हुआ। 


पहले भी कई पुरस्कार कर चुकी हैं अपने नाम 

बर्थवाल ने सैकड़ों गढ़वाली, कुमाऊँनी, जौनसारी तथा रुहलखंडी गीतों का संरक्षण किया है। कोविड के दौरान बर्थवाल ने गढ़वाली लोक संगीत पर पांच पुस्तकें लिखीं हैं। इससे पहले 2018 में उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार, नारी शक्ति पुरस्कार, उत्तराखंड रत्न और उत्तराखंड भूषण सहित अन्य पुरस्कार भी मिल चुके हैं।
 

Related News