04 AUGTUESDAY2020 5:06:38 AM
Nari

Coronavirus: तीसरे नंबर पर पहुंचा भारत, 2021 तक बढ़ सकते हैं मामले

  • Edited By Anjali Rajput,
  • Updated: 06 Jul, 2020 01:58 PM
Coronavirus: तीसरे नंबर पर पहुंचा भारत, 2021 तक बढ़ सकते हैं मामले

कोरोना वायरस को रोकने की तमाम कोशिशों के बावजूद भी यह बीमारी तेजी से फैल रही है। 1 फरवरी को, जब कोविड -19 पहली बार सामने आया तब WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) ने 2,115 नए मामलें काउंट किए थे लेकिन 28 जून तक यह संख्या 190,000 तक पहुंच गई। बता दें कि 1 फरवरी को सामने आने वाले कोरोना के मामले हर 90 मिनट में काउंट किए गए थे।

दुनिया में नहीं आई कोरोना की दूसरी लहर

दुनिया की 90% से अधिक आबादी अभी भी संक्रमण की चपेट में है। लैटिन अमेरिका और दक्षिण एशिया में कोरोना के सबसे अधिक मामले देखने को मिल रहे हैं। मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की एक टीम ने 84 देशों में शोध के आधार पर कहा कि प्रत्येक दर्ज मामले में 12 अनियंत्रित हो जाते हैं और हर दो कोविड -19 मरीज की मौत हो जाती है। वहीं तीसरे को अन्य कारणों से गलत पहचान होती है। यही वजह है कि देशभर में कोरोना की रोकथाम करनी मुश्किल हो रहा है।

बढ़ सकते हैं मामले

एक चिकित्सक के मुताबिक, कोरोना मरीजों की संख्या वंसत 2021 तक 200m - 600m बढ़ सकती है। उस बिंदु पर, 1.4m और 3.7m लोगों के बीच मृत्यु की आशंका जताई जा रही है। बीमारी के परिणाम इस बात पर निर्भर करते हैं कि देश कोरोना से किस तरह लड़ रहा है।

कैसे होगा कोरोना से बचाव?

एपिडेमियोलॉजिस्ट के मुताबिक कोरोना को रोकने के लिए लोगों को अपने घर अंदर रहना चाहिए। खासकर बीमारी लोगों को क्योंकि उन्हें इसका खतरा अधिक है। उनके मुताबिक कोरोना के खतरे को 3 तरीके से खत्म किया जा सकता है जांच (Testing), ट्रेसिंग (Tracing) और आइसोलेशन (Isolation)। अगर ऐसा नहीं हो पाता तो सिर्फ लाकडाउन ही कोरोना को रोकने का जरिया है। हालांकि मुंबई में 850,000 लोगों की झुग्गी धारावी ने प्रकोप को खत्म कर दिया। वहीं, यूरोप में अभी इसका खतरा ओर भी बढ़ सकता है।

लक्षण दिखने पर घबराए नहीं 

लोगों में वायरस को लेकर इतना डर बैठ गया है कि वो मामूली लक्षणों को भी कोरोना समझ लेते हैं। मगर, सांस लेने में तकलीफ, सर्दी-खांसी होने पर घबराएं नहीं। सबसे पहले तो मरीज को ऑक्सीजन दें और फिर डॉक्टर से जांच करवाएं।

गौरतलब है कि देश में अब तक कोरोना के 2,53,287 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं करीब 4,24,433 लोग कोरोना से रिकवर भी कर चुके हैं। वहीं भारत की बात करें तो कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से वो दूसरे नंबर पर पहुंच गया है।

Related News