24 JULWEDNESDAY2024 11:55:41 AM
Nari

बिस्तर के पास फोन चार्ज करने की गलत आदत सुधार लो, नहीं तो एक-एक अंग हो जाएगा खराब !

  • Edited By vasudha,
  • Updated: 11 Aug, 2023 02:54 PM
बिस्तर के पास फोन चार्ज करने की गलत आदत सुधार लो, नहीं तो एक-एक अंग हो जाएगा खराब !

स्मार्टफोन की लत कुछ लोगों पर इस कदर हावी हो गई है कि वह इसके बीना एक पल नहीं रह सकते। अपने फोन के बीना उन्हें अधूरा- अधूरा लगता है, कुछ लोगों का तो यह हाल है कि उन्हें फोन को यूज किए बीना नींद ही नहीं आती। सुबह उठते ही सबसे पहले वह अपने फाेन को ही ढूंढते हैं, इसलिए वह इस अपने तकिए के नीचे रखकर सोते हैं। अगर आप भी इस तरह की गलती कर रहे हैं तो अभी भी वक्त है सुधर जाओ नहीं तो सारी उम्र पछताना पड़ेगा।


क्या कहना है वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन

कुछ लोगों की आदत होती है कि वह मोबाइल को अपने सिर के पास ही चार्ज करते हैं। फोन को तकिए के नीचे रखकर सोने से बहुत सारे नुकसान हो सकते हैं। इसे लेकर वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने भी कई शोध किए हैं। लोगों को सचेत करने के लिए एक वीडियो सेशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है, जिसमें बताया गया है कि सिर के पास मोबाइल चार्ज करने से क्या- क्या नुकसान हो सकता है।

PunjabKesari

चार्जिंग रेडिएशन डालते हैं असर

इस वीडियो में एक लड़की को बेड पर सुलाया गया है और उसके पास मोबाइल फोन को चार्ज में लगा दिया गया है। उसकी बॉडी की हलचल को मॉनिटर करने के लिए उसके हाथों में कुछ मशीन्स लगई गई है। वीडियो में देख सकते है जैसे ही मोबाइल का चार्जर ऑन हुआ तो उस लड़की की बॉडी इन चार्जिंग रेडिएशन से प्रभावित हुई। दरसअल मोबाइल चार्ज के समय निकलने वाले रेडियो वेव्स बॉडी को डैमेज कर सकते हैं। 

PunjabKesari
नींद में भी आती है खलल

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने अपने शोध में पाया था कि मोबाइल को तकिए के नीचे रखकर सोने से रेडियो फ्रीक्वेंसी हमेशा आपके पास रहती है जो नींद में भी खलल पैदा कर सकती है और इसका खतरनाक रेडिएशन भी दिक्कत पैदा कर सकता है। ऐसे में एडल्ट्स की तुलना में बच्चों के स्कैल्प और स्कल ज्यादा पतले होते हैं और उन्हें रेडिएशन से ज्यादा नुकसान पहुंचता है।

PunjabKesari
 ट्यूमर का भी रहता है खतरा

कई रिपोर्ट्स तो यह भी कहती है कि  मोबाइल फोन रेडिएशन आपके प्रोडक्टिव सिस्टम को प्रभावित कर स्पर्म काउंट कम कर सकता है। यानि अगर आप मर्द हैं तो आपके पिता बनने की क्षमता पर भी स्मार्ट फोन का रेडिएशन भयानक असर डाल सकता है। इसके साथ ही इससे ट्यूमर होने की संभावना रहती है। ऐसे में सलाह दी जाती है कि फोन को  कम से कम तीन फीट की पर रखकर इसके गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

Related News